झारखंड: तीसरे चरण के चुनाव में बाबूलाल मरांडी-सुदेश महतो समेत कई दिग्गज मैदान में

झारखंड विधानसभा चुनाव के तीसरे चरण में बीजेपी, महागठबंधन, आजसू और जेवीएम के कई हाई प्रोफाइल नेताओं की साख दांव पर लगी है. इनमें पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और आजसू सुप्रीमो पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो के लिए अग्निपरीक्षा है तो रघुवर सरकार के मंत्री नीरा यादव और सीपी सिंह के सामने भी सियासी जंग फतह करने की चुनौती है.

आजसू प्रमुख सुदेश महतो, जेवीएम अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी
कुबूल अहमद
  • नई दिल्ली,
  • 12 दिसंबर 2019,
  • अपडेटेड 8:55 AM IST

  • झारखंड की 17 सीटों पर वोटिंग जारी
  • तीसरे चरण में पांच हाई प्रोफाइल सीटें

झारखंड विधानसभा चुनाव में तीसरे चरण की 17 सीटों पर वोटिंग जारी है. इस चरण में 309 उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं. इस चरण में बीजेपी, महागठबंधन, आजसू और जेवीएम के कई हाई प्रोफाइल नेताओं की साख दांव पर लगी है. इनमें पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी और आजसू सुप्रीमो पूर्व उपमुख्यमंत्री सुदेश महतो के लिए अग्निपरीक्षा है तो रघुवर सरकार के मंत्री नीरा यादव और सीपी सिंह के सामने सियासी जंग फतह करने की चुनौती है.

मरांडी के सामने जीतने की चुनौती

धनवार विधानसभा सीट से जेवीएम प्रमुख और पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी मैदान में उतरने से यह सीट काफी हाई प्रोफाइल मानी जा रही है. जेवीएम प्रमुख के खिलाफ बीजेपी ने आईजी रहे लक्ष्मण प्रसाद सिंह को मैदान में उतारकर मुकाबले को दिलचस्प बना दिया है. जबकि, जेएमएम से निजामुद्दीन अंसारी और माले से राजकुमार यादव मैदान में हैं.  इसके चलते माले को अपना गढ़ बचाने के लिए मशक्कत करनी पड़ रही है तो मरांडी को जीतने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ रही है. बाबूलाल मरांडी पिछले चुनाव में दो सीटों से मैदान में लड़े थे, लेकिन जीत नहीं सके.

सुदेश महतो के सियासी भविष्य का संकट

सिल्ली विधानसभा सीट से तीन बार विधायक रहे सुदेश महतो एक बार फिर चुनावी मैदान में उतरे हैं. इसके चलते यह सीट काफी हाई प्रोफाइल मानी जा रही है. सुदेश महतो के खिलाफ बीजेपी ने अपना प्रत्याशी न देकर भले ही राहत दी हो, लेकिन जेएमएम ने एक बार फिर सीमा महतो को उतारा है. इससे सुदेश महतो के लिए यह सीट जीतना एक बड़ी चुनौती बन गई है.

बता दें कि पिछली बार 2014 में विधानसभा का चुनाव आजसू प्रमुख सुदेश महतो जेएमएम के अमित महतो से करीब 29 हजार मतों से हार गए थे. अमित महतो के सजायाफ्ता हो जाने के कारण यह सीट एक बार फिर खाली हुई और उपचुनाव में सुदेश महतो को एक बार फिर हार का मुंह देखना पड़ा था. उपचुनाव में उन्हें अमित महतो की पत्नी सीमा महतो ने हराया था. सुदेश महतो के सामने इस बार फिर जेएमएम विधायक सीमा महतो मैदान में हैं, जिसके चलते यहां के सियासी संग्राम को भी कांटे का माना जा रहा है.

सीपी सिंह के सामने डबल हैट्रिक की चुनौती

रांची विधानसभा के चुनावी घमासान में इस बार पांच बार के विधायक रहे नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के लिए सियासी राह काफी कठिन मानी जा रही है. सीपी सिंह के खिलाफ जेएमएम ने महुआ मांझी और आजसू ने वर्षा गाड़ी को मैदान में उतारा है. महुआ मांझी साहित्यकार और महिला आयोग की अध्यक्ष रही हैं. पिछले चुनाव में हार गई थीं, लेकिन इस बार बदले हुए सियासी समीकरण में महुआ मांझी ने सीपी सिंह के सामने मजबूत चुनौती पेश की है.

नीरा यादव के खिलाफ विपक्ष की घेराबंदी

कोडरमा विधानसभा सीट पर रघुवर दास सरकार में शिक्षा मंत्री नीरा यादव एक बार फिर बीजेपी से चुनावी मैदान में उतरी हैं. इसके चलते यह सीट काफी हाई प्रोफाइल मानी जा रही है. नीरा यादव के खिलाफ विपक्ष ने जबरदस्त घेराबंदी की है. आरजेडी ने बाबू लाल चौधरी को मैदान में उतारा है, जिन्हें कांग्रेस और जेएमएम का समर्थन हासिल है. जबकि, बीजेपी की सहयोगी रही आजसू ने शालिनी गुप्ता को मैदान में उतारकर नीरा यादव की मुश्किलें बढ़ा दी हैं. यही वजह है कि नीरा यादव को इस सीट पर जीत के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है.

सुनीता चौधरी के सामने पति की सीट बचाने का संकट

रामगढ़ विधानसभा सीट चंद्रप्रकाश चौधरी जीतकर मंत्री बनते रहे हैं, लेकिन 2019 के चुनाव में गिरिडीह संसदीय सीट से जीतकर वो सांसद बन गए. ऐसे में इस बार के चुनाव में रामगढ़ सीट पर चंद्रप्रकाश चौधरी की पत्नी सुनीता चौधरी आजसू के टिकट पर भाग्य आजमा रही हैं. गठबंधन टूट जाने के कारण बीजेपी ने भी यहां से उम्मीदवार दिया है. बीजेपी ने रणंजय सिंह को प्रत्याशी बनाया है जबकि, कांग्रेस से ममता देवी मैदान में है, जिन्हें जेएमएम और आरजेडी का समर्थन हासिल है.

Read more!

RECOMMENDED