scorecardresearch
 

काबुलः अमेरिकी सैन्य ठिकाने के पास 6 श्रमिकों की हत्या, हमलावर की तलाश जारी

काबुल में फायरिंग के बाद बंदूकधारी वहां भागने में कामयाब हो गया. हालांकि अभी तक किसी भी विद्रोही समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली लेकिन अफगानिस्तान के उत्तरी इलाकों में तालिबान और इस्लामिक स्टेट (आईएस) समूह के लड़ाके सक्रिय हैं.

X
अफगानिस्तान में एक हमलावर ने 6 श्रमिकों को मार दिया (सांकेतिक फोटो-AP) अफगानिस्तान में एक हमलावर ने 6 श्रमिकों को मार दिया (सांकेतिक फोटो-AP)

  • तालिबान और आईएस के गढ़ में हुआ यह हमला
  • हमले की किसी भी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली
  • सैन्य ठिकाने पर सफाई का काम करते थे मजदूर

अफगानिस्तान की राजधानी काबुल स्थित मुख्य अमेरिकी सैन्य ठिकाने के पास एक अज्ञात बंदूकधारी ने छह स्थानीय मजदूरों की गोली मारकर हत्या कर दी और तीन अन्य को घायल कर दिया.

परवाण के प्रांतीय गवर्नर के प्रवक्ता वाहिद शाहकर ने शुक्रवार को इस घटना की जानकारी देते हुए कहा कि नौ मजदूर जो अफगान नागरिक थे, गुरुवार देर रात अपने घर जा रहे थे. तभी मोटरसाइकिल पर सवार एक बंदूकधारी ने बगराम एयर बेस से करीब 500 मीटर (एक चौथाई मील) की दूरी से उन पर गोलियां चला दीं.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

वाहिद शाहकार ने कहा कि फायरिंग के बाद बंदूकधारी वहां भागने में कामयाब हो गया. हालांकि अभी तक किसी भी विद्रोही समूह ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली, लेकिन अफगानिस्तान के उत्तरी इलाकों में तालिबान और इस्लामिक स्टेट (आईएस) समूह के लड़ाके सक्रिय हैं.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें...

आईएस ने 9 अप्रैल को बगराम एयर बेस पर एक वाहन से पांच रॉकेट दागने की जिम्मेदारी का दावा किया था लेकिन इसमें कोई हताहत नहीं हुआ था.

इसे भी पढ़ें--- RBI गवर्नर बोले- कोरोना की वजह से 1.9 फीसदी रहेगी GDP की रफ्तार, G20 में सबसे बेहतर

वाहिद शाहकर ने कहा कि अफगान राष्ट्रीय सुरक्षा बलों ने श्रमिकों पर हमला करने वाले व्यक्ति की तलाश शुरू कर दी है, जो एयर बेस पर सफाई का काम करते थे.

अफगान सरकार और तालिबान 29 फरवरी को दोहा में अमेरिका और तालिबान द्वारा हस्ताक्षरित एक शांति समझौते के हिस्से के रूप में कैदियों का आदान-प्रदान करने की प्रक्रिया में है.

अमेरिका और तालिबान के बीच हुए समझौते की एक अहम शर्त यह है कि अफगान वार्ता को जारी रखने के लिए 5,000 तालिबान कैदियों और 1,000 सरकारी कर्मियों की रिहाई की जाए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें