scorecardresearch
 

UNHRC में PAK उठाएगा कश्मीर का मसला, भारत इस तरह करेगा बेनकाब

PAK को अभी तक हर मंच पर इस मसले पर मुंह की खानी पड़ी है, ऐसे में अब यहां वह अपनी बात रखना चाह रहा है. हालांकि, यहां पर भी भारत ने पाकिस्तान के आरोपों का जवाब देने के लिए पूरा प्लान तैयार किया है.

संयुक्त राष्ट्र में मुंह की खाएगा पाकिस्तान! संयुक्त राष्ट्र में मुंह की खाएगा पाकिस्तान!

  • जेनेवा में UNHRC का सत्र शुरू
  • पाकिस्तान उठाएगा कश्मीर का मसला
  • PAK को बेनकाब करने का भारत का प्लान तैयार

संयुक्त राष्ट्र मानव अधिकार परिषद् (UNHRC) का एक अहम सत्र सोमवार से शुरू हो रहा है. इस बैठक में पाकिस्तान की ओर से जम्मू-कश्मीर के मसले को उठाया जा सकता है. PAK को अभी तक हर मंच पर इस मसले पर मुंह की खानी पड़ी है, ऐसे में अब यहां वह अपनी बात रखना चाह रहा है. हालांकि, यहां पर भी भारत ने पाकिस्तान के आरोपों का जवाब देने के लिए पूरा प्लान तैयार किया है. जेनेवा में ये बैठक 9 से 13 सितंबर तक चलेगी.

दरअसल, पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी खुद यहां पर पाकिस्तानी डेलिगेशन का नेतृत्व करेंगे. मंगलवार को उन्हें यहां पर जम्मू-कश्मीर के मसले पर बोलना है. पाकिस्तान का आरोप है कि जम्मू-कश्मीर में भारत के द्वारा मानवाधिकार अधिकारों का उल्लंघन किया जा रहा है.

अगर भारत की बात करें तो वहां भारत की अगुवाई सचिव लेवल के अधिकारी करेंगे. जिनके साथ जेनेवा में संयुक्त राष्ट्र में भारत के एंबेसडर राजीव कुमार चंदेर और पाकिस्तान में भारत के उच्चायुक्त अजय बिसारिया मौजूद रहेंगे.

संयुक्त राष्ट्र में भारत की ओर से ना सिर्फ पाकिस्तान के आरोपों का जवाब दिया जाएगा, बल्कि उसे पाकिस्तान में हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन के कटघरे में खड़ा किया जाएगा. भारत की ओर से यहां पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (PoK), गिलगिट-बाल्टिस्तान, बलूचिस्तान का मुद्दा उठाया जाएगा. इस मसले पर भारत ने सभी 47 सदस्यों से बात की है, जिसमें चीन भी शामिल है.

अब भारत को उम्मीद है कि यहां पर जापान, अफगानिस्तान, बांग्लादेस, नेपाल, मिस्र, साउथ अफ्रीका, के अलावा ऑस्ट्रेलिया, सऊदी अरब, यूएई, बहरीन और कतार जैसे देश उसके हक में वोट कर सकते हैं. जो कि पाकिस्तान के लिए एक बड़ा झटका होगा.

गौरतलब है कि इससे पहले पाकिस्तान संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में भी इस मसले को उठा चुका है, लेकिन वहां पर भी उसे मात खानी पड़ी थी. और संयुक्त राष्ट्र ने अनुच्छेद 370 को भारत का आंतरिक मसला बताया था. सिर्फ UNSC ही नहीं, बल्कि पाकिस्तान ने दुनिया के जितने मंचों पर मसला उठाया है, वहां उसे निराशा ही हाथ लगी है.

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के मसले पर भारत ने दुनिया के हर देश को ब्रीफ किया है, हाल ही में राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने दक्षिण एशिया के पत्रकारों से इस मसले पर बात की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें