scorecardresearch
 

गीता फोगट: मेरे पिताजी को गांव वाले कोसते थे

''सारे गांव ने पिताजी को हम बहनों को पुरुषों वाले खेल में डालने के लिए जमकर कोसा था. आज वही लोग हमारी कामयाबी को देखकर दांतों तले उंगलियां दबा रहे हैं. मेरा संघर्ष हर उस इनसान के खिलाफ है जो यह सोचता है कि लड़कियां मजबूत नहीं होतीं.''

गीता फोगट गीता फोगट

गीता फोगट, 23 वर्ष
कुश्ती, 55 किलो
भिवानी, हरियाणा
उनकी कहानी कर्णम मल्लेश्वरी ने 2000 ईस्वी. में जब सिडनी ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल जीता तब महाबीर सिंह को यह भरोसा हो गया कि उनकी बेटियां भी खेलों में आगे बढ़ सकती हैं. महाबीर खुद भी पहलवान हैं. उन्होंने भिवानी के नजदीक बिलाली गांव में एक अखाड़ा खोल रखा है और यहीं पर वे अपनी बेटियों को प्रशिक्षण भी देते हैं.

बेटी गीता (55 किलो) और बबीता (51 किलो वर्ग) की जीत के रूप में उनकी कोशिश रंग लाने लगी है. गीता फोगट 2003 से एशियाई कैडेट चैंपियनशिप में लगातार तीन गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं. लेकिन खेल जगत का ध्यान उनकी ओर तब गया जब उन्होंने 2010 में दिल्ली में हुए कॉमनवेल्थ गेम्स में महिला कुश्ती में गोल्ड मेडल जीता था.

खास है उनका उत्साह इसलिए भी खासा बढ़ा हुआ होगा क्योंकि ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने वाली वे देश की पहली महिला पहलवान होंगी.

चुनौतियां अंतरराष्ट्रीय पहलवान स्पीड और टेक्नीक पर ज्यादा काम करते हैं और इन्हीं का ज्यादा इस्तेमाल भी करते हैं लेकिन भारतीय पहलवान सिर्फ और सिर्फ शारीरिक शक्ति पर जोर देते हैं. भारतीय अब भी अखाड़े से आगे नहीं बढ़ पाए हैं. उनके प्रशिक्षण में रस्सी पर चढ़ने और पुश-अप करने जैसे तरीके ही शामिल हैं.

मिशन ओलंपिक उन्होंने 2009 की कॉमनवेल्थ रेस्लिंग चैंपियनशिप और 2010 के कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीते हैं. वे अप्रैल में कजाकिस्तान के अस्ताना में हुए रेस्लिंग फिला एशियन ओलंपिक क्वालिफिकेशन टूर्नामेंट के फाइनल तक पहुंच गई थीं. इस तरह उन्होंने लंदन ओलंपिक के लिए क्वालिफाइ किया. उसके बाद से वे अमेरिका के कोलारेडो स्प्रिंग्स और बेलारूस के मिंस्क में प्रशिक्षण ले रही हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें