जानिए- मूंगे की माला कब पहननी चाहिए और क्या है इसका महत्व

मूंगा सुख समृद्धि का प्रतीक होता है. मूंगे की माला पहनने से सुख समृद्धि बढ़ती है. लेकिन इसको धारण करने से पहले कुछ सावधानियां बरतनी जरूरी होती हैं.

मूंगे की माला
प्रज्ञा बाजपेयी
  • नई दिल्ली,
  • 22 अप्रैल 2019,
  • अपडेटेड 8:24 AM IST

मूंगा सुख समृद्धि का प्रतीक होता है. इसी प्रकार मूंगे की माला पहनने से गणपति जी, भगवान श्री राम और हनुमान जी की कृपा मिलती है. मूंगे की माला पहनने से सुख समृद्धि बढ़ती है, धन आता है. इस से बीमारी से मुक्ति मिलती है. रोगा से लड़ने की क्षमता मिलती है और नकारात्मक या अशुभ शक्तियां परेशान नहीं करती हैं. मूंगे की माला से जाप भी किया जा सकता है. आइए जानते हैं मूंगे की माला पहनने का क्या है महत्व.

कौन-कौन पहन सकता है मूंगे की माला-

अगर याद्दाश्त कमज़ोर हो, पढ़ाई में बच्चे कमज़ोर हो, बच्चे कहना ना मानते हो, कुंडली में बुद्धि का ग्रह बुध कमज़ोर हो, ज्ञान का ग्रह गुरु कमज़ोर हो तो मूंगे की माला पहननी चाहिए. मूंगे माला पहनने से मंगल  बलवान होते हैं. लेकिन माला धारण करने से पहले इस माला की हनुमान मंदिर में पूजा जरूर करा लें.  

मूंगे की माला आत्मविश्वास को बढ़ाती है-

- मूंगे की माला से हनुमान जी और श्री राम के मन्त्रों का जाप कर सकते हैं.  

- अगर सुहागिन स्त्री मूंगे की माला पहने तो उनके पति की सेहत ठीक रहती है.  

- उनका हर संकट दूर होता है और भगवान हनुमान जी हरदम पूरे परिवार की रक्षा करते हैं.  

मूंगे की माला कब पहनें-  

- तुलसी की माला मूंगे की लकड़ी से लाल धागे में बनाई जाती है.  

- इसे मंगलवार को धारण करना चाहिए.

- धारण करने से पहले हनुमान  जी, शिव जी और श्री राम जी की पूजा करनी चाहिए.  

- मूंगे की माला पहनने से नजर नहीं लगती और सभी प्रकार के सुख की प्राप्ति होती है.  

- इसे गंगाजल से धोकर, धूप दीप दिखाकर पहनें.  

- मूंगे की माला पहनकर मास-मदिरा का सेवन नहीं कर सकते हैं और ना ही झूठ बोल सकते हैं.

Read more!

RECOMMENDED