scorecardresearch
 

ट्रंप हटाए जाएंगे या जीवनभर किसी पद पर आने पर लगेगा बैन? महाभियोग पर पढ़ें 10 बड़े सवालों के जवाब

अमेरिका में ऐसी मांग भी उठ रही है कि डोनाल्ड ट्रंप पर हमेशा के लिए बैन लगा दिया जाए, ताकि वो भविष्य में किसी सार्वजनिक पद पर ना आ सकें. ऐसे में महाभियोग को लेकर जितने भी सवाल उठ रहे हैं, उनके क्या जवाब हैं. विस्तार से जानिए... 

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल) अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (फाइल)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की मुश्किलें बढ़ी
  • प्रतिनिधि सभा में महाभियोग प्रस्ताव हुआ पास
  • 20 जनवरी को खत्म हो रहा है ट्रंप का कार्यकाल

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के कार्यकाल के अंतिम वक्त में उनकी चिंताएं बढ़ती जा रही हैं. अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने उनके खिलाफ दूसरी बार महाभियोग को पास कर दिया है, अब इस प्रक्रिया में आगे की कार्यवाही होना बाकी है. साथ ही अमेरिका में ऐसी मांग भी उठ रही है कि डोनाल्ड ट्रंप पर हमेशा के लिए बैन लगा दिया जाए, ताकि वो भविष्य में किसी सार्वजनिक पद पर ना आ सकें. ऐसे में महाभियोग को लेकर जितने भी सवाल उठ रहे हैं, उनके क्या जवाब हैं. विस्तार से जानिए... 


1.    डोनाल्ड ट्रंप पर हमेशा के लिए बैन लग सकता है?
अमेरिकी संविधान के मुताबिक, अगर किसी व्यक्ति पर महाभियोग चलाया जाता है तो उसको दो तरह से सजा दी जा सकती है. पहला उसे मौजूदा ऑफिस से हटाया जाए या फिर उसे हमेशा के लिए ही किसी पद से वंचित रखा जाए. 

किसी व्यक्ति को कुर्सी से हटाने के लिए सीनेट में दो तिहाई बहुमत के साथ इस मत को पास कराना होगा. अगर ऐसा होता है तो उसके बाद सीनेट में एक और वोटिंग होगी जिसके तहत व्यक्ति को भविष्य में किसी पद पर आसीन होने से रोका जाएगा. अभी तक अमेरिका में ऐसा तीन लोगों के साथ हुआ है, तीनों ही फेडरल जज रह चुके हैं.

2.    अगर सीनेट में बहुमत नहीं मिला तो क्या होगा?
जानकारों के मुताबिक, सीनेट में महाभियोग पर वोटिंग हो सकती है जिससे उन्हें मौजूदा पद से हटाया जा सकता है. लेकिन अगर हमेशा के लिए सार्वजनिक पद से हटाना है, तो पहले एक ट्रायल होगा जिसमें डोनाल्ड ट्रंप को अपनी बात कहने का मौका मिलेगा. उसके बाद अगर वो दोषी साबित होते हैं तो ही आगे की प्रक्रिया होगी.


3.    संविधान के 14वें संशोधन से क्या होगा?
अमेरिकी संविधान के 14वें संशोधन में किसी को भी अयोग्य साबित करने के बारे में बताया गया है. इसके सेक्शन 3 के मुताबिक, जो भी व्यक्ति अमेरिका के खिलाफ होता है उसे पद पर रहने का अधिकार नहीं है. अमेरिकी कांग्रेस के दोनों सदन में बहुमत के आधार पर किसी भी व्यक्ति पर ये फैसला लागू किया जा सकता है. इसे तभी हटाया जा सकता है, जब कांग्रेस में दो तिहाई बहुमत के साथ निर्णय हो.

4.    अयोग्य साबित होने पर डोनाल्ड ट्रंप कोर्ट जा सकते हैं?
जानकारी के मुताबिक, अगर अमेरिकी संसद डोनाल्ड ट्रंप को किसी भी पद के लिए अयोग्य साबित करती है तो उनके पास कोर्ट जाने का अधिकार होगा. सुप्रीम कोर्ट अमेरिकी संसद से इस पूरे एक्शन पर सफाई मांग सकता है. मौजूदा परिस्थितियों के हिसाब से सुप्रीम कोर्ट के नौ जजों में से रिपब्लिकन के पक्षकारों की संख्या भी अधिक है. 

5.    प्रतिनिधिसभा में प्रस्ताव पास, अब क्या होगा?
अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने अब जब डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पास कर दिया है, अब उसे सीनेट में भेजा जाएगा. अमेरिकी सीनेट पर इसका ट्रायल चलेगा.

6.    अमेरिकी सीनेट में क्या होगा?
मौजूदा कार्यक्रम के अनुसार, सीनेट का अगला सेशन 19 जनवरी को है और 20 तारीख को डोनाल्ड ट्रंप का कार्यकाल खत्म हो रहा है. ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि डोनाल्ड ट्रंप का ट्रायल उनके कार्यकाल के खत्म होने के बाद ही शुरू होगा, जो कि अयोग्यता साबित करने को लेकर होगा.  

देखें आजतक लाइव TV 


7.    सीनेट में मजबूत कौन है?
अमेरिकी सीनेट में फैसला अपने हक में लाने के लिए दो तिहाई वोट की जरूरत है. अभी सीनेट के प्रमुख रिपब्लिकन मैककॉनल ही हैं, ऐसे में अगर वो ट्रंप के पक्ष या खिलाफ वोट देते हैं, तो अधिकतर रिपब्लिकन ऐसा ही कर सकते हैं. अभी तक रिपब्लिकन ने ट्रंप को पद छोड़ने की सलाह दी है. पिछली बार जब हाउस में महाभियोग पर वोटिंग हुई थी, तब ट्रंप के पक्ष में मतदान हुआ था.


8.    अब क्या है ट्रंप का भविष्य?
अगर डोनाल्ड ट्रंप को सीनेट के ट्रायल में दोषी पाया जाता है, तो फिर उनके अयोग्य साबित होने को लेकर वोटिंग की जाएगी. हालांकि, मौजूदा संकेत ये हैं कि सीनेट में अधिकतर लोग डोनाल्ड ट्रंप को राष्ट्रपति पद से हटाना चाहते हैं, लेकिन भविष्य में उनपर किसी तरह का बैन लगाने के पक्ष में नहीं हैं.

9.    किन आरोपों पर होगा इस बार का ट्रायल?
आपको बता दें कि पिछली बार डोनाल्ड ट्रंप पर यूक्रेन मामले को लेकर महाभियोग चलाया गया था. लेकिन इस बार अमेरिका में ही दंगे भड़काने का आरोप है. ऐसे में ट्रायल की प्रक्रिया पूरी तरह अलग होगी, जिसमें क्रिमिनल चार्ज को सेंटर में रखा जाएगा.


10.    पूरी प्रक्रिया को मानेंगे डोनाल्ड ट्रंप?
डोनाल्ड ट्रंप लगातार चुनाव नतीजों के खिलाफ बयान देते आए हैं. हालांकि, उन्होंने खुद को निर्दोष साबित किया है. ट्रंप की ओर से दलील दी जा रही है कि भाषण देना उनका अधिकार था, उन्होंने अपने भाषण में हिंसा का प्रयोग नहीं किया. साथ ही ना ही उन्होंने किसी को भड़काया है. ऐसे में डोनाल्ड ट्रंप भविष्य में फिर से अगर राष्ट्रपति के पद पर नज़र गढ़ाए हुए हैं, तो वो शांति से प्रक्रिया का पालन करने पर ध्यान देंगे. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें