scorecardresearch
 

FB पर सांसद ने लगाया राइवल ऐप्स को कॉपी करने का आरोप, जकरबर्ग ने कहा- ऐडेप्ट किया है

अमेरिका में एंटी ट्रस्ट हियरिंग के दौरान चार बड़ी टेक कंपनियों के सीईओ से वहां के सांसदों ने पूछताछ की. इस दौरान मार्क जकरबर्ग पर अपने राइवल ऐप्स को कॉपी करने का आरोप लगाया गया.

एंटी ट्रस्ट हियरिंग के दौरान फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग (स्क्रीनग्रैब) एंटी ट्रस्ट हियरिंग के दौरान फेसबुक सीईओ मार्क जकरबर्ग (स्क्रीनग्रैब)

अमेरिका की चार बड़ी टेक कंपनियों के सीईओ को एंटी ट्रस्ट हियरिंग के दौरान तीखे सवालों का सामना करना पड़ा. दरअसल इन कंपनियों पर आरोप लग रहे हैं कि ये दूसरी छोटी कंपनियों को आगे बढ़ने का मौक़ा नहीं दे रही हैं और अपनी मोनोपॉली क़ायम करना चाहती हैं.

इसलिए बुधवार को वहां की संसद की एकाधिकार व्यापार रोधी न्यायिक उपसमिति में टेक्नॉलजी कंपनियों के सीईओ से वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के ज़रिए पूछताछ की गई.

वहां के सांसदों ने ऐपल के सीईओ टिम कुक, ऐल्फाबेट-गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई, ऐमेजॉन के सीईओ जेफ़ बेजोस और फ़ेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग से पांच घटों तक पूछताछ की है.

मार्क जकरबर्ग से पूछा गया - आपने अपने राइवल ऐप्स को दबाने और मार्केट से बाहर करने के लिए उनके फीचर्स कॉपी किए हैं.

बात करते हैं फ़ेसबुक की. फ़ेसबुक के को-फाउंडर और सीईओ मार्क ज़करबर्ग से भी कई तीखे सवाल पूछे गए. कंपनी पर वहां के सांसदों ने कई तरह के आरोप भी लगाए. फ़ेसबुक पर दूसरी इंडस्ट्री में कंपटीशन ख़त्म करने का भी इल्ज़ाम लगाया गया.

मार्क ज़करबर्ग से पूछा गया कि क्या उन्होंने अपने कंपीटीटर्स ऐप के फ़ीचर्स कॉपी किए हैं. इस सवाल के जवाब को उन्होंने टालने की कोशिश की तो दबाव बना कर पूछा गया. उन्होंने कहा कि कंपनी ने दूसरे ऐप्स के फ़ीचर्स को ऐडेप्ट किया है.

एक सांसद ने ज़करबर्ग से इंस्टाग्राम के अधिग्रहण से जुड़े तीखे सवाल किए. फ़ेसबुक ने 2012 में इंस्टाग्राम ख़रीदा था. सवाल के दौरान सांसद ने एक ईमेल का ज़िक्र किया जो जकरबर्ग और फ़ेसबुक सीओओ शेरिल सैंडबर्ग के बीच का था.

उन्होंने इस ईमेल का ज़िक्र करते हुए कहा कि इससे ये ज़ाहिर होता है कि फ़ेसबुक दूसरे ऐप्स को आगे नहीं बढ़ने देना चाहता है और अपने कंपीटीटर्स को या तो ख़त्म करना चाहता है या उनका अधिग्रहण कर लेता है. ऐसा करके उनके पास कोई दूसरा ऑप्शन नहीं होता.

इस ईमेल का हावाला देकर मार्क जकरबर्ग पर आरोप लगाया गया कि कंपनी दूसरे ऐप्स के फ़ीचर्स उन्हें ग्रो न होने देने की वजह से कॉपी करती है. उनसे पूछा गया कि 2012 के इस ईमेल एक्सचेंज के बाद से अब तक कंपनी ने कितने ऐप्स को कॉपी किया है. हालांकि इसका जवाब देने से उन्होंने मना कर दिया.

सांसद जयापाल ने उनसे पूछा कि क्या आपने कभी किसी को अधिग्रहण करने के क्रम में उनके ऐप को क्लोन करने की धमकी दी है. इसके जवाब में उन्होंने कहा कि उन्हें ऐसा कुछ याद नहीं है.

इसके बाद सांसद ने कहा है कि ऐसा लगता है कि फ़ेसबुक ने इंस्टाग्राम के अधिग्रहण से पहले इस ऐप को ये कह कर धमकी दी थी कि कंपनी फ़ेसबुक कैमरा ऐप को ही इंस्टाग्राम के अगेंस्ट यूज करेगी.

एक के बाद एक सवाल पूछे गए और इंस्टाग्राम के बाद स्नैपचैट के फ़ीचर्स भी कॉपी करने के आरोप लगाए गए और इससे जुड़े सवाल भी जकरबर्ग से पूछे गए.

सांसद जयापाल ने आख़िर में कहा है कि उन्हें यक़ीन है कि फ़ेसबुक की मोनोपॉली इन सब चीजों और दूसरे बिहेवियर की वजह से है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें