scorecardresearch
 

अमेरिका में अभी बैन नहीं होगा टिकटॉक, जज ने बदला डोनाल्ड ट्रंप का फैसला

चीनी ऐप टिकटॉक को लेकर दुनिया के कई देशों में संदेह रहा है. भारत ने पहले ही इसे बैन कर दिया है और अमेरिका ने भी ऐसा ही किया था. हालांकि, अब अमेरिका की एक अदालत ने बैन के फैसले पर रोक लगा दी है.

अमेरिकी राष्ट्रपति ने दिया था बैन का आदेश अमेरिकी राष्ट्रपति ने दिया था बैन का आदेश
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अमेरिका में अभी बैन नहीं होगा टिकटॉक
  • फेडरल कोर्ट ने बदला ट्रंप का फैसला

चीनी वीडियो शेयरिंग ऐप्लिकेशन टिकटॉक अभी अमेरिका में बैन नहीं होगी. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के आदेश जारी होने के खिलाफ कंपनी ने अदालत का रुख किया था. इसी केस की सुनवाई में रविवार को एक फेडरल अदालत ने बैन के आदेश को रोक दिया. कोर्ट का फैसला तब आया, जब चार घंटे बाद ही अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा दिया गया आदेश लागू होना था. 

अमेरिका ने डाटा सुरक्षा की चिंता जताते हुए कई अमेरिकी ऐप्स पर बैन का विचार किया था. इस बीच अमेरिका की कई कंपनियां टिकटॉक को खरीदने की ओर कदम बढ़ा चुकी थीं, जिसे सरकार ने मंजूरी दी थी. लेकिन इस बातचीत के बीच ही डोनाल्ड ट्रंप ने टिकटॉक पर बैन लगा दिया, जिसके कारण 28 सितंबर से इस ऐप को अमेरिका में डाउनलोड नहीं किया जाना था.

लेकिन अब कोर्ट के फैसले से ये साफ हो गया कि अमेरिका में टिकटॉक को डाउनलोड करना जारी रहेगा और पुराना टिकटॉक भी चलता रहेगा.

इसी विवाद को लेकर बात अदालत तक पहुंच गई. फेडरल कोर्ट के जज ने कहा कि जब खरीदारी की बात चल रही है तो फिर आप उस ऐप पर रोक कैसे लगा सकते हैं. अदालत में इस पूरे मामले की बहस करीब तीन घंटे तक चली. 

आपको बता दें कि अमेरिकी सरकार ने दावा किया कि चीन की कंपनियों ने दस करोड़ अमेरिकी लोगों का डाटा इकट्ठा किया है. ये सारा डाटा चीन की कम्युनिस्ट पार्टी को दिया जाता है.  

जबकि टिकटॉक को चलाने वाली कंपनी बाइटडांस ने अदालत को बताया कि अमेरिका की वॉलमार्ट, ओरेकल कंपनी के साथ उसकी डील हुई है. और अभी कुछ मसलों पर बात जारी है, एग्रीमेंट के तहत ये कंपनियां अमेरिका में टिकटॉक की मालिक होंगी. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें