scorecardresearch
 

मुंबई हमले का मास्टरमाइंड साजिद मीर गिरफ्तार, PAK ने 'डेड' आतंकी को दी 15 साल की सजा

मुंबई हमले का मास्टरमाइंड मोस्ट वांटेड आंतकी साजिद मीर को पाकिस्तान से जिंदा गिरफ्तार किया गया है. साजिद मीर पर एफबीआई ने 5 मिलियन डॉलर का इनाम घोषित कर रखा है. पाकिस्तान ने पहले बताया था कि साजिद मीर मर चुका है.

X
फाइल फोटो
1:08
फाइल फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • साजिद मीर को पाकिस्तान ने किया गिरफ्तार
  • मुंबई हमले का मास्टरमाइंड है साजिद मीर

पाकिस्तान ने 2008 के मुंबई आतंकवादी हमलों के मास्टरमाइंड साजिद मीर को गिरफ्तार किया है. लाहौर की एक एंटी टेररिज्म कोर्ट ने साजिद मीर को 15 साल की सजा सुनाई है. आतंकवाद से जुड़े एक सीनियर वकील ने बताया कि इस महीने की शुरुआत में लाहौर में एक आतंकवाद रोधी अदालत ने प्रतिबंधित लश्कर-ए-तैयबा के एक आतंकी साजिद मीर को 15 साल की सजा सुनाई है. न्यूज एजेंसी के मुताबिक, ये सजा टेरर फंडिंग केस में सुनाई गई.

साजिद मीर एफबीआई की मोस्ट वांटेड आतंकवादियों की सूची में शामिल है. पाकिस्तान ने हमेशा साजिद मीर की मौजूदगी से इनकार किया है. पाकिस्तानी सरकार ने यहां तक दावा किया था कि उसकी मौत हो चुकी है. कहा जा रहा है कि साजिद की हिरासत से पाकिस्तान आतंक को लेकर लगे दाग साफ करना चाहता है. 

अमेरिकी एजेंसी एफबीआई ने साजिद मीर के ऊपर पांच मिलियन डॉलर का इनाम घोषित किया है. उसे अमेरिका और भारत दोनों ही करीब एक दशक से खोज रहे हैं. साजिद मीर संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से जुड़ा हुआ है. साजिद मीर ही मुंबई के 26/11 हमलों का मास्टरमाइंड भी है. इस हमले में करीब 170 लोग मारे गए थे. इनमें मुख्य रूप भारतीय, छह अमेरिकी और जापान समेत कई जगहों के टूरिस्ट भी शामिल थे. 

पाक ने नहीं की आधिकारिक पुष्टि

निक्केई एशिया की रिपोर्ट के अनुसार, एफबीआई के एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि साजिद मीर पाकिस्तान में जिंदा है, हिरासत में है और उसे सजा सुनाई गई है. एक पूर्व पाकिस्तानी अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान ने भारत और अमेरिका को बताया था कि मुंबई हमलों का आरोपी साजिद मीर या तो मर गया है या फिर उसके ठिकाने का पता नहीं चल पा रहा है. हालांकि पाकिस्तान ने अभी तक मीर की गिरफ्तारी को आधिकारिक तौर पर नहीं बताया है. उप विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार ने निक्केई एशिया से कहा कि वह इस विशेष मामले पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगी. 

फाइल फोटो

FATF की ग्रे लिस्ट से निकलने का प्लान?

साजिद मीर को गिरफ्तार करके पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय लेवल पर दिखाना चाहता है कि वो आतंकवाद के खिलाफ काम कर रहा है. ये पाकिस्तान की FATF की ग्रे लिस्ट से बाहर निकलने की प्लानिंग भी बताई जा रही है. पाकिस्तान जून 2018 से ही FATF की ग्रे लिस्ट में शामिल है. इस बार जर्मनी में हुई बैठक में FATF ने कहा था कि वह पाकिस्तान का ग्राउंड वेरिफिकेशन कर उसे ग्रे लिस्ट से बाहर करने पर फैसला सुनाएगी. 

मुंबई हमले का प्रोजेक्ट मैनेजर है साजिद मीर

एफबीआई का दावा है कि मीर ने 2008 और 2009 के बीच डेनमार्क में एक समाचार पत्र और उसके कर्मचारियों के खिलाफ आतंकवादी हमला करने की साजिश रची थी. उसे 2011 में शिकागो की एक अदालत ने आतंकवाद के आरोपों में आरोपित किया था. दिसंबर 2021 में अमेरिकी विदेश विभाग ने साजिद मीर को मुंबई हमले का प्रोजेक्ट मैनेजर बताया था. साथ ही कहा था कि वो पाकिस्तान में स्वतंत्र तरीके से रहता है. 

पाक ने जिहादी नेताओं को किया गिरफ्तार

वाशिंगटन में पाकिस्तान के पूर्व दूत और वर्तमान में वाशिंगटन में हडसन इंस्टीट्यूट में दक्षिण और मध्य एशिया के निदेशक हुसैन हक्कानी ने कहा कि ऐसा लगता है कि पाकिस्तान ने अब FATF की ग्रे लिस्ट से निकलने के नियमों का पालन किया है. इसका मतलब है कि कुछ भारत विरोधी जिहादी नेता जिनके बारे में पहले पाकिस्तान ने जानकारी से इनकार किया था, अब उन्हें ढूंढ निकाला गया है और हिरासत में लिया गया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें