scorecardresearch
 

प्रेस की आजादी की दुहाई देने वाले PAK ने विदेशी पत्रकार को देश में घुसने से रोका

प्रेस की आजादी पर हमले को लेकर पाकिस्तान एक बार फिर निशाने पर है. कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) ने बताया है कि पाकिस्तान के आव्रजन अधिकारियों ने इसके एशिया प्रोग्राम को-ऑर्डिनेटर स्टीवन बटलर को पाकिस्तान में दाखिल होने से रोक दिया.

प्रेस की आजादी पर हमले को लेकर पाकिस्तान निशाने पर (फाइल फोटो-आईएएनएस) प्रेस की आजादी पर हमले को लेकर पाकिस्तान निशाने पर (फाइल फोटो-आईएएनएस)

  • प्रेस की आजादी पर हमले को लेकर पाकिस्तान निशाने पर
  • एशिया प्रोग्राम को-ऑर्डिनेटर को पाकिस्तान ने रोका

प्रेस की आजादी पर हमले को लेकर पाकिस्तान एक बार फिर निशाने पर है. कमेटी टू प्रोटेक्ट जर्नलिस्ट्स (सीपीजे) ने बताया है कि पाकिस्तान के आव्रजन अधिकारियों ने इसके एशिया प्रोग्राम को-ऑर्डिनेटर स्टीवन बटलर को पाकिस्तान में दाखिल होने से रोक दिया. पाकिस्तानी मीडिया में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक, सीपीजे ने अपने बयान में इसे प्रेस की स्वतंत्रता पर हमला करार दिया है और घटना की जांच कराने की मांग की है.

पाकिस्तान में मीडिया अदालतों की स्थापना के सरकारी प्रस्ताव के खिलाफ बीते सितंबर में आवाज उठा चुकी संस्था ने अपने बयान में कहा, 'बुधवार रात को पाकिस्तानी अधिकारियों ने सीपीजे एशिया प्रोग्राम को-ऑर्डिनेटर स्टीवन बटलर को देश में दाखिल होने से रोक दिया और इसकी वजह गृह मंत्रालय की एक काली सूची में बटलर के नाम के होने को बताया.'

स्टॉप लिस्ट में नाम

बयान में कहा गया है कि बटलर ने बताया कि लाहौर हवाईअड्डे पर एक अधिकारी ने कहा कि उनका पत्रकार वीजा तो वैध है लेकिन यह किसी काम का नहीं है क्योंकि उनका नाम गृह मंत्रालय की 'स्टॉप लिस्ट' में है. इसके बाद उनके पासपोर्ट को जब्त करते हुए उन्हें दोहा और फिर वहां से वाशिंगटन जाने वाली उड़ान में बिठा दिया गया.

बयान में सीपीजे के कार्यकारी निदेशक जोएल सिमन ने कहा कि बटलर के साथ हुई यह हरकत उन लोगों के मुंह पर एक तमाचा है जिनका संबंध देश में प्रेस की आजादी से है. पाकिस्तानी अधिकारियों को अपने फैसले की वजह बतानी चाहिए और इसमें सुधार करना चाहिए. बीते साल सीपीजे ने अपनी रिपोर्ट में उदाहरणों के साथ बताया था कि पाकिस्तान में प्रेस की आजादी लगातार कम हो रही है.

पाकिस्तान के मानवाधिकार आयोग और मानवाधिकार संस्था एमनेस्टी इंटरनेशनल ने बटलर को प्रवेश न देकर जबरन वापस भेजने पर गहरी चिंता जताई है और फैसले की समीक्षा और इसे बदलने की मांग की है.

(आईएएनएस से इनपुट)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें