राजस्थानः कब्रगाह बनी सांभर झील, 5 दिन में 10 हजार पक्षियों की मौत

राजस्थान की मशहूर सांभर झील में 5 दिन में 10 हजार से ज्यादा पक्षियों की मौत हो चुकी है. अब केंद्र सरकार ने सांभर झील में विशेषज्ञों की टीम भेजी है. पक्षियों की अचानक मौत की जांच की जा रही है.

सांभर झील में पक्षियों की मौत का सिलसिला जारी (Photo- PTI)
शरत कुमार
  • जयपुर,
  • 16 नवंबर 2019,
  • अपडेटेड 11:28 PM IST

  • जांच के लिए बरेली और देहरादून भेजे गए सैंपल
  • पक्षियों से गुंजायमान रहने वाली झील में सन्नाटा
  • पक्षियों के शवों को किया जा रहा है दफन

राजस्थान की मशहूर सांभर झील में देशी और विदेशी पक्षियों की मौत का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. 5 दिन में 10 हजार से ज्यादा पक्षियों की मौत के बाद अब केंद्र सरकार ने सांभर झील में टीम भेजी है. सांभर झील में इस तरह से अचानक पक्षियों की मौत का मामला किसी की समझ में नहीं आ रहा है. इसके चलते मामले की जांच के लिए अब बरेली और देहरादून में सैंपल भेजे गए हैं.

राजस्थान की सांभर झील दुनियाभर में अपनी खूबसूरती के लिए मशहूर है. 90 स्क्वायर किलोमीटर में फैली इस विशाल झील में हर वक्त 30 हजार से ज्यादा पक्षियों की चहक गूंजती रहती थी, लेकिन पिछले 5 दिनों से यहां सन्नाटा है. अंग्रेजों ने देश में सबसे पहले इसी झील से नमक बनाई थी और आज भी लोग सांभर झील का नमक खाना पसंद करते हैं. मगर यह नमक हजारों देशी और विदेशी पक्षियों के लिए जहर बन गया है.

पिछले 5 दिन से यह सांभर झील पक्षियों के लिए कब्रगाह बना हुआ है. जहां देखो वहां रेत पर पक्षियों के मरने के अवशेष दिख रहे हैं. हालांकि इस मामले को लेकर राजस्थान सरकार की नींद दो दिन पहले ही खुली, जिसके बाद रेस्क्यू टीम तड़प रहे पक्षियों को झील से निकालकर रेस्क्यू सेंटर में भेजने का काम कर रही है. साथ ही मरे हुए पक्षियों को दफन किया जा रहा है, ताकि इनसे संक्रमण न फैले.

झील में पक्षियों के शव तलाशने में जुटी एसडीआरएफ टीम

सांभर झील में पानी और दलदल की वजह से एसडीआरएफ की टीम को पक्षियों के शव तलाशने के काम में लगाया गया है. सरकारी आंकड़ों के मुताबिक अब तक 9000 से ज्यादा पक्षी दम तोड़ चुके है और करीब 400 पक्षियों को घायल अवस्था में रेस्क्यू सेंटर में रखा गया है. मरने वाले कई पक्षी तो 5000 किलोमीटर की उड़ान भरकर अपने पसंदीदा सांभर झील पहुंचे थे. मरने वाले पक्षियों में सबसे ज्यादा 3200 नार्दन सावलर हैं. इसके अलावा 2600 केंटिश प्लोवर, 1000 रफ, 600 को-मनकोट ब्लैकविंग और 600 ब्लैक विंग स्टील्ट रिंग पक्षी हैं.

यह तो सिर्फ सरकारी आंकड़ा है, लेकिन रेस्क्यू के काम में लगे लोगों का कहना है कि यहां पर 15 हजार से ज्यादा पक्षी दम तोड़ चुके हैं. कई लैब में इनकी मौत की वजह की जांच की गई है, लेकिन अभी तक तस्वीर साफ नहीं हो पाई कि आखिर पक्षियों के मौत का कारण क्या है? राजस्थान सरकार के वन और पर्यावरण मंत्री सुखराम विश्नोई भी मौके पर पहुंचे, मगर अभी तक इस समस्या का हल नहीं निकल पाया है.

राजस्थान हाईकोर्ट ने राज्य सरकार से मांगी रिपोर्ट

राजस्थान हाईकोर्ट ने भी पक्षियों की मौत पर राज्य सरकार से रिपोर्ट मांगी है और केंद्र सरकार ने विशेषज्ञों की टीम सांभर झील भेजी है. कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि नमक में आद्रता ज्यादा होने की वजह से मौत हुई है, तो कुछ इसे बोटूलिज्म का इन्फेक्शन बता रहे हैं.

Read more!

RECOMMENDED