scorecardresearch
 

भारत पर हमले के लिए पाक में 16 आतंकी ट्रेनिंग कैंप सक्रिय

नियंत्रण रेखा के नजदीकी इलाकों पर भारतीय सेना हाई अलर्ट पर है और पाकिस्तान द्वारा भारत में आतंकियों को धकेलने पर सुरक्षा एजेंसियों ने कड़ी निगरानी रखी हुई है.

भारत पर हमले की फिराक में आतंकी (फाइल फोटो) भारत पर हमले की फिराक में आतंकी (फाइल फोटो)

भारत में पुलवामा हमले के बाद पाकिस्तान के बालाकोट में भारतीय सेना ने हमला किया था. इसमें आतंकी ट्रेनिंग कैंप ध्वस्त कर दिए गए थे. बावजूद इसके पाकिस्तान में आतंकियों के ट्रेनिंग कैंप सक्रिय हैं. इंडिया टुडे से बातचीत में सेना के सूत्रों ने बताया कि भारत पर आतंकी हमला करने के लिए पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) में अभी भी 16 आतंकी ट्रेनिंग कैंप सक्रिय हैं और इस प्रकार के अन्य नए कैंप भी स्थापित किए जा रहे हैं.

सेना के सूत्रों ने बताया, नई खुफिया जानकारी के मुताबिक पीओके में अभी भी 16 सक्रिय आतंकी ट्रेनिंग कैंप चल रहे हैं और वह गर्मियों के महीने में भारत में घुसपैठ करने की योजना बना रहे हैं. सूत्रों की मानें तो अब इन शिविरों से निकलकर आतंकवादी LOC के करीब अपने लॉन्च पैड की ओर बढ़ने लग गए हैं.

नियंत्रण रेखा के नजदीकी इलाकों पर भारतीय सेना हाई अलर्ट पर है और पाकिस्तान द्वारा भारत में आतंकियों को धकेलने पर सुरक्षा एजेंसियों ने कड़ी निगरानी रखी हुई है. सूत्रों के मुताबिक, गर्मियों के महीनों में बहुत सारे नए फैसले होने की संभावना है क्योंकि पाकिस्तान आतंकवादी गतिविधियों को पुनर्जीवित करने की कोशिश करेगा, क्योंकि भारतीय सेना की कार्रवाई में आतंकवाद की कमर टूट गई है.

सूत्रों ने बताया, जाकिर मूसा की मौत के बाद अटकलें हैं कि व्यापक अशांति फैलाई जा सकती है जैसा कि 2016 में बुरहान वानी की मौत के बाद नजर आया था. क्योंकि किसी भी आतंकी की मौत आतंकी ग्रुपों का उत्साह भंग करती है. पूरे जैश नेतृत्व का सफाया हो गया है या विफल हो गया है और लगातार भारतीय सेना के निशाने पर होने के कारण कोई भी कैडर इन्हें जॉइन नहीं करना चाहता.

पुलवामा हमले के बाद, सुरक्षा एजेंसियों के निशाने पर लगातार जैश के आतंकी हैं और सेना की कार्रवाई में 30 से ज्यादा बड़े आतंकी मारे जा चुके हैं और अन्य कैडर भी ध्वस्त गए हैं. 2019 में सेना की ऑपरेशन में 90 से ज्यादा आतंकी मारे जा चुके हैं. इसके अलावा सुरक्षा एजेंसियों ने ISIS के कश्मीर में अपना जाल फैलाने की कोशिशों पर कड़ी नजर रखी हुई है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें