सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार ने दुबई में लगाई पाठशाला

आनंद ने ग्लोबल टॉलरेंस समिट को संबोधित करते हुए कहा कि सहनशीलता के लिए बहुत आंतरिक शक्ति और दृढ़ विश्वास की आवश्यकता होती है, जबकि असहिष्णुता के लिए सिर्फ क्रोध की आवश्यकता होती है, जो किसी के पास भी हो सकती है.

सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार
aajtak.in
  • नई दिल्ली,
  • 14 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 11:41 AM IST

  • आनंद ने दुबई में आयोजित 'ग्लोबल टॉलरेंस समिट' को किया संबोधित
  • आनंद कुमार संबोधन के दौरान ने शिक्षा के महत्व पर दिया जोर

चर्चित शिक्षण संस्थान सुपर 30 के संस्थापक आनंद कुमार ने बुधवार को दुबई में आयोजित 'ग्लोबल टॉलरेंस समिट' को संबोधित किया. संबोधन के दौरान कहा कि सहनशीलता खुशहाल जीवन जीने का सार है. यह एक शिक्षित और प्रसन्न मन के साथ आती है, जो हमें परिस्थितियों के अनुकूल बनना सिखाता है. साथ ही उन्होंने शिक्षा के महत्व पर जोर दिया.

समाचार एजेंसी आईएएनएस के मुताबिक आनंद ने शिक्षा के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि शिक्षा ही सहिष्णुता का पाठ सिखाती है और शालीनता के गुण को बढ़ाती है. उन्होंने कहा कि शिक्षा से आंतरिक शक्ति और विश्वास बढ़ता है.

आनंद ने 'ग्लोबल टॉलरेंस समिट' को संबोधित करते हुए कहा कि सहनशीलता के लिए बहुत आंतरिक शक्ति और दृढ़ विश्वास की आवश्यकता होती है, जबकि असहिष्णुता के लिए सिर्फ क्रोध की आवश्यकता होती है, जो किसी के पास भी हो सकती है.

सहनशीलता खुशहाल जीवन जीने का सार -आनंद

बयान के अनुसार, उन्होंने कहा कि दुनिया को एक बेहतर स्थान बनाने के लिए शिक्षा ही एकमात्र साधन है, क्योंकि यह अकेले दिमाग को रोशन करने की शक्ति देती है. आनंद ने कहा कि यह जीवन कौशल को ही नहीं सिखाती, बल्कि समाज के वंचित वर्गो में पीढ़ीगत परिवर्तन लाने में भी सक्षम है.

आनंद ने कहा, 'आज दुनिया में असहिष्णुता के मामले बढ़े हैं. दुनिया पलायनवादी हो रही है, क्योंकि यह वास्तविक मुद्दों से निपटना नहीं चाहती है, 'शॉर्टकट्स' चुनती है. असहिष्णुता के बढ़ते मामलों के मूल में गरीबी, भुखमरी, कुपोषण, अशिक्षा आदि के बुनियादी मुद्दे बने रहते हैं. अगर दुनिया बुनियादी मुद्दों पर ध्यान दे तब बेहतर दुनिया का निर्माण हो सकता है.'

ज्ञान से बनता है व्यक्ति अधिक समझदार

आनंद ने कहा, 'ज्ञान के साथ, व्यक्ति अधिक समझदार हो जाता है और तर्क से सब कुछ देखना शुरू कर देता है. यह लोकतांत्रिक मूल्यों का निर्माण, साथी मनुष्यों के प्रति सम्मान, भेदभाव को दूर करने और विश्वास की कमी को समाप्त कर समाज को मजबूत करता है.'

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के प्रधानमंत्री और दुबई के शासक शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने सहिष्णुता को प्रोत्साहित करने के लिए इस वैश्विक पहल की शुरुआत की है. उल्लेखनीय है कि आनंद को गरीबी के खिलाफ शिक्षा का उपयोग करके सामाजिक परिवर्तन लाने के प्रयासों की सूची में शामिल किया गया था.

दो दिवसीय इस समिट (सम्मेलन) में चर्चित नेताओं के अलावा सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के प्रमुख व्यक्ति और समाज में उल्लेखनीय परिवर्तन करने वाले लोग भाग ले रहे हैं.

Read more!

RECOMMENDED