scorecardresearch
 

दी लल्लनटॉप शोः जब सबूतों के अभाव में गुनहगारों को नहीं मिल पाई सजा

दी लल्लनटॉप शोः जब सबूतों के अभाव में गुनहगारों को नहीं मिल पाई सजा

समझौता एक्सप्रेस बम विस्फोट मामले में स्वामी असीमानंद और तीन अन्य आरोपियों को बरी करने वाली विशेष अदालत ने कहा कि अभियोजन के सबूतों में गंभीर खामियां थी और विश्वसनीय एवं स्वीकार्य साक्ष्यों के अभाव के चलते हिंसा के इस नृशंस कृत्य में किसी गुनहगार को सजा नहीं मिल पाई. एनआईए अदालत ने इस मामले में चारों आरोपियों - स्वामी असीमानंद, लोकेश शर्मा, कमल चौहान और राजिंदर चौधरी को 20 मार्च को बरी कर दिया था. न्यायाधीश ने कहा कि आतंकवाद का कोई महजब नहीं होता और आमतौर पर यह पाया गया है कि जांच एजेंसियों में भी एक दुर्भावना घर कर गई है, जिसने मुस्लिम आतंकवाद, हिंदू कट्टरपंथ जैसे विभिन्न शब्द गढ़े. देखें वीडियो.

A special court which had acquitted Swami Aseemanand and three others in the Samjhauta Express train blast case Thursday said the National Investigating Agency lost a valuable piece of evidence by not conducting an identification parade. NIA court special Judge Jagdeep Singh said the agency did not bother to conduct a Test Identification Parade of the suspects after learning that an Indore tailor may have stitched the covers of the two suitcases in which unexploded bombs were found in the train.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें