scorecardresearch
 

महिला ने स्कूल में बेटी की टीचर को बुरी तरह पीटा, फिर क्यों कहा- अब बर्बाद हो गई जिंदगी

28 साल की चंटे मिशेल नाम की महिला ने अपनी बेटी के स्कूल में एक स्पलाई शिक्षका की पिटाई कर दी जिसके बाद अब महिला जहां नौकरी करती थी वहां उसकी नौकरी खतरे में हैं.

 चंटे मिशेल चंटे मिशेल
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महिला ने स्कूल में बेटी की टीचर को बुरी तरह पीटा
  • खतरे में पड़ी नौकरी तो कहा, बर्बाद हो गई जिंदगी

इंग्लैंड के वेस्टलैंड में एक महिला ने अपनी बेटी की स्कूल शिक्षका की ऐसी पिटाई कर दी जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती करना पड़ा. महिला ने शिक्षका को घूंसों से मारा और मोबाइल फोन से उसके सिर पर हमला कर दिया.

28 साल की चंटे मिशेल नाम की महिला की इस हरकत के बाद अब जहां नौकरी करती थी वहां उसकी नौकरी खतरे में हैं.

महिला मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे कमजोर बच्चों की केयरटेकर की नौकरी खोने के जोखिम से अब परेशान हो गई है. महिला ने टीचर को पीटने के अपने फैसले पर पछतावा जाहिर करते हुए कहा कि उसकी जिंदगी अब बदल गई है और ऐसा लगता है खत्म होने वाली है. महिला ने कहा कि शिक्षिका पर हमले के बाद उसका जीवन बर्बाद हो गया.

वेस्ट मिडलैंड्स की 28 वर्षीय इस महिला ने  बर्मिंघम मेल को बताया कि 15 मार्च को हॉल ग्रीन प्राइमरी स्कूल की शिक्षिका पर हमला के बाद उनका अच्छा खत्म हो गया. मिशेल ने शिक्षिका को घूंसा मारा था और मोबाइल फोन से सिर पर बार-बार हमला किया था. शिक्षिका को एक एम्बुलेंस से तत्काल अस्पताल पहुंचाना पड़ा था.

मानसिक स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का सामना कर रहे कमजोर बच्चों के साथ काम करने वाली इस केयरटेकर ने कहा कि उसकी नौकरी अब खतरे में है.

चंटे ने अखबार को बताया, 'ऐसा लगता है जैसे मेरी जिंदगी खत्म हो गई है, मैं यहां बैठी हूं यह जानने की कोशिश कर रही हूं कि मुझे जीनव में क्या करना है. महिला ने  अन्य अभिभावकों को भी स्कूल के कर्मचारियों से ना उलझने की चेतावनी दी है.

ये भी पढ़ें: 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें