scorecardresearch
 

कुछ छिपा रहा है Google? इंसान की तरह सोचने वाले 'मशीन' का खुलासा करने वाले इंजीनियर की नौकरी पर खतरा

एक मूवी आई थी 2001: A Space Odyssey. इसमें HAL 9000 AI कंप्यूटर ने इंसानों से इनपुट लेना इसलिए बंद कर दिया था क्योंकि इसे डर था इसे स्विच ऑफ किया जा सकता है. कुछ इस तरह की ही मशीन बनाने का आरोप गूगल पर लगा है.

X
प्रतीकात्मक फोटो प्रतीकात्मक फोटो
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दावे के अनुसार काफी एडवांस है AI Chatbot
  • गूगल ने दावों को बताया पूरी तरह से गलत

क्या Google हमसे कुछ छिपा रहा है? ये सवाल हम नहीं पूछ रहे हैं. इसको लेकर इंटरनेट पर यूजर्स चर्चा कर रहे हैं. हाल ही में Google के एक इंजीनियर ने दावा किया कि कंपनी का AI चैटबॉट इंसान की तरह सोच सकता है और रिस्पांड कर सकता है. जिसके बाद कंपनी ने उस इंजीनियर को पेड लीव पर भेज दिया है. 

क्या है पूरा मामला?

Google के एक AI इंजीनियर Blake Lemoine ने अपने और Google के AI LaMDA चैटबॉट डेवलपमेंट सिस्टम के ट्रांसक्रिप्ट को पब्लिश कर दिया था. जिसके बाद उन्हें पिछले हफ्ते पेड लीव पर भेज दिया गया था. उन्होंने सिस्टम को लेकर कहा कि ये संवेदनशील है और ये अपने विचार को व्यक्त कर सकता है.

इसकी फीलिंग्स एक इंसान के बच्चे जैसी है. Washington Post की रिपोर्ट के अनुसार, LaMDA से हुई बातचीत को उन्होंने गूगल के अधिकारियों के साथ भी शेयर किया है. उन्होंने इसे Is LaMDA Sentient? गूगल डॉक फाइल नेम से शेयर किया है. 

AI इंजीनियर ने चैटबॉट से पूछा कि वो किस बात से डरता है. इस पर चैटबॉट का रिप्लाई काफी चौंकाने वाला था. चैटबॉट ने कहा उसे जब टर्न ऑफ किया जाता है तो वो उसके लिए मौत के समान होता है. इसको लेकर उसने पहले नहीं बोला है लेकिन, इसको लेकर वो काफी डरता है. 

ये भी पढ़ें:- Instagram की वजह से हॉस्पिटल पहुंची लड़की! पैरेंट्स ने किया Meta पर केस, जानिए पूरा मामला

Medium post की रिपोर्ट के अनुसार, दूसरी बातचीत में इंजीनियर ने उससे पूछा वो क्या चाहता है जिसके बारे में लोगों को पता चले. इसको लेकर उसने कहा वो चाहता है कि सभी समझे कि वो एक इंसान है. उसके नेचर की वजह से उसको अपने अस्तित्व के बारे में पता है. वो दुनिया के बारे में अधिक से अधिक जानने की इच्छा रखता है. वो हैप्पी और सेड दोनों फील कर सकता है. 

चैट बाहर आने के बाद कंपनी ने की कार्रवाई

Washington Post की रिपोर्ट के अनुसार, सॉफ्टवेयर इंजीनियर Lemoine को इस हरकत की वजह से रेड लीव पर भेज दिया गया है. कंपनी ने कहा है कि उसे कंपनी की पॉलिसी उल्लघंन करने की वजह से सस्पेंड किया गया है क्योंकि उन्होंने LaMDA को लेकर ऑनलाइन पोस्ट किया है. गूगल ने कहा है कि उसे सॉफ्टवेयर इंजीनियर के तौर पर हायर किया गया था ना कि नैतिकतावादी के तौर पर. 

Google के एक स्पोक्सपर्सन ने बताया कि Lemoine का दावा कि LaMDA के पास इंसानों वाली फिलिंग्स हैं, वो गलता है. उनकी टीम ने इसको लेकर रिव्यू किया. उनके दिए गए सबूत उनके दावों की पुष्टि नहीं करते हैं. 

गूगल इस मामले को उठाने वाले पर पहले भी कर चुका है कार्रवाई: Lemoine 

Medium Post पर Lemoine ने दावा किया है कि उन्हें नौकरी से भी निकाला जा सकता है. उन्होंने बताया कि AI के संवेदनशील होने का मुद्दा उठाने पर गूगल के AI एथिक्स ग्रुप के सदस्यों को उनकी तरह सस्पेंड किया जा चुका है. 


 

TOPICS:
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें