अयोध्या कैसे बना फैजाबाद, और फैजाबाद से फिर कैसे हुई अयोध्या

सरयू नदी के किनारे बसी अयोध्या एक बार फिर सुर्खियों में है. एक दौर में अयोध्या कौशल राज्य की राजधानी हुआ करती थी, लेकिन नवाबों के दौर में फैजाबाद की नींव पड़ी और अवध रियासत की राजधानी बनी. इसके बाद 2018 में उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया है.

अयोध्या में शहर (फोटो-india Today)
कुबूल अहमद
  • नई दिल्ली,
  • 09 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 8:32 AM IST

  • अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला
  • अयोध्या कौशल राज्य की राजधानी थी
  • नवाबों के दौर में फैजाबाद की नींव पड़ी

अयोध्या के राममंदिर-बाबरी मस्जिद मामले के फैसले का सभी को इंतजार है, जिस पर सुप्रीम कोर्ट शनिवार को सुबह 10.30 बजे अपना फैसला सुनाएगा. ऐसे में सरयू नदी के किनारे बसी अयोध्या एक बार फिर सुर्खियों में है. एक दौर में अयोध्या कौशल राज्य की राजधानी हुआ करती थी, लेकिन नवाबों के दौर में फैजाबाद की नींव पड़ी और अवध रियासत की राजधानी बनी. इसके बाद 2018 में उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया.

महाकाव्य रामायण के अनुसार राम का जन्म अयोध्या में हुआ था. अयोध्या की स्थापना प्राचीन भारतीय ग्रंथों के आधार पर ई.पू. 2200 के आसपास माना जाता है. इस वंश में राजा रामचंद्रजी के पिता दशरथ 63वें शासक थे. अयोध्या का महत्व इस बात में भी निहित है कि जब भी प्राचीन भारत के तीर्थों का उल्लेख होता है तब उसमें सर्वप्रथम अयोध्या का ही नाम आता है. 'अयोध्या मथुरा माया काशि कांची ह्य्वान्तिका, पुरी द्वारावती चैव सप्तैता मोक्षदायिका.' बौद्ध मान्यताओं के अनुसार बुद्ध देव ने अयोध्या अथवा साकेत में 16 सालों तक निवास किया था. रामानंदी संप्रदाय का मुख्य केंद्र अयोध्या ही हुआ.

पढ़ें, Ayodhya Verdict Live Updates: अयोध्या पर कुछ देर बार सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला...

फैजाबाद शहर की नींव उस समय रखी गई थी जब नवाबों का शासन उभार पर था. नवाब सफदरजंग ने 1739-54 में इसे अपना सैन्य मुख्यालय बनाया. इसके बाद आए शुजाउद्दौला ने फैजाबाद में किले का निर्माण कराया. यह वह दौर था जब यह शहर अपनी बुलंदियों पर था. शुजाउद्दौला का समय एक तरह से फैजाबाद के लिए स्वर्णकाल कहा जा सकता है. शुजाउद्दौला ने फैजाबाद को अवध की राजधानी बनाया.

इसी दौरान फैजाबाद ने जो समृद्धि हासिल की वैसी दोबारा नहीं कर सका. उस दौर में यहां कई इमारतों का निर्माण हुआ जिनकी निशानियां आज भी मौजूद हैं. शुजाउद्दौला की पत्नी बहू बेगम मोती महल में रहती थीं जहां से पूरे फैजाबाद का नजारा दिखाई देता था. इसके बाद 1775 में नवाब असफउद्दौला ने अपनी राजधानी फैजाबाद से बदलकर लखनऊ कर ली थी.  

राम मंदिर आंदोलन ने अयोध्या को विश्व के पटल पर ला दिया था. हिंदू संतों का तर्क हुआ करता था कि जहां राम का जन्म हुआ उस नगरी का नाम भी अगर हम नहीं बदल सके तो हमें धिक्कार है. संत समाज योगी आदित्यनाथ से जो बड़ी अपेक्षा कर रहा था वह भले ही पूरी न हुई हो, लेकिन उनकी एक मांग तो 2018 में पूरी पूरी हुई. इस तरह योगी आदित्यनाथ ने फैजाबाद जिले का नाम बदलकर अयोध्या कर दिया.

Read more!

RECOMMENDED