scorecardresearch
 

Ravindra Jadeja: 'जो हो गया वो हो गया..', IPL के बवाल पर रवींद्र जडेजा ने पहली बार तोड़ी चुप्पी

रवींद्र जडेजा ने आईपीएल में कप्तानी विवाद को लेकर अपनी चुप्पी तोड़ी है. जडेजा ने कहा कि जब भी आप भारत के लिए खेल रहे हों तो आपका पूरा ध्यान टीम पर होना चाहिए.

X
Ravindra Jadeja (@Getty) Ravindra Jadeja (@Getty)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जडेजा ने कप्तानी विवाद को लेकर तोड़ी चुप्पी
  • इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन टेस्ट मे जड़ा शतक

टीम इंडिया के ऑलराउंडर रवींद्र जडेजा के लिए इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) का 15वां सीजन काफी निराशाजनक रहा था.  आईपीएल 2022 की शुरुआत से पहले चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) ने  रवींद्र जडेजा को कप्तान बना दिया था क्योंकि धोनी ने कप्तानी छोड़ने का फैसला लिया था. लेकिन जडेजा कप्तानी में कमाल नहीं दिखा पाए थे जिसके एमएस धोनी ने फिर से कप्तानी की जिम्मेदारी संभाली थी. बाद में जडेजा चोटिल होने के चलते बाकी मैचों से बाहर हो गए थे.

अब जडेजा ने आईपीएल में कप्तानी विवाद को लेकर बड़ी बात कही है. इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन में जारी पांचवें टेस्ट मैच के दूसरे दिन की समाप्ति के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में बोलते हुए जडेजा ने कहा कि वह इस घटना से आगे बढ़ चुके है. साथ ही उनका पूरा ध्यान भारत के लिए खेलने और अच्छा प्रदर्शन करने पर था.

क्लिक करें-  IND vs ENG Test Match: दूसरे दिन भी भारत का दबदबा, इंग्लैंड ने 84 रन पर खोए 5 विकेट

रवींद्र जडेजा ने कहा, 'जो हुआ, सो हुआ. आईपीएल मेरे दिमाग में नहीं था. जब भी आप भारत के लिए खेल रहे हों तो आपका पूरा ध्यान भारतीय टीम पर होना चाहिए. मेरे लिए भी ऐसा ही था, भारत के लिए अच्छा प्रदर्शन करने से बेहतर कोई संतुष्टि नहीं है.

इंग्लैंड में सौ रन बनाना बड़ी बात: जडेजा

जडेजा ने आगे कहा, 'भारत के बाहर खासकर इंग्लैंड में शानदार प्रदर्शन करना वास्तव में अच्छा लगता है. एक खिलाड़ी के रूप में 100 रन बनाना बड़ी बात है. मैं वास्तव में एक खिलाड़ी के रूप में अपने आप में कुछ आत्मविश्वास ले सकता हूं, विशेष रूप से इंग्लिश परिस्थिति में में 100 रन बनाने के बाद. मैं काफी अच्छा फील कर रहा हूं.'

बुमराह की जमकर तारीफ की

जडेजा ने आगे बताया, 'हमारे 9, 10 और 11वें क्रम के खिलाड़ी बल्लेबाजी में बहुत अभ्यास करते हैं. हमारा टीम प्रबंधन सुनिश्चित करता है कि वे अभ्यास सत्र में अपनी बल्लेबाजी पर काम करें. जब 9,10 और 11वें क्रम के बैटर रन बनाते हैं तो अच्छी फीलिंग आती है क्योंकि यह टीम के लिए एक बोनस होता है. जब भी बुमराह नेट्स में बल्लेबाजी करते हैं, वह इसे गंभीरता से लेते हैं. आखिरी 40-50 रन जो उन्होंने दूसरे बैटर्स के साथ मिलकर बनाए, वह एक बोनस रहा.'


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें