scorecardresearch
 

RR Vs KKR IPL 2022: शतक-हैट्रिक और आखिरी ओवर..IPL 2022 के सबसे रोमांचक मैच की पूरी कहानी

राजस्थान रॉयल्स ने इस मैच में सात रनों से जीत हासिल की. लेकिन मैच की पहली बॉल से लेकर आखिरी बॉल तक जिस तरह का रोमांच देखने को मिला, वह दर्शकों को लंबे वक्त तक याद रहने वाला है. वो भी आईपीएल के बर्थडे के दिन ये सब हुआ, जिसने इसे और भी खास बना दिया.

X
Yuzvendra Chahal (@IPL) Yuzvendra Chahal (@IPL)

सोमवार 18 अप्रैल 2022. वीकेंड के बाद का पहला दिन यानी फेमस मंडे ब्लू वाला दिन. ये सोमवार बिल्कुल वैसा ही चल रहा था, जबतक शाम को इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) में कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) और राजस्थान रॉयल्स (RR) का मुकाबला शुरू नहीं हुआ. आईपीएल 2022 के शुरुआती 28 मैचों को दर्शकों ने पूरी तरह से नीरस करार दिया, जिसका सबूत दो हफ्तों की टीवी रेंटिंग्स में दिखा और रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंची.

लेकिन सोमवार को राजस्थान रॉयल्स और कोलकाता नाइट राइडर्स के मैच में वो हुआ जिसका आईपीएल के चाहने वालों को इंतज़ार था. ये असली आईपीएल का मुकाबला था, जिसमें फुल रोमांच था जैसे कोई मसाला फिल्म हो. या हाल ही में रिलीज़ हुई केजीएफ 2 हो, जहां पता ही नहीं लगता कि आगे क्या होने वाला है. 

मुंबई के सीसीआई स्टेडियम में ये मैच शुरू हुआ और अभी तक के खेले गए ज्यादातर मुकाबलों की तरह यहां भी टॉस जीतने वाली टीम ने पहले बॉलिंग का फैसला ले लिया. इस सीजन में सबसे बेहतरीन फॉर्म में चल रहे जोस बटलर राजस्थान रॉयल्स की ओर से ओपनिंग करने आए और उनके साथ देवदत्त पडिक्कल भी थे. 

ये भी पढ़ें: चहल की हैट्रिक पर स्टैंड में मौजूद धनश्री का ऐसा था रिएक्शन, वायरल हो रहा Video 

दोनों ने अपने ही अंदाज़ में खेलना शुरू कर दिया और रन बरसना शुरू हुआ. मैच का रोमांच इतना बेहतरीन रहा कि दोनों खिलाड़ियों ने दौड़कर ही चार रन ले लिए. आईपीएल के इतिहास में ये पहली बार हुआ कि दो बल्लेबाज़ों ने बिना किसी ओवर-थ्रो के दौड़कर चार रन लिए हों. लेकिन इस मुकाबले में ये भी देखने को मिल ही गया. 

24 रन बनाकर देवदत्त पडिक्कल आउट हुए, लेकिन जोस बटलर लगे रहे और बता दिया कि उन्हें टी-20 फॉर्मेट का बेस्ट ओपनर क्यों कहा जाता है. जोस बटलर ने सिर्फ 61 बॉल में 103 रनों की पारी खेली. यह इस सीजन का उनका दूसरा शतक था और आईपीएल में कुल तीसरा शतक था. बटलर ने अपनी पारी में 5 छक्के मारे और अंत तक क्रीज़ पर टिके रहे. 

खरबूजे को देखकर खरबूजा रंग बदलता है, ये कहावत बार-बार सुनने को मिलती है. ऐसा ही मैच में भी हुआ, कप्तान संजू सैमसन क्रीज़ पर उतरे तो ऐसा लगा कि वो कुछ ठानकर ही आए हैं. आते ही उन्होंने रनों की बरसात कर दी और सिर्फ 19 बॉल में 38 रनों की तूफानी पारी खेलकर आउट हो गए. आंकड़ों में इसे चाहे बहुत बड़ी पारी ना माना जाए, लेकिन मैच में उस मोमेंट के हिसाब से तेज़ रफ्तार का मोमेंटम बनाने के लिए ये काफी ज़रूरी थी. अंत में रही सही कसर शिमरोन हेटमायर ने पूरी कर दी जिन्होंने 13 बॉल में 26 रन बना दिए. राजस्थान रॉयल्स ने इसी तरह अपने 20 ओवर के कोटे में 217 रन बनाए. यह इस सीजन का अबतक का सबसे बड़ा स्कोर था. 

कोलकाता नाइट राइडर्स की फील्डिंग के दौरान एक गज़ब का कैच भी देखने को मिला, जो पैट कमिंस और शिवम मावी की जोड़ी ने लपका. बॉल पकड़ते हुए पैट कमिंस बाउंड्री में गिरने लगे तो उन्होंने शिवम मावी की तरफ बॉल उछाल दी. कैच पकड़ा गया, लेकिन आईपीएल में फील्डिंग का स्तर इतना ऊंचा हो गया है कि ऐसे कैच भी अब सामान्य की श्रेणी में आ गए. 

(IPL)

जिस तरह की पिच देखने को मिल रही थी, उस हिसाब से लगा था कि कोलकाता नाइट राइडर्स इस लक्ष्य को पा सकती है. कोलकाता के लिए अपना 150वां मैच खेल रहे सुनील नरेन ने इस मैच में चौंकाया और टीम ने उन्हें ओपनिंग करने के लिए भेजा. वह पहले भी टीम के लिए ओपनिंग का जिम्मा संभाल चुके हैं और कई मोर्चों पर सफल भी रहे हैं. 

लेकिन ये उनका दिन नहीं था, एरोन फिंच ने पहली बॉल पर डिफेंस कर रन चुराने की कोशिश की और इस चक्कर में सुनील नरेन को रनआउट करवा बैठे. शिमरोन हेटमायर की सीधी थ्रो ने सुनील नरेन को एक बॉल भी नहीं खेलने दी. दूसरी ओर एरोन फिंच ने इस मैच में अपना कमाल दिखाया और इस सीजन में अपनी पहली फिफ्टी जड़ दी. 

कोलकाता के लिए असली कमाल खुद कप्तान श्रेयस अय्यर ने किया. जिन्होंने पहली बॉल से ही बाउंड्री मारने का सिलसिला शुरू किया और जबतक क्रीज़ पर रहे तबतक ऐसा ही करते रहे. श्रेयस अय्यर ने अपनी पारी में 51 बॉल खेलीं और 85 रन बनाए, जिसमें चार छक्के और सात चौके शामिल रहे. कोलकाता की बैटिंग में बात करने के लिए इतना ही काफी है, क्योंकि इस मैच में भी राजस्थान रॉयल्स ने बैटिंग के अलावा बॉलिंग में कमाल किया. 

यहां सबसे पहली बात रविचंद्रन अश्विन की उस बॉल की जानी चाहिए, जो उन्होंने आंद्रे रसेल को डाली. अश्विन को इससे पहले इस मैच में कोई विकेट नहीं मिला था, आंद्रे रसेल ऐसे प्लेयर थे जो कुछ ही मिनटों में मैच बदल सकते हैं. ऐसे में रविचंद्रन अश्विन मिडिल में लेंथ बॉल (13.4 ओवर) डाली जो हल्का-सा टर्न लेते हुए सीधा स्टम्प में घुस गई. 

(IPL)


खैर, मैच यहां पलटना शुरू हुआ था लेकिन पलटा नहीं था. क्योंकि श्रेयस अय्यर तब क्रीज़ पर खड़े थे. उसके बाद 17वें ओवर में युजवेंद्र चहल बॉलिंग करने आए. इस ओवर की पहली बॉल पर वेंकटेश अय्यर का विकेट गिरा जो आगे बढ़कर शॉट उड़ाने के चक्कर में स्टम्प आउट हो गए. 

इसी ओवर की चौथी बॉल पर युजवेंद्र चहल ने कप्तान श्रेयस अय्यर को LBW किया, श्रेयस ने रिव्यू लिया लेकिन अंपायर ने आउट ही करार दिया. यहां से मैच राजस्थान के पाले में आ गया था, इसकी अगली ही बॉल पर शिवम मावी ने हवाई शॉट खेलने के चक्कर में अपना विकेट गंवाया. ओवर की आखिरी बॉल खेलने के लिए पैट कमिंस आए, जो इस सीजन में एक तूफानी फिफ्टी जड़ चुके थे. सामने युजवेंद्र चहल अपनी पहली हैट्रिक के इंतज़ार में थे, उन्होंने बॉल फेंकी जो ज़बरदस्त घूमी और बल्ले का किनारा लेते हुए सीधे संजू सैमसन के ग्लव्स में गई. ये युजवेंद्र चहल की पहली हैट्रिक थी, आईपीएल में उन्होंने पहली बार एक स्पेल में पांच विकेट भी लिए. 

(IPL)

अबतक इस मैच में शतक, हैट्रिक और पांच विकेट लिए जा चुके थे. लेकिन इसके बाद भी क्लाइमेक्स बाकी था जो मैच का आखिरी ओवर था. ओबेड मैकॉय अपना पहला मुकाबला खेल रहे थे और उनके सामने आखिरी ओवर में 11 रन बचाने का चैलेंज था. उमेश यादव अबतक चौके-छक्के बरसा चुके थे, ऐसे में हर किसी को लगा कि कहीं ये रन बन ना जाएं. लेकिन मैकॉय ने कमाल किया और दूसरी-चौथी बॉल पर विकेट निकालकर कोलकाता की पारी ही खत्म कर दी और खुद को मैच का हीरो बना दिया. 

कोलकाता नाइट राइडर्स और राजस्थान रॉयल्स का यह मुकाबला इसी वजह से इस सीजन का सबसे बेस्ट मैच बताया जा रहा है, क्योंकि इसमें शुरू से लेकर अंत तक ड्रामा था. और शायद आईपीएल 2022 को इसी तरह के मैच की दरकार भी थी. 


 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें