scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

राफेल RB 002 की तस्वीर आई सामने, दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा यह फाइटर जेट

राफेल RB 002 की तस्वीर आई सामने, दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा यह फाइटर जेट
  • 1/5
विजयदशमी के मौके पर भारत को दुनिया का सबसे घातक फाइटर जेट राफेल मिल गया, जिसे खुद रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रिसीव किया. उस जेट का नाम 'RB 001' था, अब भारत को मिलने वाले 36 राफेल फाइटर जेट में से दूसरे लड़ाकू विमान की तस्वीर भी सामने आ गई है, इस दूसरे राफेल जेट का नाम 'RB 002' रखा गया है. (फोटो - जी गोसेट)
राफेल RB 002 की तस्वीर आई सामने, दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा यह फाइटर जेट
  • 2/5
बता दें कि भारतीय वायु सेना ने फ्रांस से मिले लड़ाकू विमान राफेल को सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण पूर्वोत्तर क्षेत्र में तैनात करने का फैसला किया है. इन विमानों को पाकिस्तान बॉर्डर से पहले चीन बॉर्डर पर तैनात किया जाएगा. राफेल फाइटर जेट को उड़ाने के लिए भारतीय वायुसेना (आईएएफ) ने अपनी ‘गोल्डन ऐरोज’ 17 स्क्वाड्रन (वायु सेना की टुकड़ी) को  फिर से शुरू किया है. (फोटो - जी गोसेट)
राफेल RB 002 की तस्वीर आई सामने, दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा यह फाइटर जेट
  • 3/5
फाइटर जेट राफेल की अगर खासियत की बात करें तो यह दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा. म‍िसाइल कंपनी एमबीडीए के अनुसार, राफेल में दो ऐसी म‍िसाइलें लगी हैं, ज‍िसके कारण भारत हवाई हमले में दुन‍िया में बाहुबली साब‍ित हो सकता है. राफेल में स्कैल्प और मेटेओर दो ऐसी म‍िसाइल लगी हैं जो इंड‍ियन एयरफोर्स के ल‍िए गेमचेंजर साब‍ित होंगी. (फोटो - जी गोसेट)
राफेल RB 002 की तस्वीर आई सामने, दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा यह फाइटर जेट
  • 4/5
अक्टूबर 2022 तक भारत को 36 राफेल विमान मिलेंगे. 36 राफेल लड़ाकू विमानों के लिए डील पर 2016 में हस्ताक्षर हुए थे. वायुसेना की योजना है कि राफेल का एक स्क्वाड्रन (18 विमान) को अंबाला में तैनात किया जाएगा जिससे कि पाकिस्तान और चीन के मद्देनजर हवाई सुरक्षा मजबूत की जा सके. (फोटो - जी गोसेट)
राफेल RB 002 की तस्वीर आई सामने, दुश्मनों पर कहर बनकर टूटेगा यह फाइटर जेट
  • 5/5
राफेल विमान सौदा पिछले कुछ वर्षों में सबसे चर्चित और विवादित सौदों में से एक रहा है. 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी के द्वारा केंद्र सरकार पर इस डील में घोटाला करने का आरोप लगाया गया था. पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी लगभग हर रैली में इस सौदे का हवाला देकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते रहे लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. (फोटो - जी गोसेट)