scorecardresearch
 

आज भी याद है दिल्ली के पुराने घर का फोन नंबर, घर जैसा है भारत: बान की मून

भारत से जुड़ी अपनी यादों को याद करते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा कि भारत में उन्हें घर जैसा महसूस होता है. उन्होंने कहा कि 1972 में अपने राजनयिक करियर की शुरुआत करने के वक्त नई दिल्ली के जिस पुराने घर में वह रहते थे, उसका फोन नंबर उन्हें आज भी याद है.

Ban ki Moon Ban ki Moon

भारत से जुड़ी अपनी यादों को याद करते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने कहा कि भारत में उन्हें घर जैसा महसूस होता है. उन्होंने कहा कि 1972 में अपने राजनयिक करियर की शुरुआत करने के वक्त नई दिल्ली के जिस पुराने घर में वह रहते थे, उसका फोन नंबर उन्हें आज भी याद है.

बान की मून ने इसी महीने नई दिल्ली और गुजरात का दौरा किया था. उन्होंने 2015 में संयुक्त राष्ट्र के महत्वाकांक्षी विकास एजेंडे की सफलता में भारत की महत्वपूर्ण भूमिका होगी इसलिए उन्होंने इस महत्वपूर्ण वर्ष की शुरूआत भारत यात्रा से की थी. 70 साल के बान ने कहा कि जब वह साबरमती गांधी आश्रम के दौरे पर गए थे, उस समय महापुरुष महात्मा गांधी के खत देख अभिभूत हो गए थे.

भारत के गणतंत्र दिवस के मौके पर अपने संदेश में उन्होंने कहा मुझे उनकी विरासत को आगे बढ़ाने की हमारी सामूहिक जिम्मेदारी भी परिलक्षित होती है. महात्मा गांधी शांति के पुरोधा, मानवाधिकार के रक्षक और गरीबों के सशक्तीकरण की वकालत करने वाले थे. संयुक्त राष्ट्र के चार्टर में इसी तरह के मूल्यों को समाहित किया गया है.

ऐसे में आश्चर्य नहीं कि भारत में मुझे घर जैसा महसूस होता है. उन्होंने कहा मुझे अभी भी अपने पुराने घर का फोन नंबर याद है. उन्होंने कहा कि यात्रा ने उनकी शानदार यादों को जीवंत कर दिया. नई दिल्ली के दक्षिण कोरिया दूतावास में 43 साल पहले डिप्टी काउंसलर तौर पर अपना राजनयिक करियर शुरू करने वाले बान ने कई मौकों और संयुक्त राष्ट्र में महासचिव रहते हुए चार बार भारत का दौरा किया है. हाल के भारत दौरे के दौरान बान ने नयी दिल्ली में वसंत विहार स्थित अपने दिवंगत मकान मालिक की पत्नी से मुलाकात की थी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें