scorecardresearch
 

ब्रिटेनः लिज ट्रस का प्रधानमंत्री बनना भारत के लिए कितना सही, पिछले 18 महीने में कर चुकीं हैं तीन दौरे

भारत में ब्रिटेन के हाई कमिश्नर एलेक्स एलिस का कहना है कि लिज ट्रस बीते 18 महीनों में तीन बार भारत का दौरा कर चुकी हैं. वह भारत को बखूबी जानती हैं. उन्होंने कहा कि भारत और ब्रिटेन की अर्थव्यवस्थाएं पहले ही एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं और नई सरकार के आने से दोनों देशों के बीच व्यापार 2030 तक दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है. 

X
ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस
ब्रिटेन की प्रधानमंत्री लिज ट्रस

भारतीय मूल के ऋषि सुनक को हराकर लिज ट्रस (Liz Truss) के ब्रिटेन का प्रधानमंत्री चुनाव जीतने के एक दिन बाद भारत में ब्रिटेन के हाई कमिश्नर एलेक्स एलिस (Alex Ellis) ने मंगलवार को कहा कि ब्रिटेन की नई प्रधानमंत्री भारत और ब्रिटेन के बीच रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने में अहम भूमिका निभाएंगी.

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, एलिस ने कहा कि ट्रस बीते 18 महीनों में तीन बार भारत का दौरा कर चुकी हैं. वह भारत को बखूबी जानती हैं. एलिस ने लिज ट्रस की जीत पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बधाई ट्वीट का भी उल्लेख किया.  

ब्रिटिश हाई कमिश्नर ने दोनों देशों के बीच व्यापार की संभावनाओं के सवाल का जवाब देते हुए कहा कि भारत और ब्रिटेन की अर्थव्यवस्थाएं पहले ही एक दूसरे से जुड़ी हुई हैं और नई सरकार के आने से दोनों देशों के बीच व्यापार 2030 तक दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है. 

भारत, ब्रिटेन के बीच 2030 तक व्यापार को दोगुना करने का लक्ष्य

ब्रिटिश राजदूत ने कहा, लिज ट्रस ब्रिटेन, भारत के बीच रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करेंगी. वह भारत को अच्छी तरह से जानती हैं और बीते 18 महीनों में तीन बार भारत का दौरा कर चुकी हैं. उन्होंने दोबारा व्यापार चर्चा की शुरुआत की, जो अब जोरों पर है.

उन्होंने कहा, हमने 2030 तक दोनों देशों के बीच व्यापार को दोगुना करने का लक्ष्य रखा है. दोनों देशों के बीच संबंध हमारी अर्थव्यवस्थाओं और रोजगार के लिहाज से अच्छे हैं क्योंकि अगले 25 सालों में हमें बड़ी चुनौतियों का सामना करना है.

दोनों देशों के बीच रक्षा क्षेत्र में अपार संभावनाएं

उन्होंने भारत, ब्रिटेन रक्षा सहयोग के बारे में पूछने पर कहा, रक्षा सहयोग व्यापक रणनीतिक साझेदारी का ही हिस्सा है, जिसे लेकर पिछले साल दोनों देशों के बीच सहमति बनी थी. पिछले हफ्ते मैं आईएनएस विक्रांत (INS Vikrant) के उद्घाटन कार्यक्रम में शामिल था इसलिए इस क्षेत्र में दोनों देशों के लिए अपार संभावनाएं हैं. यह एक ऐसा क्षेत्र है, जहां प्रधानमंत्री ट्रस और विकास करना चाहती हैं.

उन्होंने विजय माल्या जैसे भारतीय भगोड़ों के प्रत्यर्पण की संभावना से जुड़े सवाल पर कहा, प्रधानमंत्री के तौर पर बोरिस  जॉनसन ने यह स्पष्ट कर दिया था कि हम नहीं चाहते कि अन्य देशों के भगोड़ों के लिए ब्रिटेन पनाह लेने का एक सुरक्षित ठिकाना बने. सरकार ने बीते कुछ सालों में ऐसा होने से  रोकने के लिए हरसंभव काम किया है. अब ये मामले अदालत में हैं, इनमें सरकार के लिए करने के लिए कुछ नहीं है.

बता दें कि सोमवार को लिज ट्रस को ब्रिटेन की कंजर्वेटिव पार्टी का नेता घोषित किया गया था. 47 साल की ट्रस ब्रिटेन की तीसरी महिला प्रधानमंत्री बनी हैं. इससे पहले मार्गरेट थैचर और थेरेसा यह पद संभाल चुकी हैं. 

ट्रस ने चुनाव में ऋषि सुनक को हरा दिया था. ट्रस को 81,326 जबकि सुनक को 60,399 वोट मिले थे. ट्रस ने जीत के बाद कहा था, मैं कंजर्वेटिव पार्टी की नेता चुने जाने पर सम्मानित महसूस कर रही हूं. मुझ पर विश्वास करने के लिए शुक्रिया. मैं इस कड़े समय से देश को उभारने और हमारी अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाने के लिए उचित कदम उठाऊंगी. 

मालूम हो कि पिछले साल मई में दोनों देशों के बीच वर्चुअल समिट के दौरान भारत, ब्रिटेन के भावी संबंधों के लिए रोडमैप 2030 शुरू किया गया था. इस रोडमैप का उद्देश्य दोनों देशों के बीच व्यापार, निवेश और टेक्नोलॉजी सहयोग में फिर से जान फूंकना है. 

ये भी देखें

    आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें