scorecardresearch
 

Substitute Impact Player Rule: अब IPL में 11 नहीं, 15 खिलाड़ी मैच खेल सकेंगे! BCCI ला रहा ये नया नियम

टी20 क्रिकेट को और भी रोचक बनाने के लिए BCCI अब एक नया नियम 'इम्पैक्ट प्लेयर' लाने की तैयारी में है. नियम के तहत मैच में 11 की बजाए 15 खिलाड़ी खेलने के लिए योग्य हो जाएंगे. यानी बीच मैच में 'इम्पैक्ट प्लेयर' नियम को इस्तेमाल कर प्लेइंग-11 से एक खिलाड़ी को रिप्लेस किया जा सकेगा. जानिए क्या है नियम...

X
Hardik Pandya in IPL (@BCCI)
Hardik Pandya in IPL (@BCCI)

Substitute Impact Player Rule: भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) अब एक नया नियम लाने की तैयारी में है. यदि यह नियम आता है, तो मैच में 11 की बजाए 15 खिलाड़ी खेलने के लिए योग्य हो जाएंगे. इस नियम को 'इम्पैक्ट प्लेयर' नाम दिया जा सकता है.

नियम के टेस्टिंग के लिए सबसे पहले घरेलू क्रिकेट में ही यह लागू किया जाएगा. इसी कड़ी में BCCI सबसे पहले 11 अक्टूबर से शुरू हो रहे टी20 सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी से यह नया नियम लागू कर सकता है. 

अगले साल आईपीएल में लागू हो सकता है नियम

घरेलू क्रिकेट में टेस्टिंग के बाद इस 'इम्पैक्ट प्लेयर' नियम को अगले साल होने वाली IPL 2023 सीजन में भी लागू किया जा सकता है. बता दें कि यह नियम ऑस्ट्रेलियाई टूर्नामेंट बिग बैश लीग (BBL) में भी 'एक्स फैक्टर' के नाम से लागू है. मगर वहां 15 की बजाय 13 प्लेयर को खेलने के लिए अनुमति दी जाती है.

बीसीसीआई ने सर्कुलर जारी किया

बीसीसीआई ने सभी राज्यों को एक सर्कुलर भेजा है. इसमे कहा गया है, 'टी20 क्रिकेट की बढ़ती लोकप्रियता को ध्यान में रखते हुए अब नया कुछ लाने की तैयारी है. इसके जरिए फैन्स के साथ प्लेयर्स और टीमों के लिए भी इस फॉर्मेट को और ज्यादा रोचक बनाया जा सके.' नियम किस तरह का होगा, इसको लेकर भी सर्कुलर में बताया गया है. 

कैसा होगा 'इम्पैक्ट प्लेयर' नियम?

  • नियम के मुताबिक, 'टीम (कप्तान) को टॉस के समय प्लेइंग-11 तो बतानी ही है, साथ ही 4 अन्य खिलाड़ियों के नाम भी बतौर सब्सिट्यूट देने होंगे. इन चारों खिलाड़ियों में से किसी एक को 'इम्पैक्ट प्लेयर' नियम के तहत प्लेइंग-11 में शामिल प्लेयर से रिप्लेस किया जा सकता है.'
  • बतौर 'इम्पैक्ट प्लेयर' जिस भी खिलाड़ी का इस्तेमाल किया जाएगा, वही मैच खेलेगा. प्लेइंग-11 से बाहर किया गया प्लेयर मैच नहीं खेल सकेगा. उस प्लेयर से फील्डिंग भी नहीं करवाई जा सकेगी. मैच में ब्रेक के टाइम भी प्लेयर का इस्तेमाल नहीं होगा.
  • टीम को एक फायदा जरूर रहेगा. यदि 'इम्पैक्ट प्लेयर' के तौर पर किसी बॉलर को शामिल किया जाता है, तो वह अपने पूरे 4 ओवर गेंदबाजी ही करेगा. बाहर किए गए बॉलर ने कितने ओवर किए या नहीं किए, इसका उस 'इम्पैक्ट प्लेयर' पर असर नहीं पड़ेगा.
  • हालांकि टीम, कप्तान या मैनेजमेंट को एक बात का ध्यान रखना होगा. उन्हें 'इम्पैक्ट प्लेयर' नियम का इस्तेमाल करने से पहले फील्ड अंपायर या फोर्थ अंपायर को बताना पड़ेगा.
  • बीसीसीआई के नियम के मुताबिक, मैच के दौरान दोनों टीमें पारी के 14वें ओवर से पहले 'इम्पैक्ट प्लेयर' का इस्तेमाल कर सकेंगी. यानी इसके बाद नियम का इस्तेमाल नहीं होगा.

बिग बैश लीग में कैसा है 'एक्स फैक्टर' नियम

ऑस्ट्रेलियाई टूर्नामेंट बिग बैश लीग में भी 'इम्पैक्ट प्लेयर' की तरह ही 'एक्स फैक्टर' नियम काफी पहले से लागू है. इस 'एक्स फैक्टर' नियम के तहत 15 की बजाय 13 प्लेयर को खेलने के लिए अनुमति दी जाती है. मतलब इसमें हर टीम पहली पारी के 10वें ओवर से पहले 12वें या 13वें खिलाड़ी को उपयोग प्लेइंग-11 में कर सकती हैं. इस दौरान बल्लेबाजी ना करने वाले या एक ओवर से अधिक गेंदबाजी ना करने वाले खिलाड़ियों की जगह उन्हें रखा जा सकता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें