भोपाल नगर निगम बंटवारे का प्रज्ञा ठाकुर ने किया विरोध, कहा- बिगड़ेगा सांप्रदायिक सौहार्द

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के नगर निगम को दो भागों में बांटे जाने की तैयारी के बीच सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने इस निर्णय को गलत बताया है. प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि विभाजन से किसी समुदाय को लाभ दिया जाना पूरे भोपाल की जनता और प्रजातंत्र के खिलाफ है.

भोपाल नगर निगम विभाजन का प्रज्ञा ठाकुर ने किया विरोध (फाइल फोटो-IANS)
रवीश पाल सिंह
  • भोपाल,
  • 18 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 7:38 AM IST

  • भोपाल के नगर निगम को दो भागों में बांटे जाने की तैयारी है
  • नगर निगम का विभाजन भोपाल की जनता के खिलाफ-साध्वी

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के नगर निगम को दो भागों में बांटे जाने की तैयारी के बीच सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने इस निर्णय को गलत बताया है. प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा है कि विभाजन से किसी समुदाय को लाभ दिया जाना पूरे भोपाल की जनता और प्रजातंत्र के खिलाफ है.

दरअसल, भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने भोपाल नगर निगम को दो भागों में बांटने से पहले लोगों से राय मांगी है. इसी के तहत सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कलेक्टर तरुण पिथोड़े को पत्र लिख विभाजन पर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है.

कलेक्टर को भेजे पत्र में सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने लिखा है कि भोपाल मध्य प्रदेश की राजधानी है. भोपाल नगर निगम के 85 वार्डों को विभाजित कर छोटे दो निगम बनाए जाने से किसी समुदाय को लाभ दिया जाना भोपाल की जनता तथा प्रजातंत्र के खिलाफ है.

सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ेगा: साध्वी प्रज्ञा

साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने चिंता जताते हुए लिखा, 'भोपाल शहर सांप्रदायिक सौहार्द के प्रतीक के रूप में देखा जाता है. निगम के विभाजन से सांप्रदायिक सौहार्द भी बिगड़ेगा. वैमनस्यता फैलेगी.' वहीं 'केंद्र सरकार द्वारा भोपाल के विकास के लिए अलग-अलग योजनाओं में दी जाने वाली धनराशि का समुचित इस्तेमाल नहीं हो सकेगा.'

साध्वी ने आशंका जताई है कि भोपाल नगर निगम को दो भागों में विभाजित करने से भोपाल मेट्रो, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, अमृत योजना, सार्वजनिक स्वास्थ्य सुरक्षा, सीवेज समेत कई योजनाएं अधर में लटक जाएंगी जिससे जनमानस प्रभावित होगा.'

भोपाल के विभाजन की शुरुआत: साध्वी प्रज्ञा

सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा, 'नगर निगम का दो भागों में बांटा जाना भोपाल शहर के विभाजन की शुरुआत होगी. साथ ही संप्रदाय, झील, पार्क, शहर की धरोहर, धार्मिक एवं सांस्कृतिक स्थल सब के विकास का अलग-अलग मापदंड हो जाएगा. जबकि इंदौर नगर निगम भोपाल से कहीं ज्यादा बड़ा है लेकिन उसे भी दो भागों में विभाजित नहीं किया जा रहा है. कुछ निहित स्वार्थ के कारण भोपाल नगर निगम को दो भागों में विभाजित करने की कार्रवाई अनुचित है.'

पत्र के अंत में साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने लिखा है, 'भोपाल नगर निगम का विभाजन संविधान के विरुद्ध है. मैं भोपाल की सांसद एवं जनप्रतिनिधि होने के नाते भोपाल नगर निगम को दो भागों में बांटे जाने का पुरजोर विरोध करती हूं एवं अपनी आपत्ति दर्ज कराती हूं.'

दरअसल भोपाल में दो नगर निगम बनाने का ड्राफ्ट कलेक्टर तरुण पिथोड़े ने जारी कर दिया है. बीजेपी ने शुरू से ही कांग्रेस सरकार पर आरोप लगाती रही है कि वोट बैंक के लिए भोपाल को बांटा जा रहा है.

Read more!

RECOMMENDED