scorecardresearch
 
ट्रेंडिंग

असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स

असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स
  • 1/6
असम में आज नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (एनआरसी) का अंतिम ड्राफ्ट जारी हुआ. 40 लाख लोगों की नागरिकता अवैध घोषित कर दी गई. इसके बाद हिंसा की किसी भी घटना की आशंका के मद्देनजर सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं. हालात को देखते हुए असम में ऐहतियातन सीआरपीएफ की 220 कंपनियों को तैनात किया गया है. 14 जिलों में धारा 144 लगाई गई है. बताया जा रहा है कि इस ड्राफ्ट से खासकर मुस्लिम आबादी खौफ में है. क्योंकि बांग्लादेश से असम अवैध रूप से आए अधिकतर लोग मुस्लिम समुदाय से हैं.
असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स
  • 2/6
असम के पड़ोसी राज्य भी अवैध प्रवासियों को लेकर सतर्क हैं. नगालैंड में तो असम से सटी बॉर्डर पर भारी सुरक्षा बलों को तैनात किया है. इसके अलावा हर राज्य में लिंचिंग की घटना को रोकने के लिए स्पेशल टास्क फोर्स का भी हर जिले में गठन किया गया है. केंद्र ने पहले ही 22 हजार केंद्रीय पैरामिलिट्री दल असम में भेजे हैं. 
असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स
  • 3/6
उधर, एनआरसी को लेकर यदि सबसे ज्यादा खौफ किसी में है तो वो है मुस्लिम समुदाय. क्योंकि वर्ष 1971 से पहले राज्य में पहुंचे हजारों मुस्लिम परिवारों के पास अपनी पहचान के कोई कागजात नहीं है. ऐसे में उनके सिर पर बांग्लादेश वापस भेजे जाने की तलवार लटक रही है.
असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स
  • 4/6
सबसे ज्यादा समस्या तो वर्ष 1951 के बाद सीमापार से असम आए लोगों को है. इसकी वजह यह है कि सरकार ने वर्ष 1951 की जनगणना में शामिल तमाम लोगों और उनके वंशजों को एनआरसी में शामिल करने का फैसला किया है. लेकिन 1951 से 1971 के बीच आए लोगों के पास अगर कोई कागजात नहीं हैं.
असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स
  • 5/6
वहीं, बीजेपी के लिए यह बड़ा मुद्दा है. बीते साल चुनावों में बीजेपी ने सत्ता में आने के बाद ऐसे तमाम लोगों को खदेड़ने और बांग्लादेश के साथ लगी सीमा सील करने का वादा किया था.
असम: NRC से मुस्लिम समुदाय में संशय, नगालैंड सीमा पर लगी फोर्स
  • 6/6

नगालैंड में तो नगा स्टूडेंट फेडरेशन ने असम से आने वाले लोगों को बर्दाश्त ना करने की अपील लोगों से की है. साथ ही नगालैंड सरकार से राज्य में आने और जाने वाले लोगों पर नजर रखने के लिए कहा है.