scorecardresearch
 

iPhone 14 Review: ऐपल के मन को भाया, पुराने पैकेज को नया करके लाया

iPhone 14 Review: ऐपल को फॉलो करने वाले लगभग हर शख्स के मन में ये सवाल जरूर है कि iPhone 14 में नया क्या है? iPhone 14 में क्या नया है और क्या पुराना है, इस रिव्यू में हम इस बारे में बात करेंगे. साथ ही आपको एक्सपीरिएंस भी बताएंगे कि हमें ये फोन यूज करने में कैसा लगा.

X
iPhone 14/ Photo: Munzir
iPhone 14/ Photo: Munzir

iPhone 14 रिव्यू लिखने से पहले मन में ख़्याल आया… ख़्याल ये कि अगर मैं यहाँ आपको अपने iPhone 13 के रिव्यू का लिंक दे दूँ तो शायद आपको iPhone 14 का रिव्यू पढ़ने की ज़रूरत ना हो. ऐसे में मेरा समय भी बचेगा और आपका काम भी हो जाएगा.

अब आप इतना तो समझ गए होंगे कि iPhone 14 में iPhone 13 के मुक़ाबले ज़्यादा कुछ नहीं है. लेकिन फिर भी मैंने सोचा कि ऐपल के इस नए iPhone 14 के बारे में कुछ लिखा जाए. एक हफ़्ते तक इस फ़ोन को यूज किया, लेकिन आगे इसे यूज करने का मेरा कोई इरादा नहीं है.

iPhone 14 डिजाइन…

यहाँ कुछ ख़ास लिखने को नहीं है. iPhone 13 आपने देख लिया तो समझें कि iPhone 14 भी देख लिया. iPhone 13 का फ़ुल रिव्यू आप इस लिंक पर पढ़ सकते हैं. वैसे आपकी सहूलियत के लिए यहां iPhone 14  की कुछ तस्वीरें लगा रहा हूँ. तुलना करने के लिए iPhone 13 की भी तस्वीरें लगा रहा हूँ.

याद रखें, रेड कलर वाला फ़ोन iPhone 13 है, जबकि ब्लू कलर वाला iPhone 14 है. हम iPhone 14 का ही रिव्यू कर रहे हैं.

iPhone 14/iPhone 13/ Photo: Munzir

डिज़ाइन की तो बात हो गई, अब बात कर लेते हैं हार्डवेयर की…

कम से कम ऐपल को iPhone 14 में नया चिपसेट तो देना ही चाहिए था. नया प्रोसेसर इसलिए देना चाहिए था, क्योंकि क़ीमत ज़्यादा है, इसलिए नहीं की ये फ़ोन स्लो है. कस्टमर्स ज़्यादा पैसे देंगे तो ज़ाहिर वो नए प्रोसेसर की उम्मीद भी करेंगे, भले ही उतनी स्पीड की उन्हें ज़रूरत हो या ना हो.

इस बार कंपनी ने iPhone 14 में iPhone 13 वाला ही A15 Bionic प्रोसेसर देना का फ़ैसला किया है. हालाँकि इस बार GPU में 6 कोर्स दिए गए हैं, लेकिन डेली यूज में आपको ये समझ नहीं आएगा. ये कोर्स नहीं भी होते तो भी फ़ोन का परफ़ॉर्मेंस बढ़िया ही रहता.

बहरहाल, Apple का A15 Bionic चिपसेट मार्केट के दूसरे प्रोसेसर्स के मुकाबले काफी फास्ट है और iPhone 14 ही नहीं, अगर कंपनी इसे iPhone 15 में भी दे तो भी फोन स्लो नहीं लगेगा. क्योंकि ऐपल के प्रोसेसर दूसरे प्रोसेसर्स के मुकाबले काफी तेज होते हैं.

परफ़ॉर्मेंस का मामला ज़्यादातर हार्डवेयर पर ही टिका होता है. इसलिए iPhone 13 और iPhone 14 में कौन फ़ास्ट है ये नहीं कहा जा सकता. क्योंकि मैं दोनों ही फ़ोन यूज कर रहा हूँ, मुझे ऐसा नहीं लगा कि iPhone 14 ज़्यादा फ़ास्ट है. दोनों ही एक जैसा ही परफ़ॉर्म करते हैं.

बेशक, iPhone 13 या iPhone 14 परफ़ॉर्मेंस के लिहाज़ से एक शानदार डिवाइस है. ये इसलिए, क्योंकि ऐपल मोबाइल प्रोसेसर के मामले में दूसरी कंपनियों से काफ़ी आगे हैं. इसलिए iPhone 13 वाला प्रोसेसर iPhone 14 में दिया गया है, इसका ये मतलब नहीं है कि iPhone 14 स्लो है.

भले ही इसमें पिछले साल वाला प्रोसेसर है, लेकिन ये इस सेग्मेंट का सबसे फ़ास्ट फ़ोन है. फ़ोन मक्खन की तरह स्मूद है, लेकिन यहाँ 60Hz रिफ़्रेश रेट है. प्रो मॉडल्स में 120Hz रिफ़्रेश रेट ज़रूर है.

मल्टी टास्किंग हो या फिर गेमिंग, हर मामले में फ़ोन फ़ास्ट फ़ील होता है और किसी तरह के लैग या हैंग होने की कोई समस्या नहीं दिखती है.

कुछ चीजें iPhone 14 में नई हैं जो आपको iPhone 13 में नहीं मिलेंगी. मिसाल के तौर पर यहाँ आपको क्रैश डिटेक्शन और सैटेलाइट SOS का फ़ीचर मिलता है. ये दोनों फ़ीचर्स को आप ग्राउंडब्रेकिंग कह सकते हैं. लेकिन ये भी दुआ है कि लोगों को ये दोनों फ़ीचर्स यूज करने की नौबत ना आए. क्योंकि ये दोनों ही फ़ीचर्स इमरजेंसी के लिए हैं.

हालाँकि सैटेलाइट SOS फ़ीचर भारत के लिए नहीं है और क्रैश डिटेक्शन का फ़ीचर यूज करने की नौबत आपको कभी ना आए हमारी यही दुआ है. इसलिए हमने इसकी टेस्टिंग भी नहीं की है. ये बेशक एक यूजफुल फ़ीचर है.

क्रैश डिटेक्शन फ़ीचर ऐक्सिडेंट होने पर ख़ुद से ही इमरजेंसी नंबर डायल कर देता है. फ़ोन में लगे कई सेंसर्स ये अंदाज़ा लगा लेते हैं कि ऐक्सिडेंट हुआ है. सेंसर्स के अलावा स्पीड पर डिपेंड करता है, कितनी स्पीड में आपकी कार है और ब्रेकिंग में कितना टाइम लगा है.. वग़ैरह.. वग़ैरह.

क्रैश डिटेक्शन फ़ीचर काफ़ी हद तक सटीक हैं — ऐसा कई टेस्ट में पता चला है और ऐपल का कहना है.

चलिए, खुदा ना करे किसी iPhone 14 यूज़र का ऐक्सिडेंट होता है. फ़ोन ख़ुद से इमरजेंसी नंबर डायल कर देगा, लेकिन इमरजेंसी सर्विस आपके पास कब तक पहुँचेगी ये कह पाना मुश्किल है. क्योंकि आम तौर पर भारत में इमरजेंसी सर्विस क्रैश साइट तक पहुँचने में काफ़ी समय लगाती है. तब तक कोई शख्स आपकी मदद कर ही देगा.

ये फ़ीचर अच्छा है, लेकिन भारत में ये कितना प्रैक्टिकल है आने वाले समय में ही पता चलेगा कि इस फ़ीचर से किनतों की जानें बची हैं या फिर समय पर ईलाज मिल पाया है.

iPhone 14 के साथ एक अच्छी बात ये है कि अब ये फोन एक नए कलर में आएगा. क्यों है ना ये अच्छी बात? अब तो शायद आप iPhone 14 और iPhone 13 में फ़र्क़ कर पाएँगे.

iPhone 14 में OLED डिस्प्ले दिया गया है. 6.1 इंच की स्क्रीन है और इसका रेज्योलुशन 2532X1170 है. यही डिस्प्ले iPhone 13 में भी दी गई है. पीक ब्राइटनेस 1200 निट्स की है.

डिस्प्ले ब्राइट और कलरफुल है, लेकिन पीक ब्राइटनेस iPhone 14 Pro से कम है. हालाँकि मुझे आउटडोर में भी इसकी स्क्रीन देखने में दिक़्क़त नहीं हुई. मतलब ये है कि फ़ोन की स्क्रीन से आप निराश नहीं होंगे.

Always On डिस्प्ले और 120Hz रिफ्रेश रेट सिर्फ प्रो मॉडल्स में दिया गया है. जाहिर है डायनैमिक आईलैंड फीचर भी आपको इस फोन में नहीं मिलेगा, क्योंकि यहां आपको पुराने जेनेरेशन iPhone की तरह ही ट्रेडिशनल नॉच दिया गया है.

iPhone 14 का कैमरा?

यहाँ खेल थोड़ा बदल जाता है. अगर आप फोटॉग्रफी ठीक ठाक करते हैं तो iPhone 13 और iPhone 14 की तस्वीरों में आसानी से फ़र्क़ समझ जाएँगे. लेकिन अगर आप फ़ोटोज़ सिर्फ़ इंस्टा पर अपलोड करने के लिए क्लिक करते हैं तो शायद iPhone 13 और iPhone 14 के फ़ोटोज़ में फ़र्क़ भी ना कर पाएँ.

iPhone 14 से क्लिक की गई तस्वीरों की क्वॉलिटी टॉप नॉच है. फ़ोटोज़ में डिटेल्स काफ़ी होते हैं और ऐपल की ख़ासियत है कि आपको नैचुरल लुकिंग कलर वाले फ़ोटोज़ देता है. कम रौशनी में भी इसका कैमरा अच्छा परफ़ॉर्म करता है. लेकिन टेलीफ़ोटो लेंस की कमी की वजह से आप ज़्यादा दूर की अच्छी फ़ोटोज़ नहीं ले सकते हैं.

iPhone 14 में भी कैमरा सेटअप ठीक वैसा ही है जैसा आपने iPhone 13 में देखा था. कैमरा प्लेसमेंट भी वैसा ही है और यहाँ भी 12 मेगापिक्सल के दो कैमरे दिए गए हैं. रिज़ल्ट iPhone 13 से बेहतर है.

iPhone 14 में दो 12 मेगापिक्सल के रियर कैमरे हैं, मेन सेंसर iPhone 13 से अलग है और यहां f/1.5 ऐपर्चर देखने को मिलता है. नए सेंसर और फोटोनिक इंजन की वजह से अब लो लाइट परफ़ॉर्मेंस पहले से बेहतर हो गई है. अल्ट्रा वाइड लेंस iPhone 13 जैसा ही है यहाँ कोई बदलाव नहीं है.

iPhone 14 में वीडियो के लिहाज़ से काफ़ी कुछ है. अब सिनैमेटिक वीडियो 4K में रिकॉर्ड कर सकते हैं. ये फ़ोन से iPhone 13 के मुक़ाबले इस बार ज़्यादा स्टेबल वीडियोज रिकॉर्ड कर सकते हैं. इसके साथ ही ऐक्शन मोड दिया गया है जो दौड़ते भागते हुए वीडियो बनाने में सहूलियत देता है. ज़्यादा ड्रैमैटिक बदलाव नहीं हैं, लेकिन इस मोड पर शूट किए गए वीडियोज अच्छे लगते हैं.

हालाँकि ऐक्शन मोड अच्छा तब ही काम करता है जब लाइटिंग अच्छी है. कम रौशनी में ये फ़ीचर सिर्फ़ नाम का ही है. सेल्फ़ी कैमरा 12 मेगापिक्सल का ही है जो अच्छी सेल्फ़ी क्लिक करता है.

ओवरऑल लो लाइट में iPhone 14 का कैमरा अच्छा परफ़ॉर्म करता है और इसमें कोई दिक़्क़त नहीं है. हालाँकि इस क़ीमत पर मैं इसे बेस्ट कैमरा फ़ोन नहीं कह सकता.

iPhone 14 को कंपनी पाँच कलर ऑप्शन्स के साथ लॉन्च किया है. इनमें ब्लू, सिल्वर, ब्लैक, पर्पल और रेड शामिल हैं. मैंने इसके ब्लू कलर वेरिएंट का रिव्यू किया है.

iPhone 14 में इंप्रूव्ड बैटरी दी गई है जो iPhone 13 के मुक़ाबले ज़्यादा बैकअप देती है. कंपनी ने दावा भी किया है कि iPhone 13 से 20 एक घंटे ज़्यादा बैकअप iPhone 14 में मिलेगा.

iPhone 14 का बैकअप वाक़ई अच्छा है, क्योंकि नॉर्मल से मॉडरेट यूज में ये पूरे दिन आराम से चलता है. फ़ोन में वायरलेस चार्जिंग का भी सपोर्ट है, लेकिन आप यहाँ एंड्रॉयड की तरह फ़ास्ट चार्ज की उम्मीद ना रखें. क्योंकि फ़ोन ज़्यादा तेज़ी से चार्ज नहीं होता, चार्जिंग स्पीड भी कमोबेश iPhone 13 की तरह ही है.

iPhone 14 Review: बॉटम लाइन

iPhone 14 में भले ही आपको ग्राउंड ब्रेकिंग डिज़ाइन नहीं मिल रहा है, लेकिन फिर भी ये फ़ास्ट और बेहतरीन स्मार्टफ़ोन है. सॉफ़्टवेयर फ़्रंट पर भी कोई कमी नहीं है, क्योंकि iOS जैसी प्राइवेसी और यूज़र एक्सपीरिएंस आपको किसी दूसरे स्मार्टफोन में नहीं मिलेगी.

रही बात अपग्रेड की तो अगर आपके पास iPhone 12 या 13 है तो अपग्रेड करने का कोई मतलब नहीं है. हाँ, अगर आप Apple इकोसिस्ट में एंटर करना चाहते हैं तो आपके लिए अच्छा रहेगा. क्योंकि जाहिर है ये फोन नया है तो फ्यूचर प्रूफ भी है और चार साल तक अपडेट भी मिलता रहेगा.

आज तक रेटिंग: 8/10

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें