scorecardresearch
 

IND vs AUS: चैपल ने उठाया सवाल- कोहली के लौटने पर किसे मौका देगी टीम इंडिया?

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली सीमित ओवरों के 6 मुकाबले और एडिलेड मे खेले जाने वाले शुरुआती टेस्ट मैच के बाद पितृत्व अवकाश पर भारत लौट जाएंगे.

Virat Kohli (File) Virat Kohli (File)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 'कोहली का न होना भारतीय बल्लेबाजी में गहरे शून्य की तरह'
  • एडिलेड में खेले जाने वाले पहले टेस्ट के बाद कोहली लौट जाएंगे
  • मौजूदा ऑस्ट्रेलिया सीरीज का आगाज 27 नवंबर से होगा

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीमित ओवरों के 6 मुकाबले और एडिलेड मे खेले जाने वाले शुरुआती टेस्ट मैच के बाद पितृत्व अवकाश पर भारत लौट जाएंगे. ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान इयान चैपल का कहना है कि कोहली का बॉर्डर-गावस्कर ट्रॉफी के आखिरी तीन मैचों में न रहना भारतीय टीम के बल्लेबाजी क्रम में बड़ा शून्य छोड़ देगा.

इयान चैपल का मानना है कि अगले महीने भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहले टेस्ट के बाद विराट कोहली के लौटने से प्रतिद्वंद्वी टीम में ‘बड़ी कमी’ आएगी, जिससे चयन दुविधा पैदा होगी. लेकिन सीरीज किस दिशा में जाएगी, अंत में फैसला इससे ही होगा.

कोहली एडिलेड से 17 दिसंबर से शुरू होने वाली चार मैचों की टेस्ट सीरीज का पहला मैच खेलने के बाद अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए स्वदेश लौटेंगे. वह हालांकि वनडे और टी-20 सीरीज का हिस्सा होंगे. वनडे सीरीज का आगाज 27 नवंबर को होगा.

ईएसपीएनक्रिकइंफो ने चैपल के हवाले से लिखा है, 'कप्तान कोहली पहले टेस्ट के बाद जब अपने पहले बच्चे के जन्म के लिए लौट जाएंगे, तो भारत को चयन को लेकर परेशानी झेलनी होगी. यह भारतीय बल्लेबाजी क्रम में एक बड़ा शून्य पैदा करेगी.' साथ ही उन्होंने कहा कि उनकी जगह आने वाले खिलाड़ी के लिए पहचान बनाने का यह बड़ा मौका होगा.

77 साल के इयान चैपल ने माना, ‘यह भारतीय बल्लेबाजी क्रम में काफी बड़ी कमी ला देगा और साथ ही यह उनके प्रतिभाशाली खिलाड़ियों में से एक के लिए खुद के कौशल को दिखाने का मौका प्रदान करेगा.’ 

देखें: आजतक LIVE TV 

चैपल ने कहा, 'अभी तक रोमांचक भिड़ंत का आकार ले रहे मुकाबले में अब एक और मोड़ आ गया है और वह है अहम चयन फैसले. नतीजे का स्तर नीचे भी आ सकता है, जो निर्भर करेगा कि कौन सबसे बहादुर चयनकर्ता हैं.’ 

उचित चयन करने की महत्ता पर जोर देते हुए चैपल ने ऑस्ट्रेलियाई सलामी जोड़ी के लिए डेविड वॉर्नर के साथ जो बर्न्स की जगह विल पुकोवस्की को तरजीह दी. उनके विचार ऑस्ट्रेलियाई कोच जस्टिन लैंगर से अलग हैं, जिन्होंने बर्न्स का समर्थन किया जो फॉर्म में नहीं हैं.

पूर्व आस्ट्रेलियाई कप्तान ने कहा, ‘आपको भागीदारी की अहमियत को लेकर अधिक अंदाजा नहीं लगाना चाहिए. बर्न्स का पिछली गर्मियों में प्रदर्शन 32 के एवरेज के साथ दो अर्धशतकों से कुल 256 रन बनाना था. यह टेस्ट खिलाड़ी के लिए औसत से निचला प्रदर्शन है.’ 

उन्होंने कहा, ‘वहीं पुकोवस्की ने शील्ड स्तर पर छह शतक लगाए, जिसमें से तीन दोहरे शतक थे और इसमें से दो दोहरे शतक इस सत्र में लगे.’ 

वहीं, चैपल को लगता है कि कोविड-19 महामारी के दौर में तैयारियों की बात की जाए तो इसमें भारत आगे है. उन्होंने कहा, ‘इन गर्मियों में महामारी के कारण बिगड़े हुए ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट कार्यक्रम से भारत को पिछले दौरे में मिली जीत को दोहराने की मुहिम में फायदा मिलेगा.’

भारतीय टीम 13 नवंबर को ऑस्ट्रेलिया पहुंचने के बाद अभी 14 दिनों के पृथकवास से गुजर रही है, लेकिन न्यू साउथ वेल्स सरकार ने इस दौरान कोहली ब्रिगेड को प्रैक्टिस की अनुमति दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें