scorecardresearch
 

Rahul Dravid on Rishabh Pant: 'ऋषभ पंत बढ़िया फॉर्म में लेकिन धड़कन बढ़ा देते हैं', राहुल द्रविड़ का मज़ेदार बयान

इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन टेस्ट में टीम इंडिया ने पहली पारी में 100 रन के अंदर ही 5 विकेट गंवा दिए थे. तब ऋषभ पंत ने मोर्चा संभाला और 111 बॉल पर ताबड़तोड़ 146 रनों की पारी खेली थी...

X
Rahul Dravid and Rishabh Pant (Twitter) Rahul Dravid and Rishabh Pant (Twitter)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एजबेस्टन टेस्ट में टीम इंडिया की करारी हार
  • इंग्लैंड ने यह टेस्ट मैच जीतकर सीरीज ड्रॉ की

Rahul Dravid on Rishabh Pant: टीम इंडिया के कोच राहुल द्रविड़ का एक बयान काफी वायरल हो रहा है, जिसमें वह विकेटकीपर बैटर ऋषभ पंत की जमकर तारीफें करते दिखाई दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि टेस्ट क्रिकेट में ऋषभ पंत अलग तरह के ही शॉट खेलते हैं, जो लोगों के दिलों की धड़कनें बढ़ा देते हैं.

द्रविड़ ने पंत को गेम चेंजर भी बताया है, खासकर टेस्ट क्रिकेट में. दरअसल, इंग्लैंड के खिलाफ एजबेस्टन टेस्ट में टीम इंडिया ने पहली पारी में 100 रन के अंदर ही 5 विकेट गंवा दिए थे. यहां से ऋषभ पंत ने मोर्चा संभाला और 111 बॉल पर ताबड़तोड़ 146 रनों की पारी खेली.

पंत ने रवींद्र जडेजा के साथ मिलकर छठे विकेट के लिए 222 रनों की पार्टनरशिप की थी. इसके बदौलत टीम इंडिया ने पहली पारी में 416 रनों का बड़ा स्कोर बनाया था. हालांकि दूसरी पारी में भारतीय टीम 245 रनों पर सिमट गई. इसके बाद इंग्लैंड टीम ने 378 रनों का टारगेट 3 विकेट गंवाकर हासिल कर लिया और मैच अपने नाम किया.

'पंत के ऐसे शॉट देखने की आदत हो गई'

मैच के बाद कोच द्रविड़ ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'ऋषभ पंत टेस्ट क्रिकेट में शानदार खेल रहे हैं. इससे पहले उन्होंने साउथ अफ्रीका के खिलाफ केपटाउन में शतक लगाया था. उस मुश्किल हालात में भी शतक लगाना अच्छा रहा. (हंसते हुए कहा) हां लेकिन पंत बीच-बीच में लोगों के दिलों की धड़कनों को जरूर बढ़ा देते हैं, लेकिन हमें इसकी आदत हो गई है.'

कोच द्रविड़ का मानना है कि ऋषभ पंत को कुछ नए शॉट्स खेलना चाहिए. कोच ने कहा, 'हम यह भी स्वीकार करते हैं कि पंत को कुछ ऐसे शॉट भी खेलना चाहिए, जो उन्होंने पहले कभी नहीं खेले हों. हम यह देखना चाहेंगे.'

'क्रीज पर आते ही बल्ला नहीं घूमाते हैं पंत'

द्रविड़ ने कहा, 'ऋषभ पंत जिस तरीके से खेलते हैं, वह किसी भी मैच का रुख बदल सकते हैं. उन्होंने किया भी है. इस एजबेस्टन टेस्ट में और साउथ अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट में. मगर हमने देखा है कि ऐसा नहीं है कि वो क्रीज पर जाते ही बल्ला घुमा रहे हैं.

उन्होंने कहा, 'पंत बॉल का इंतजार करते हैं. रुककर खेलते हैं. उन्हें जो सही बॉलर लगता है, उस पर वो रुककर खेलते हैं. हमारा उनको यही मैसेज भी रहा है. हम उनसे यही कहते हैं कि जब आपको लगे कि मैच अपने फेवर में है, तो आप पॉजिटिवली खेल सकते हैं.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें