scorecardresearch
 

गाजा पर इजराइल ने फिर किए हवाई हमले, टूटा सीजफायर समझौता

इजराइल डिफेंस फोर्स ने एक बयान देते हुए कहा है कि उसके फाइटर विमानों ने खान यूनिस और गाजा शहर में हमास द्वारा संचालित किए जा रहे मिलिट्री अड्डों पर हमला किया है. इन जगहों पर आतंकी गतिविधियां संचालित की जा रहीं थीं.

प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो- एसोसिएट प्रेस) प्रतीकात्मक तस्वीर (फोटो- एसोसिएट प्रेस)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इजराइली सेना ने गाजा पर किया एयरस्ट्राइक
  • इजराइल का दावा गाजा की तरफ से आए आग के गोले
  • बदले की कार्रवाई के रूप में हमास के अड्डों पर हमला

पिछले महीने 11 दिन तक चले इजराइल-हमास युद्ध का अंत एक सीजफायर के साथ हुआ था. लेकिन इजराइल और गाजा एक बार फिर आमने सामने आ गए हैं. मिली जानकारी के अनुसार इजराइल ने गाजा पट्टी पर एकबार फिर हमला बोल दिया है. इजराइल ने सीजफायर का उल्लंघन करते हुए एक बार फिर गाजा की तरफ रॉकेट दाग दिए हैं, जिसे 21 मई को हुए सीजफायर के अंत के रूप में देखा जा सकता है. इजराइल द्वारा किया गया ये हमला सीजफायर समझौते के बाद सबसे बड़ी घटना है. 

इस हमले के बारे में इजराइल ने कहा है कि उसने ये हमला तब किया है जबकि हमास की तरफ इजराइल की तरफ आग के गोले दागे गए हैं. इससे ठीक पहले हाल ही में इजराइली दक्षिणपंथियों ने पूर्व जेरूसलम की तरफ मार्च किया था, जिसमें काफी उत्तेजक नारे भी लगाए गए थे, फिलिस्तीन इससे नाराज था.

11 दिनों के खूनी संघर्ष के बाद गाजा पट्टी में सीजफायर, हमले में मारे गए 227 फिलिस्तीनी, 11 इजरायली

आपको बता दें कि 11 दिन तक चला हमास और इजराइल के बीच का युद्ध, एक दशक के भीतर चौथा युद्ध था. जिसका अंत 21 मई, 2021 के दिन एक सीजफायर समझौते के रूप में हुआ था. जिस सीजफायर समझौते का अब अंत होता नजर आ रहा है, इस युद्ध में इजराइल और हमास दोनों की तरफ से सैंकड़ों हवाई हमले किए गए थे. जिनमें 250 से अधिक लोग मारे गए थे, उनमें भी अधिकतर फिलिस्तीनी नागरिक थे.

इजराइल डिफेंस फोर्स (the Israel Defense Forces) ने एक बयान देते हुए कहा है कि उसके फाइटर विमानों ने खान यूनिस और गाजा शहर में हमास द्वारा संचालित किए जा रहे मिलिट्री अड्डों पर हमला किया है. इजराइल आर्मी ने कहा है कि इन जगहों पर आतंकी गतिविधियां संचालित की जा रहीं थीं. और इजराइली फोर्स ऐसी किसी भी परिस्थिति के लिए तैयार है, चाहे गाजा स्ट्रिप की तरफ से आतंकी गतिविधियों के रूप में युद्ध की दोबारा से शुरुआत क्यों न हो.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें