कोरोना का कहरः अगर नहीं बन पाई जानलेवा वायरस की वैक्सीन तो कैसी होगी दुनिया?

सोच के ही डर लगता है कि जिस कोरोना वायरस ने 5 महीने के वक्त में करीब 50 लाख लोगों को अपना शिकार बना लिया और करीब 3 लाख लोगों को बेवक्त मौत की नींद सुला दिया. अगर उसका इलाज ना किया गया तो ये आगे और कितना कहर ढाएगा.

कोरोना की दवा बनाने के लिए कई देशों के वैज्ञानिक और डॉक्टर रात-दिन रिसर्च कर रहे हैं
शम्स ताहिर खान/परवेज़ सागर
  • नई दिल्ली,
  • 18 मई 2020,
  • अपडेटेड 3:45 PM IST

  • क्या हमें मौत के साथ जीना सीखना होगा
  • कई वायरस की दवा आज तक नहीं बनी
  • बिना वैक्सीन के कैसे चलेगी ये दुनिया?

आज दुनिया के हालात पर नजर कीजिए और तसव्वुर करिए कि अगर कोरोना की वैक्सीन बनी ही नहीं तो क्या होगा. ये कोरी कल्पना नहीं बल्कि वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानी डब्ल्यूएचओ का डर है जो बार-बार निकलकर सामने आ रहा है. और ये डर तब है जब दुनिया में 100 से ज्यादा वैक्सीन पर ट्रायल जारी है.

यानी कुछ तो है जो डब्ल्यूएचओ को डरा रहा है. और डरा रहा है उस दुनिया को जो पहले से डर कर घरों में कैद है. सोच के ही डर लगता है कि जिस कोरोना वायरस ने 5 महीने के वक्त में करीब 50 लाख शिकार बना लिए और करीब 3 लाख लोगों को बेवक्त मौत की नींद सुला दिया. अगर उसका इलाज ना किया गया तो ये आगे और कितना कहर ढाएगा.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्लिक करें

करीब 5 महीने की तबाही हो जाने के बाद भी दुनियाभर के वैज्ञानिक इस वायरस को समझ नहीं पाए हैं. इसलिए दवा बनाने की बात कई बार बेमानी नजर आती है. क्योंकि दुनिया में आज भी कई ऐसे वायरस मौजूद हैं, जिनकी दवा आज तक बनी ही नहीं है.

हैरानी की बात ये है कि कोरोना वायरस को जब-जब डिकोड किया जाता है, तो वो एक नया रूप बना लेता है. जब उसे डिकोड किया जाता है तो वो एक और नया रूप धर लेता है. पूरी दुनिया के कई काबिल डॉक्टर और वैज्ञानिक लगातार इसकी दवा बनाने में जुटे हैं. लेकिन ये काम इतना भी आसान नहीं है. दुनिया के 80 देशों की 100 से ज्यादा लैब्स में कोरोना की वैक्सीन बनाने की कवायद चल रही है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

WHO के कोरोना विशेषज्ञ डॉक्टर डेविड नेबारो का कहना है कि इस वायरस की दवा आने में बहुत लंबा वक्त लग सकता है. HIV और मलेरिया की तरह ही ये तेजी से नहीं बढ़ता लेकिन ये मानकर चलिए कि दवा आने में एक साल से डेढ़ साल तक लग सकता है. और ये भी मुमकिन है कि इस वायरस की दवा कभी बन ही ना पाए. ऐसे में पूरी दुनिया को हमेशा लॉकडाउन में नहीं रखा जा सकता.

Read more!

RECOMMENDED