दिल्ली विधानसभा के स्पीकर को 6 महीने की जेल, जबरन BJP नेता के घर में घुसने का केस

कोर्ट ने दिल्ली विधानसभा के स्पीकर रामनिवास गोयल को दोषी करार देते हुए 6 महीने की सजा सुनाई है. कोर्ट ने उन्हें भरतीय जनता पार्टी के नेता मनीष घई के घर में जबरन घुसने के केस में सजा सुनाई है.

रामनिवास गोयल (फाइल फोटो)
चिराग गोठी/रामकिंकर सिंह
  • नई दिल्ली,
  • 18 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 10:33 PM IST

  • दिल्ली की रॉउज एवेन्यू कोर्ट ने सुनाई सजा
  • रामनिवास के बेटे सुमित गोयल को भी सजा

दिल्ली विधानसभा के स्पीकर रामनिवास गोयल को 6 महीने की सजा सुनाई गई है. दिल्ली की रॉउज एवेन्यू कोर्ट ने रामनिवास गोयल को बीजेपी के नेता मनीष घई के घर में जबरन घुसने के केस में सजा सुनाई है. कोर्ट के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए गोयल ने कहा कि फैसले का सम्मान करता हूं. वहीं, अदालत ने 10,000 के मुचलके पर रामनिवास गोयल समेत सभी पांच आरोपियों को जमानत दे दी.

कोर्ट ने रामनिवास गोयल के साथ-साथ उनके बेटे सुमित गोयल समेत 5 लोगों को 6-6 महीने की सजा सुनाई. साथ ही एक-एक हजार का जुर्माना भी लगाया है. फैसले के मुताबिक, रामनिवास गोयल और अन्य 4 पर पीड़ित के घर में जबरन घुसने के मामले में सजा हुई है. जबकि रामनिवास गोयल के बेटे सुमीत गोयल को पीड़ित के घर में जबरन घुसने और मारपीट करने का दोषी पाया गया है.

क्या है पूरा मामला

ये मामला 6 फरवरी 2015 का है. ये सभी लोग बीजेपी नेता मनीष घई के घर मे घुस गए थे और उनके साथ मारपीट की . हालांकि, रामनिवास गोयल ने कोर्ट में दलील दी थी कि उन्हें जानकारी मिली थी कि बीजेपी नेता ने अपने घर में कंबल और शराब छिपा रखी है, जो चुनाव से पहले गरीबों में बांटी जाएगी.

उन्होंने इस बात की जानकारी पुलिस को दी थी और पुलिस के साथ पीड़ित के घर मे दाखिल हुए थे. लेकिन कोर्ट ने रामनिवास गोयल और अन्य की दलीलों को नहीं माना और दोषी करार देते हुए 6-6 महीने की सजा और एक एक हज़ार रुपये का जुर्माना लगा दिया.

कोर्ट ने बीते हफ्ते रामनिवास गोयल को दोषी ठहराया था. गोयल को कोर्ट ने आईपीसी की धारा 448 के तहत दोषी ठहराया. रामनिवास गोयल के बेटे सुमित गोयल को धारा 323 यानी मारपीट करने के मामले में दोषी ठहराया गया. मनीष घई ने जब रामनिवास गोयल के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी उस वक्त गोयल शाहदरा इलाके से विधायक थे.

Read more!

RECOMMENDED