scorecardresearch
 

Taliban की दहशत, देखें Jalalabad में बचे 7 सिख परिवारों का दर्द!

Taliban की दहशत, देखें Jalalabad में बचे 7 सिख परिवारों का दर्द!

अफगानिस्तान में 1970 के दशक में 2 लाख हिंदू और सिख रहते थे, जो 2021 आते आते सिमट कर नगण्य हो गए हैं. आज अफगानिस्तान में सिर्फ 50 हिंदू और 650 सिख रहते हैं यानी 99 फीसदी हिंदू और सिख अफगानिस्तान छोड़ चुके हैं. लगभग सभी हिंदू और सिख भारत और दूसरे देशों में जाकर शरण ले चुके हैं लेकिन जो हिंदू और सिख अफगानिस्तान में बचे हैं, वो अफगानिस्तान क्यों नहीं छोड़ रहे? आखिर वो हिंदू और सिख भेदभाव और अत्याचार सहन क्यों कर रहे हैं? कौन सी मजबूरी उन्हें अफगानिस्तान में रोक रही है? ऐसे ही सवालों की पड़ताल करने के लिए आजतक संवाददाता अशरफ वानी ने तमाम खतरों को उठाते हुए कंधार से जलालाबाद तक का सफर तय किया. देखें उनकी ये रिपोर्ट.

Amid escalating tension between the Taliban and Afghanistan forces, people are living in fear for their lives. The conflict is also impacting the Sikh community in Afghanistan, who are being forced to flee their hometowns. Out of 60 Sikh families more than 50 Sikh families have migrated from Jalalabad to India in fear after advance of Taliban in most parts of Afghanistan. Watch ground report to know more.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें