scorecardresearch
 

Women's IPL: अंजुम चोपड़ा की जुबानी, जानें महिला IPL कर पाएगा पुरुषों की बराबरी...

Anjum Chopra: क्रिकेट लवर्स के लिए इस बार IPL (इंडियन प्रीमियर लीग) दोगुनी खुशी लेकर आ रहा है. Finally!! Women IPL का आगाज अगले साल होने जा रहा है. BCCI ने इसका ऐलान कर के महिला क्रिकेट को आगे बढ़ाने के लिए सराहनीय पहल की है. पुरुष आईपीएल का फैन बेस तो सभी जानते हैं, केवल भारत ही नहीं, बल्कि पूरी दुनिया में इस लीग को काफी ज़्यादा पसंद किया जाता है.

X
Indian former cricketer and current cricket commentator Anjum Chopra
Indian former cricketer and current cricket commentator Anjum Chopra

Women's IPL: लंबे इंतजार के बाद महिला आईपीएल (WIPL) होने जा रहा है. पिछले दिनों भारतीय क्रिकेट नियंत्रण बोर्ड (BCCI) ने महिला आईपीएल को हरी झंडी दे दी. इसका आयोजन 2023 में होगा. अगले साल मार्च में WIPL (वुमन इंडियन प्रीमियर लीग) टूर्नामेंट के मुकाबले खेले जाएंगे. महिला क्रिकेट को आगे बढ़ाने की पहल की ओर इसे खास कदम माना जा रहा है.

हाल ही में महिला क्रिकेटर्स की मैच फीस पुरुष क्रिकेटर्स के बराबर करने का ऐलान किया गया है. और अब WIPL की घोषणा से इसमें चार चांद लग गए हैं. अब तक सिर्फ Men's IPL को ही ज़्यादा महत्व दिया जाता रहा है. महिलाओं के क्रिकेट को लेकर उतना उत्साह नहीं देखने को मिला है. तो क्या अब महिला IPL के आगाज से कुछ बदलाव आएगा और क्या ये पुरुषों की बराबरी कर पाएगा..?

'आजतक' से खास बातचीत में भारतीय महिला टीम की पूर्व कप्तान और स्टार प्लेयर रहीं अंजुम चोपड़ा ने महिला आईपीएल के ऐलान पर खुशी जाहिर करते हुए कहा, 'मैं निश्चित रूप से खुश हूं, दुनियाभर में महिला IPL एक बेहतर इम्पैक्ट क्रिएट करेगा. मुझे लगता है कि 'जितना अधिक आप खेलते हैं, उतना ही बेहतर बनते हैं' और अधिक कॉम्पिटिटिव क्रिकेट आप खेलना शुरू करते हैं. साथ ही, अपनी स्किल्स को इंप्रूव कर सकते हैं. ये आपको और बेहतर सीखने का मौका देता है.'

बता दें कि क्रिकेटर से सफल कमेंटेटर बनीं अंजुम चोपड़ा ने 17 साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला है और रिकॉर्ड छह बार वर्ल्ड कप में भारत का प्रतिनिधित्व किया है.

यह रातों-रात नहीं हो जाता है, लेकिन...

महिला आईपीएल इस दौर के क्रिकेट में नया बदलाव ला सकता है...? इस सवाल के जवाब में 45 साल की अंजुम ने दो टूक कहा, 'अगर ओवरऑल देखें कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट इतना बेहतर कर रहा है तो इसका एक कारण है एक्सपोजर. इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म पर आप क्वालिटी प्लेयर्स के साथ कम्पटीशन करते हैं, बहुत कुछ इतने बड़े लेवल पर सीखते हैं और ऐसे में धीरे-धीरे और लगातार परिवर्तन होता है. हां, यह रातो-रात नहीं हो जाता है, लेकिन आप जितने ज्यादा मैच खेलोगे यह उतना बेहतर बनाएगा.'

बेहतर बनने की संभावना तालाशेगा महिला IPL

भारत में महिला क्रिकेट को आईपीएल से नई दिशा मिलेगी. साथ ही चर्चा है कि ऐसा होने से नई प्रतिभाओं के लिए  अवसर पैदा होंगे. अंजुम चोपड़ा भी इससे सहमत दिखीं. उन्होंने कहा, 'जितना अधिक आप अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलेंगे, आपके पास बेहतर बनने की संभावना उतनी ही ज्यादा होगी. महिला आईपीएल और अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट, ये सभी गेम हमारे देश में मौजूद प्रतिभा को इंस्पायर कर और अच्छा करने का बढ़ावा देंगे, इससे भारत में महिलाओं के बेहतर खेल के लिए एक नया रास्ता निकलना चाहिए.'

महिला आईपीएल का कैसा है भविष्य?

भारत 2017 में जब महिला क्रिकेट वनडे वर्ल्ड कप में फाइनल में पहुंचा था ,तभी महिला आईपीएल बड़ा मुद्दा बन गया था. और अब, जब  WIPL अगले साल शुरू होने वाला है तो इसके भविष्य के बारे में अंजुम चोपड़ा ने कहा,  'बेशक, 2017 ‘वाटरशेड’ पल था, हम 2005 में भी उपविजेता थे. 2017 में इसने बहुत सकारात्मक तरीके से प्रभाव डाला. मुझे लगता है कि महिला आईपीएल का अधिक प्रभाव होना चाहिए और यह केवल भारत में ही नहीं, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर होना चाहिए. मैं चाहती हूं कि नए टैलेंट सामने आएं और उन्हें ट्रेन कर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मौका दिया जाए. जाहिर तौर पर खेल ने तेजी से सुधार किया है और मुझे उम्मीद है कि यह विकास को और आगे बढ़ाएगा और खेल और बेहतर हो जाएगा.'

Indian women cricket team

'महिला क्रिकेट बेहतर करने पर फोकस' 

महिला आईपीएल पुरुषों की तुलना में कितना सफल रहेगा, यह निश्चित तौर पर चर्चा का विषय है. सभी जानते हैं कि पुरुष आईपीएल की फैन फॉलोइंग कहीं ज्यादा है तो क्या महिला आईपीएल पुरुषों के आईपीएल की बराबरी कर सकता है? यब पूछे जाने पर अंजुम चोपड़ा ने कहा, 'फिलहाल मुझे नहीं लगता कि कोई सोच रहा होगा कि महिला आईपीएल आगे या पीछे होगा. वास्तविक सोच यह है कि महिलाओं का खेल बेहतर होना चाहिए. इसे भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में भी महिलाओं के खेल में मदद करनी चाहिए और इसे आगे बढ़ाना चाहिए.'

अंजुम चोपड़ा ने कहा, 'हम पहले से ही जानते हैं कि पुरुषों का आईपीएल इतना शानदार और विश्व स्तर का प्रोडक्ट है और अगर हम पुरुषों के आईपीएल जितना अच्छा कोई दूसरा प्रोडक्ट बनाते हैं तो न केवल भारत को अच्छा अंक मिलता है, बल्कि खेल भी बेहतर हो जाता है. मेरा मतलब है कि कल्पना कीजिए कि भारतीय खिलाड़ी भी पुरुष क्रिकेटरों की तरह प्रतिस्पर्धा करना शुरू करते हैं, तो एक समग्र विकास होगा, यह महिलाओं के खेल के लिए भी बहुत अच्छा होगा. जैसा कि पुरुषों का आईपीएल पहले से ही उत्कृष्ट है, इसलिए हमें भी दुनिया में बेहतर और सर्वश्रेष्ठ बनने की कोशिश करनी चाहिए.

बता दें कि महिला आईपीएल का अगले साल से भले ही आयोजन होने जा रहा है, लेकिन महिला टी20 चैलेंज के चार सीजन आयोजित हो चुके हैं. ट्रेलब्लेजर्स, सुपरनोवाज और वेलोसिटी टूर्नामेंट में हिस्सा लेते आए हैं. इस साल सुपरनोवाज की टीम ने टी20 चैलेंज का खिताब जीता है.

='https:>

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें