scorecardresearch
 

अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस को Bluetooth ईयरफोन्स से लगता है डर! वजह जानकर हो जाएंगे हैरान

Kamala Harris Bluetooth ईयरफोन्स की जगह वायर वाले ईयरफोन्स का यूज करती हैं. इसके पीछे की वजह काफी हैरान कर देने वाली है.

X
Kamala Harris Kamala Harris
स्टोरी हाइलाइट्स
  • अमेरिका की उप-राष्ट्रपति है कमला हैरिस
  • सुरक्षा कारणों की वजह से वो वायर्ड ईयरफोन्स का यूज करती हैं

वो काफी ऐतिहासिक पल था जब कमला हैरिस ने Joe Biden को US इलेक्शन जीतने पर बधाई दी थी. कमला हैरिस उनसे फोन पर बात कर रही थी लेकिन उनके दूसरे हाथ में वायर वाले हेडफोन्स थे. Kamala Harris को कई दूसरे मौकों पर भी वायर्ड हेडफोन्स का यूज करते हुए देखा गया है. 

Politico की एक रिपोर्ट के अनुसार कमला हैरिस ब्लूटूथ हेडफोन्स की बजाय वायर्ड हेडफोन्स का यूज करना पसंद करती है. इसका कारण काफी हैरान करने वाला है. Politico के अनुसार अमेरिका की उप-राष्ट्रपति अपनी सुरक्षा और टेक्नोलॉजी को लेकर काफी ज्यादा केयरफुल हैं. 

हालांकि, ये कन्फर्म हो चुका है कि कमला हैरिस वायर्ड हेडफोन्स को ब्लूटूथ हेडफोन्स की जगह यूज करती हैं लेकिन एक्सपर्ट्स मानते हैं कि ऐसा करके वो सही कर रही हैं. CNet की रिपोर्ट के अनुसार साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट्स का मानना है कि ब्लूटूथ कनेक्शन को हैक किया जा सकता है. 

रिपोर्ट के अनुसार साइबर क्रिमिनल्स ब्लूटूथ कनेक्शन को हैक करके डिवाइस को कंट्रोल कर सकते हैं. इसमें मैलेशियस कोड्स डालकर हैकर्स बातचीत को भी सुन सकते हैं. Citizen Labs के सीनियर रिसर्चर John Scott Railton के अनुसार कमला हैरिस स्मार्ट हैं और वो खतरे को समझती हैं. इसमें क्लोज-एक्सेस अटैक का भी खतरा हैंडसेट को लेकर है. इसके अलावा ब्लूटूथ ट्रैंकिंग और सिग्नल कलेक्शन का भी खतरा है. 

इस साल जुलाई में US नेशनल सिक्योरिटी एजेंसी (NSA) ने एक रिपोर्ट पब्लिश की थी. इसमें Bluetooth टेक्नोलॉजी के खतरे के बारे में बताया गया था. Bluetooth टेक्नोलॉजी से डेटा को वायरलेसली शॉर्ट डिस्टेंस तक ट्रांसफर किया जा सकता है. 

ये फीचर प्राइवेट में (नॉन-पब्लिक सेटिंग) के साथ काफी बढि़या है. हालांकि, ब्लूटूथ फीचर को पब्लिक सेटिंग के साथ एनेबल करने से साइबर सिक्योरिटी रिस्क बढ़ जाती है. हैकर्स Bluetooth सिग्नल को स्कैन करके टारगेट डिवाइस के बारे में जानकारी हासिल करने की कोशिश करते हैं. 

NSA ने रिपोर्ट में ये भी बताया था कि Bluetooth का यूज करके पासवर्ड और सेंसिटिव डेटा को ट्रांसफर नहीं करना चाहिए. कॉमन पब्लिक अगर अपने डेटा या फोन हैक को लेकर काफी चितिंत हैं तो उन्हें भी Bluetooth को जरूरत के समय ही ऑन करना चाहिए. बाकी समय इसे ऑफ रहने दें.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें