scorecardresearch
 

कपिल देव की कमेटी ने कोच चुना तो फिर हो सकता है BCCI में मतभेद

भारतीय क्रिकेट का संचालन कर रही प्रशासकों की समिति (सीओए) ने अगले राष्ट्रीय कोच के चयन का जिम्मा कपिल देव की अगुवाई वाली तदर्थ समिति को सौंपा हैं.

कपिल देव (Twitter) कपिल देव (Twitter)

वर्ल्ड कप 1983 विजेता भारतीय टीम के कप्तान कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी ये तीन दिग्गज रवि शास्त्री एंड कंपनी की किस्मत का फैसला करेंगे. दरअसल, भारतीय क्रिकेट का संचालन कर रही प्रशासकों की समिति (सीओए) ने अगले राष्ट्रीय कोच के चयन का जिम्मा कपिल देव की अगुवाई वाली तदर्थ समिति को सौंपा है और इस फैसले से सुप्रीम कोर्ट से नियुक्त पैनल में मतभेद हो सकते हैं.

तदर्थ समिति में पूर्व भारतीय कप्तान कपिल देव, अंशुमन गायकवाड़ और शांता रंगास्वामी हैं और उन्होंने इससे पहले दिसंबर में डब्ल्यूवी रमण को भारतीय महिला टीम का कोच नियुक्त किया था. एक सदस्य ने पुष्टि की कि बीसीसीआई ने पुरुष टीम का मुख्य कोच चुनने के लिए भी उनसे संपर्क किया है.

इससे पहले जब सीओए में दो सदस्य चेयरमैन विनोद राय और पूर्व भारतीय कप्तान डायना एडुल्जी थे. इनमें से एडुल्जी ने महिला कोच चयन प्रक्रिया को असंवैधानिक करार दिया था. उनका कहना था कि केवल क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ही कोच का चयन कर सकती है.

सीओए अब तीन सदस्यीय पैनल है. फरवरी में लेफ्टिनेंट जनरल रवि थोड़गे को इसमें शामिल किया गया था. लेकिन सीएसी के भविष्य को लंकर गंभीर आशंकाएं हैं, जिसमें सचिन तेंदुलकर, सौरव गांगुली और वीवीएस लक्ष्मण शामिल हैं. इसलिए सीओए ने तदर्थ समिति को यह काम सौंपना उचित समझा.

तेंदुलकर को जहां हितों के टकराव के आरोपों से मुक्त कर दिया गया है. वहीं बीसीसीआई संविधान के तहत गांगुली और लक्ष्मण को अपनी कई भूमिकाओं में से किसी एक का चयन करने के लिए कहा गया है. सीओए ने हालांकि इस पर अभी कोई फैसला नहीं किया है. कपिल देव और रंगास्वामी भी हितों के टकराव के दायरे में आते हैं क्योंकि बीसीसीआई संविधान के अनुसार वे भी खिलाड़ियों के संघ के गठन के लिए जिम्मेदार हैं.

बीसीसीआई ने मंगलवार को मुख्य कोच सहित पुरुष टीम के सहयोगी स्टाफ के लिए आवेदन आमंत्रित किए. मुख्य कोच की उम्र 60 साल से अधिक नहीं होनी चाहिए और उसे कम से कम दो साल तक अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का अनुभव होना चाहिए. सभी पदों के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 जुलाई है.

वर्तमान सहयोगी स्टाफ में मुख्य कोच रवि शास्त्री, गेंदबाजी कोच भरत अरुण, बल्लेबाजी कोच संजय बांगड़ और फील्डिंग कोच आर श्रीधर हैं और उनका कार्यकाल वर्ल्ड कप के बाद 45 दिन के लिए बढ़ाया गया है. इस तरह से तीन अगस्त से तीन सितंबर तक चलने वाले वेस्टइंडीज दौरे में टीम के साथ बने रहेंगे.

बीसीसीआई ने जिन पदों के लिए वैकेंसी निकाली है उनमें सीनियर टीम के मुख्य कोच, बैटिंग कोच, बॉलिंग कोच, फील्डिंग कोच, फीजियो, स्ट्रेंथ एंड कंडीशनिंग कोच और एडमिनिस्ट्रेटिव मैनेजर का पद शामिल हैं. नए कोचिंग स्टाफ का कार्यकाल 5 सितंबर 2019 से 24 नवंबर 2021 तक होगा. जबकि एडमिनिस्ट्रेटिव मैनेजर एक साल के लिए नियुक्त किया जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें