scorecardresearch
 

कोरोना: लोगों में अकेलेपन और सुसाइड से परेशान जापान, बनाया अलग मंत्रालय

कोरोना काल में जापान में आत्महत्या करने वालों की संख्या में बड़ा इजाफा हुआ. ऐसे में आत्महत्या के बढ़ते मामलों को देखते हुए जापान सरकार ने एक अहम कदम उठाया. सरकार ने इसके लिए मिनिस्‍टर ऑफ लोन्‍लीनेस (Minister of Loneliness) यानी अकेलेपन को दूर करने के लिए एक मंत्री की नियुक्त की गई है.

जापान में कोरोना का असर (फ़ोटो- गेटी) जापान में कोरोना का असर (फ़ोटो- गेटी)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कोरोना काल में जापान में आत्महत्या करने वालों की संख्या में इजाफा
  • जापान ने रोकथाम के लिए बनाया अलग मंत्रालय
  • अकेलेपन और सुसाइड से जापान परेशान

कोरोना ने हर किसी के जीवन को प्रभावित किया. करोड़ों लोगों की जान गईं, लोग बेरोजगार हुए, डिप्रेशन के शिकार हुए. लोगों को बहुत तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा. कोरोना काल में जापान में आत्महत्या करने वालों की संख्या में बड़ा इजाफा हुआ. ऐसे में आत्महत्या के बढ़ते मामलों को देखते हुए जापान सरकार ने एक अहम कदम उठाया. सरकार ने इसके लिए मिनिस्‍टर ऑफ लोन्‍लीनेस (Minister of Loneliness) यानी अकेलेपन को दूर करने के लिए एक मंत्री को नियुक्त किया है. इसके लिए बाकायदा मंत्रालय भी बनाया गया. 

द जापान टाइम्स के मुताबिक, कोरोना महामारी के दौरान (साल 2020) जापान में अकेलेपन की वजह से बड़ी संख्या में आत्महत्या के केस सामने आए. आत्महत्या का आंकड़ा करीब 11 साल बाद इस स्तर तक बढ़ा कि जापान सरकार को एक मंत्रालय बनाने का फैसला करना पड़ा. यह मंत्रालय अकेलेपन को दूर करने के लिए प्रयास करेगा. 

बताया जा रहा है कि ब्रिटेन की तरह ही जापान के पीएम योशिहिदे सुगा ने अपने मंत्रालय में Minister of Loneliness का पद जोड़ा. इसकी शुरुआत इसी महीने से हुई है. साल 2018 में ब्रिटेन ने भी कुछ इसी तरह का पद बनाकर उसमें नियुक्ति की थी. 

जापानी पीएम के पास देश की गिरती जन्म दर पर काम करने और क्षेत्रीय अर्थव्यवस्थाओं को पुनर्जीवित करने का प्रभार पहले से ही है. सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, जापानी सरकार ने कोरोना महामारी के दौरान बढ़े आत्महत्या के मामलों के लिए एक कार्यालय भी बनाया. 

गौरतलब है कि जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़ों के मुताबिक, जापान में 426000 से अधिक कोविड केस दर्ज हुए. इसमें 7 हजार से ज्यादा लोगों की मौतें हुई. इसी दौर में देश में आत्महत्या के मामले बढ़े. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें