देश में पहली बार समस्तीपुर लोकसभा उपचुनाव में QR कोड के माध्यम से वोटिंग

समस्तीपुर लोकसभा सुरक्षित उपचुनाव में एक खास तकनीक देखने को मिलेगी. खाय बात ये है कि यह तकनीक पूरे देश में सिर्फ समस्तीपुर विधानसभा क्षेत्र में देखने को मिलेगी. इस तकनीक में मोबाइल ऐप की सहायता से ही मतदान करने की योजना को इस बार प्रयोग करने की योजना है.

उपचुनाव के मतदान प्रक्रिया की सारी तैयारी पूरी
aajtak.in
  • समस्तीपुर,
  • 21 अक्टूबर 2019,
  • अपडेटेड 7:47 AM IST

  • 1700 मतदान केंद्रों पर 1680426 मतदाता करेंगे वोटिंग
  • गड़बड़ी को रोकने के लिए क्विक रिस्पांस टीम का गठन

समस्तीपुर लोकसभा सुरक्षित सीट पर होने वाले उपचुनाव के मतदान प्रक्रिया की सारी तैयारी जिला प्रशासन ने पूरी कर ली हैं. ईवीएम को लेकर मतदान कर्मी अपने-अपने बूथ की ओर रवाना हो गए हैं. स्वच्छ मतदान को लेकर 16 लोगों को थाना बदर किया गया है तो करीब 469 लोगों के विरुद्ध निरोधात्मक कार्यवाई की गई है. वहीं 48 लोगों पर आचार संहिता का केस दर्ज हुआ है.

चुनावी जंग के लिए कितना तैयार प्रशासन ?

डीडीसी वरुण मिश्रा ने बताया, 'चुनाव के मतदान के दिन के लिए हमारी 100% तैयारी है. वोटर को किसी प्रकार की असुविधा न हो इसके लिए लॉ एंड ऑर्डर पूरी तरह कंट्रोल में रहेगा. उन्होंने कहा कि वोटिंग शांतिपूर्ण होगी ये हमारी प्रतिबद्धता है.

उन्होंने कहा, 'जिला प्रशासन ने सभी संवेदनशील बूथों के लिए एक्स्ट्रा पेट्रोलिंग की व्यवस्था की है. इस तरह से देखें तो जिला प्रशासन ने लोकसभा उपचुनाव को निष्पक्ष कराने के लिए कमर कस ली है. मतदान कर्मी अपने-अपने ईवीएम के साथ मतदान केंद्रों के लिए रवाना हो गए हैं. समस्तीपुर लोकसभा सुरक्षित के उपचुनाव में कुल 1680426  मतदाता हैं, तो ट्रांसजेंडर वोटरों की भी संख्या 33 है.

क्यों खास है समस्तीपुर का चुनाव?

समस्तीपुर सुरक्षित लोकसभा सीट पर हो रहा उपचुनाव भी काफी दिलचस्प होगा. यहां से वर्तमान सांसद रामचंद्र पासवान के निधन के बाद उनके पुत्र प्रिंस राज एनडीए समर्थित लोजपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं तो कांग्रेस के प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व मंत्री डॉ अशोक कुमार मैदान में हैं.

यहां मतदाताओं की कुल संख्या 1680426 है. इसमें  कुल 6 विधानसभा क्षेत्र पड़ते हैं, जिसमें दरभंगा जिले का कुशेश्वरस्थान, हायाघाट, समस्तीपुर जिले का कल्याणपुर, वारिसनगर, समस्तीपुर और रोसड़ा है.

इस लोकसभा क्षेत्र में पुरुष मतदाताओं की संख्या 892387 है तो महिला मतदाताओं की संख्या 788039 है. यहां यह भी बताना आवश्यक होगा कि इस बार के चुनाव में ट्रांसजेंडर वोटरों की संख्या 33 है. मतदान केंद्रों की संख्या 1700 है तो क्रिटिकल बूथों की संख्या 707 है.

गड़बड़ी को रोकने के लिए पुख्ता इंतजाम

समस्तीपुर डीएम शशांक शुभंकर ने बताया, 'सभी मतदान केंद्रों पर बिहार पुलिस के साथ ही पारा मिलिट्री और रैपिड एक्शन फोर्स की तैनाती की गई है. साथ ही किसी भी तरह की गड़बड़ी को रोकने के लिए पेट्रोलिंग मैजिस्ट्रेट और क्विक रिस्पांस टीम का गठन भी किया गया है. डीएम ने कहा कि पूरे जिले में धारा 144 लागू कर दी गई है और जो भी कोई नेता या व्यक्ति जो यहां के वोटर नहीं हैं, उसे यहां रहने पर प्रतिबंध लगा दिया गया है.'

आगे उन्होंने बताया, 'उन्हें पर्याप्त संख्या में बल प्राप्त हुआ है. हम लोगों ने हर बूथ के लिए पोजिशनिंग कर दी है. मतदान के दिन हम और एसपी भ्रमण करते रहेंगे. कंट्रोल रूम बनाया गया है.

क्यू आर कोड के माध्यम से होगी वोटिंग

समस्तीपुर लोकसभा सुरक्षित उपचुनाव में एक खास तकनीक देखने को मिलेगी. खास बात ये है कि ये तकनीक पूरे देश में सिर्फ समस्तीपुर विधानसभा क्षेत्र में ही देखने को मिलेगी. इस तकनीक में मोबाइल ऐप की सहायता से ही मतदान किया जाएगा. इस बार इस नई योजना को एक प्रयोग के तौर पर लागू किया गया है.

दो दिन पूर्व ही इसके लिए हर वोटर्स को क्यू आर कोड लगा एक मतदाता पर्ची दी जा चुकी है. जिस क्यू आर कोड को पीठासीन पदाधिकारी ने अपने मोबाइल एप्प से स्कैन कर वोटर को एक कोड देंगे. उसके बाद मतदाता अपने मत कर प्रयोग कर सकेंगे.

समस्तीपुर में 8 उम्मीदवारों के भाग्य का होगा फैसला

समस्तीपुर में दिवंगत सांसद रामचन्द्र पासवान के बाद खाली हुई समस्तीपुर (सुरक्षित) लोकसभा सीट पर उपचुनाव में कुल 8 उम्मीदवारों के भाग्य का फैसला 21 अक्टूबर को होना है. एनडीए समर्थित लोजपा प्रत्याशी प्रिंस राज, महागठबंधन की ओर से कांग्रेस प्रत्याशी डॉ अशोक कुमार, निर्दलीय से सूरज दास, अनामिका पासवान, रंजू देवी, विद्यानंद राम, शशिभूषण दास, निर्दोष कुमार शामिल है.

Read more!

RECOMMENDED