scorecardresearch
 

चीन में कम्युनिस्ट पार्टी के सीनियर अधिकारी से मिले भारत के राजदूत, लद्दाख पर चर्चा

चीन में भारत के दूतावास ने कहा कि राजदूत विक्रम मस्री ने लियू जिआनचाव से मुलाकात की और बॉर्डर पर रवैये की स्पष्ट जानकारी उन्हें दीं. इसके अलावा इस मीटिंग में बातचीत के अन्य क्या मुद्दे रहे इसे ट्वीट में नहीं बताया गया.

राजदूत विक्रम मिस्री ने CPC के वरिष्ठ नेता से मुलाकात की (फोटो-Twitter) राजदूत विक्रम मिस्री ने CPC के वरिष्ठ नेता से मुलाकात की (फोटो-Twitter)

  • लद्दाख से चीनी सेना को वापस भेजने की प्रक्रिया जारी है
  • राजदूत विक्रम मिस्री ने CPC के अधिकारी से मुलाकात की
चीन में भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने बुधवार को चीन की सत्ताधारी पार्टी कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के एक वरिष्ठ पदाधिकारी से मुलाकात की और लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर बने हालात की चर्चा की.

विक्रम मिस्री कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ चाइना के पदाधिकारी लियू जिआनचाव से मिले. लियू जिआनचाव अपनी पार्टी में विदेश मामलों को देखने वाली संस्था के डिप्टी डायरेक्टर हैं. दोनों के बीच लद्दाख से चीन सेना की वापसी पर चर्चा हुई.

राजदूत विक्रम मस्री ने लियू जिआनचाव से मुलाकात की

इस मुलाकात पर चीन में भारत के दूतावास ने कहा कि राजदूत विक्रम मस्री ने लियू जिआनचाव से मुलाकात की और बॉर्डर पर रवैये की स्पष्ट जानकारी उन्हें दीं. इसके अलावा इस मीटिंग में बातचीत अन्य क्या मुद्दे रहे इसे ट्वीट में नहीं बताया गया.

पढ़ें- अमेरिका ने उठाया ऐसा कदम कि बुरी तरह भड़क उठा चीन, कहा- आग से ना खेले

बता दें कि दोनों अधिकारियों की ये मीटिंग उस वक्त हुई है जब लद्दाख से चीनी सेनाओं की पूर्ण वापसी संभव नहीं हो सकी है. इस बारे में दोनों देशों के बीच तनाव बढ़ा ही हुआ है. चीन आए दिन गलवान घाटी में अपनी सैन्य उपस्थिति दर्ज कराता रहता है. भारत की मांग है कि लद्दाख में तुरंत यथास्थित बहाल की जाए, और यहां की भौगोलिक तस्वीर 5 मई से पहले जैसे वाली की जाए.

खाली नहीं हुआ है फिंगर-4 से आठ तक का एरिया

चीनी सेना ने गलवान घाटी के कुछ कैंपों को खाली कर दिया है. लेकिन उसने अब तक फिंगर एरिया, पैगांग झील और गोगरा और देशपांग इलाके को खाली नहीं किया है. भारत इस मामले में लगातार विरोध दर्ज करवा रहा है. भारत चीन पर लगातार दबाव डाल रहा है कि वो फिंगर-4 से लेकर फिंगर-8 के बीच से अपनी सेनाएं हटाए.

पढ़ें- हवाला रैकेट: रोज 3 करोड़ निकालता था चीनी नागरिक, मणिपुर की लड़की से की थी शादी

बता दें कि लद्दाख के कई इलाकों से चीनी सेनाओं की औपचारिक वापसी 6 जुलाई को शुरू हुई थी. इससे एक दिन पहले राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने इस मुद्दे पर चीन के अपने समकक्ष वांग यी से बात की थी. इसके बाद सेनाओं की वापसी की प्रक्रिया शुरू हो गई थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें