scorecardresearch
 
खेल

टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव

टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 1/7
भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर किए गए करुण नायर और मुरली विजय ने हाल ही में एमएसके प्रसाद की अगुवाई वाली सेलेक्शन कमिटी पर चौंका देने वाले आरोप लगाए जिससे BCCI और सेलेक्शन कमिटी नाराज है.
टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 2/7
विजय ने कहा था कि जब से वो टीम से बाहर हुए हैं, तब से उनसे न तो किसी सेलेक्टर ने बात की है और न ही टीम मैनेजमेंट में से किसी ने उनसे संपर्क साधा है. इस तरह का रवैया एक खिलाड़ी के मनोबल के लिए काफी बुरा साबित होता है.
टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 3/7
विजय ने कहा था कि ये एक अहम बात है कि खिलाड़ी को मालूम होना चाहिए कि उसे किस कारण से टीम से बाहर किया गया है. अगर खिलाड़ी को पता होगा कि उसे क्यों बाहर किया गया है तो उसे ये भी पता चल जाएगा कि वो सेलेक्टर्स और टीम मैनेजमेंट की योजनाओं में कहां खड़ा हुआ है. खिलाड़ी को ये पता होना चाहिए कि उसने गलती कहां की और टीम मैनेजमेंट और चयनकर्ताओं की उस खिलाड़ी को लेकर क्या योजना है.
टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 4/7

जबकि करुण नायर सेलेक्शन कमिटी पर खुलासा किया था कि उन्हें लगातार छह टेस्ट मैचों से बाहर रखने के बाद न तो टीम प्रबंधन (मुख्य कोच रवि शास्त्री और कप्तान विराट कोहली) और ना ही सेलेक्टर्स ने उनसे बात की.
टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 5/7
इसके बाद बीसीसीआई और सेलेक्शन कमिटी इन दोनों से नाराज हो गई है. बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने नाम नहीं बताने की शर्त पर पीटीआई से कहा, ‘विजय और करूण ने सेलेक्शन नीति पर बोलकर अच्छा नहीं किया.
टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 6/7
बीसीसीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'यह सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट का उल्लघंन है. सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट के अनुसार कोई भी खिलाड़ी हाल में समाप्त हुए दौरे के बारे में 30 दिन तक कुछ नहीं बोल सकता. हैदराबाद में 11 अक्टूबर को सीओए की बैठक है और वहां इस मुद्दे को उठाया जा सकता है.’
टीम इंडिया के 2 खिलाड़ियों की सेलेक्टर्स से बगावत, कार्रवाई संभव
  • 7/7

करुण को इंग्लैंड में पूरी पांच मैचों की सीरीज में टीम में शामिल नहीं किया गया जबकि विजय को इंग्लैंड के खिलाफ पहले तीन टेस्ट मैचों के बाद बाहर कर दिया गया और फिर वह एसेक्स के लिए तीन मैच खेलने चले गए. पता चला है कि सेलेक्टर्स को नायर के बजाय विजय के बयान से ज्यादा दुख हुआ है क्योंकि वह काफी अनुभवी हैं.