गुजरात: दलित सरपंच के पति की हत्या, 6 लोगों ने पीट-पीट कर मार डाला

फोन पर ही मांजीभाई ने बताया कि उनकी मोटरसाइकिल को एक गाड़ी ने टक्कर मार दी, उसके बाद 5-6 लोग आए और उनके साथ मारपीट की. लोगों ने उन्हें लाठी-डंडों से मारा. मांजीभाई, रणपुर तालुका के जलिया गांव की सरपंच गीता सोलंकी के पति हैं.

प्रतीकात्मक फोटो
गोपी घांघर
  • अहमदाबाद,
  • 20 जून 2019,
  • अपडेटेड 10:47 AM IST

गुजरात में एक बार फिर दलित व्यक्ति की हत्या का मामला सामने आया है. यहां रणपुर-बरवाला सड़क से गुजर रहे दलित सरपंच के पति को 6 लोगों ने पीट-पीट कर मार डाला. ये मामला बुधवार का ही है. 51 साल के मांजीभाई सोलंकी को लोगों ने इतना मारा की वह बुरी तरह घायल हो गया, जिसके बाद मांजीभाई ने किसी को फोन कर ये सूचना दी लेकिन बाद में उन्होंने दम तोड़ दिया.

फोन पर ही मांजीभाई ने बताया कि उनकी मोटरसाइकिल को एक गाड़ी ने टक्कर मार दी, उसके बाद 5-6 लोग आए और उनके साथ मारपीट की. लोगों ने उन्हें लाठी-डंडों से मारा. मांजीभाई, रणपुर तालुका के जलिया गांव की सरपंच गीता सोलंकी के पति हैं.

जब सोलंकी को अहमदाबाद के सिविल अस्पताल में ले जाया गया, तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित किया. सोशल मीडिया पर इस घटना का एक वीडियो भी वायरल हो रहा है, जिसमें मांजीभाई सोलंकी सड़क पर घायल अवस्था में पड़े हुए हैं. और उनके रिश्तेदार उन्हें अस्पताल ले जाने की कोशिश कर रहे हैं.

इसी वीडियो में वह खुद कह रहे हैं, ‘जब वह मोटरसाइकिल पर जा रहे थे, तब एक गाड़ी ने उन्हें टक्कर मार दी. बाद में 5-6 लोगों ने उन्हें लाठी-डंडों से पीटा.’

बता दें कि पिछले साल मांजीभाई सोलंकी और उनकी पत्नी ने पुलिस से सुरक्षा देने की मांग की थी. जिसमें उन्होंने कहा था कि काठी दरबार समुदाय (OBC) के कुछ लोग उन्हें नुकसान पहुंचा सकते हैं.

2018 जून में उन्होंने इस मसले पर राज्य के लॉ एंड ऑर्डर डीजीपी को चिट्ठी भी लिखी गई थी. जिसमें उन्होंने दावा किया था कि उनके परिवार को जान से मारे जाने का खतरा है, यही कारण है कि उन्हें पुलिस सुरक्षा की जरूरत है. हालांकि, उन्होंने लिखा था कि दो महीने के लिए उन्हें पुलिस सुरक्षा मिली थी लेकिन बाद में छीन ली गई.

Read more!

RECOMMENDED