scorecardresearch
 

कनाडा ने 11 साल तक के बच्चों के लिए फाइजर की कोरोना वैक्सीन को दी मंजूरी

कनाडा की सरकारी एजेंसी ने कहा कि बच्चों में कोविड-19 सरीखा भयानक संक्रमण रोकने में यह वैक्सीन 90.7 फीसदी तक प्रभावी है. इसके साथ ही वैक्सीन से किसी भी साइड इफैक्ट का खतरा नहीं है. साथ ही इसकी कीमत भी काफी कम रहेगी.

सांकेतिक फोटो सांकेतिक फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • "यह वैक्सीन 90.7 फीसदी तक प्रभावी"
  • "किसी भी साइड इफैक्ट का खतरा नहीं "

कोरोना संक्रमण का दंश पूरे विश्व ने झेला. अब इस बीमारी को हराने के लिए कनाडा ने 5 से 11 साल तक के बच्चों के लिए वैक्सीन को मंजूरी प्रदान की है. लिहाजा कनाडा मेंअब इस उम्र के बच्चों को भी कोरोना का टीका लगाया जा सकेगा. कनाडा के स्वास्थ्य नियामक ने फाइज़र के कोविड-19 (COVID-19) के टीके की डोज बच्चों को लगाने की स्वीकृति दी है.

कनाडा की सरकारी एजेंसी ने कहा कि बच्चों में कोविड-19 सरीखा भयानक संक्रमण रोकने में यह वैक्सीन 90.7 फीसदी तक प्रभावी है. इसके साथ ही वैक्सीन से किसी भी साइड इफैक्ट का खतरा नहीं है. साथ ही इसकी कीमत भी काफी कम रहेगी.

कनाडा के स्वास्थ्य नियामक ने फाइजर की वैक्सीन की डोज को 5 से 11 साल तक के बच्चों के लिए स्वीकृति प्रदान की है. हेल्थ कनाडा ने एक बयान में कहा कि इसे लेकर काफी बारीकी से गहन जांच की गई है. कई विशेषज्ञों ने इस पर काम किया है. लिहाजा हम लोग इस नतीजे पर निकले हैं कि इस उम्र तक के बच्चों को टीका लगाने पर जोखिम से ज्यादा लाभ है. 

उधर, व्हाइट हाउस ने कहा कि यूएस ने दो सप्ताह पहले फाइजर की कोरोना वैक्सीन की खुराक 5 से 11 साल तक के बच्चों को लगाए जाने की अनुमति दी थी, लिहाजा अभी तक 10 फीसदी बच्चों को पहली खुराक मिल चुकी है. टीका लगाने की रफ्तार और तेज की जाएगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें