गूगल का डूडल 'अनसूया साराभाई' को समर्पित, जानें इनके बारे में....

अनसूया साराभाई के 132वें जन्मदिन से पर गूगल ने डूडल उनके नाम समर्पित किया है.वह एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं, जो मजदरों के हक के लिए ताउम्र लड़ती रहीं...

Google Doodle on Anasuya Sarabhai
अनुज शुक्ला
  • ,
  • 11 नवंबर 2017,
  • अपडेटेड 9:20 AM IST

गूगल अपने डूडल के जरिए दुनिया भर की महान हस्तियों को याद करता है. आज सर्च इंजन गूगल ने अनसूया साराभाई के 132वें जन्मदिन पर डूडल उनको समर्पित किया है. वह एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं, उन्हें बुनकरों और टेक्सटाइल उद्योग में मजदूरों की लड़ाई लड़ने के लिए भी जाना जाता है.

साल 1920 में उन्होंने मजदूरों के हक की लड़ाई लड़ने के लिए 'मजूर महाजन संघ' की स्थापना की थी, जो भारत के टेक्स्टाइल मजदूरों की सबसे पुरानी यूनियन है.

400 साल पुराना है केदारनाथ मंदिर का इतिहास, खास पत्थरों से हुआ निर्माण

अनसूया साराभाई का जन्म 11 नवंबर 1885 को अहमदाबाद में हुआ था. उन्हें मोटाबेन (बड़ी बहन) के नाम से भी जाना जाता है. उन्होंने महिलाओं को समानता और न्याय दिलाने के जीवन भर काम किया. आज गूगल ने उनके जन्मदिवस पर डूडल समर्पित किया है, जिससे कि पूरा भारत और विश्व इनके बारे में जान सके.

उन्होंने मजदूरों को अपने हक की लड़ाई लड़ने के लिए भी प्रेरित किया. साथ वह मजदूरों के समर्थन में हमेशा खड़ी रही. इसके लिए उन्होंने कई मील मालिकों का विरोध किया. बताया जाता है कि उन्होंने अपने भाई का भी विरोध किया था, जो एक मिल मालिक थे. साराभाई का मकसद था कि 'मजदूरों को सही मजदूरी मिले, जिनके वह हकदार है'. साथ ही उन्होंने शिक्षा पर भी जोर दिया.

ताजमहल से जुड़े 6 ऐसे अफवाह, जिसे दुनिया मानती है सच!

अनसूया के पिता उद्योगपति थे. जब वह 9 साल की थी, तब उनके पिता का निधन हो गया था. महज 13 साल की उम्र में उनका बाल विवाह हो गया, जो लंबे समय तक नहीं चल पाया. उन्हें अपनी जिंदगी में कुछ करना था, वह खुद को चार दीवारों में बांध कर नहीं रखना चाहती थी. साल 1912 में अपने भाई की मदद से वह मेडिकल की डिग्री लेने के लिए इंग्लैंड चली गईं लेकिन बाद में उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ इकनॉमिक्स में दाखिला ले लिया.

भारत का ये वित्त मंत्री बना था पाकिस्तान का पहला प्रधानमंत्री

उन्होंने सामाजिक कार्यों में अपना जीवन समर्पित कर दिया था. जब वह भारत लौटीं, तब उन्होंने एक स्कूल खोला. इस दौरान जब उन्होंने 36 घंटे की शिफ्ट के बाद थककर चूर मील की महिला मजदूरों को घर लौटते देखा तो उन्होंने मजदूर आंदोलन करने का फैसला ले लिया.

साल 1914 में उन्होंने अहमदाबाद में हड़ताल के दौरान टेक्स्टाइल मजदूरों को संगठित करने में मदद की. बुनकर अपनी मजदूरी में 50 फीसदी बढ़ोतरी की मांग कर रहे थे लेकिन उनको सिर्फ 20 फीसदी बढ़ोतरी दी जा रही थी, जिससे असंतुष्ट होकर बुनकरों ने हड़ताल करने के लिए खड़े हो गए.

इसके बाद गांधी जी ने भी मजदूरों की ओर से हड़ताल करना शुरू कर दिया. उन्होंने जिंदगी भर दूसरों की मदद की. साल 1972 में अनसूया साराभाई दुनिया को अलविदा कह दिया था.

Read more!

RECOMMENDED