scorecardresearch
 

UAE में IPL से पहले बड़ा सवाल- खिलाड़ी अपनी वाइफ या गर्लफ्रेंड साथ रख सकेंगे?

BCCI संयुक्त अरब अमीरात में होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) को लेकर आठों फ्रेंचाइजी को विस्तृत मानक संचालन प्रक्रिया देगा.

IPL 2020 set to start on September 19 in UAE (File photo) IPL 2020 set to start on September 19 in UAE (File photo)

  • 19 सितंबर से 8 नवंबर तक होगा IPL 2020
  • जैविक सुरक्षित वातावरण पर हो रहा विचार

भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) संयुक्त अरब अमीरात (UAE) में होने वाले इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) को लेकर आठों फ्रेंचाइजी को विस्तृत मानक संचालन प्रक्रिया देगा, लेकिन सभी संबंधित पक्ष कुछ सवालों के आने वाले दिनों में जवाब चाहते हैं. समझा जाता है कि सभी फ्रेंचाइजी अपनी अपनी 'विशेषों टीमें' अमीरात भेजना शुरू करेंगी, ताकि सुविधाओं का जायजा ले सकें और यह पता चल सके कि किस तरह का जैविक सुरक्षित वातावरण बनाया जा सकता है.

बोर्ड को कुछ सवालों के जवाब एसओपी में देने होंगे. इनमें सबसे पहला सवाल खिलाड़ियों के परिवार को लेकर है. एक फ्रेंचाइजी के आला अधिकारी ने कहा कि दो महीने के लिए खिलाड़ियों को उनकी पत्नियों या परिवार से दूर रखना गलत होगा. उन्होंने कहा ,‘सामान्य समय पर पत्नियां या गर्लफ्रेंड खिलाड़ियों के साथ आ सकती हैं, लेकिन अभी हालात अलग हैं. यदि परिवार भी साथ जाता है तो वह होटल के कमरे में रहेगा या सामान्य तौर पर आ जा सकेगा.'

चेयरमैन बृजेश पटेल बोले- IPL में दर्शक होंगे या नहीं, ये UAE सरकार पर छोड़ा

उन्होंने कहा, ‘कुछ खिलाड़ियों के छोटे बच्चे भी हैं तो उन्हें दो महीने तक कमरे में कैसे रखेंगे.’ आम तौर पर क्रिकेट टीमें पांच सितारा होटलों में रुकती हैं, लेकिन इतनी बड़ी संख्या में ऐसा इंतजाम कर पाना मुश्किल होगा, जहां खिलाड़ियों के अलावा आम अतिथि होटल में नहीं आ सकें.'

अधिकारी ने कहा,‘हर टीम मुंबई इंडियंस का मुकाबला नहीं कर सकती. उनके पास निजी जेट है और अपने सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल से वे डॉक्टर भी ले जा सकते हैं. पूरा पांच सितारा होटल किराए पर ले सकते हैं, लेकिन बाकी को देखना होगा कि उनके लिए क्या सर्वश्रेष्ठ है. शायद बीच रिसॉर्ट.’

इसके अलावा टीमों को एमिरेट्स क्रिकेट बोर्ड के साथ मिलकर स्थानीय परिवहन की व्यवस्था भी करनी होगी. आम तौर पर ड्राइवर दिनभर के काम के बाद घर लौट जाते हैं, लेकिन इन हालात में उन्हें दो महीने जैविक रूप से सुरक्षित माहौल में रुकना पड़ सकता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें