scorecardresearch
 

Pak vs Eng Final T20 World Cup 2022: बाबर आजम की अगुवाई में इतिहास रचने से चूका PAK, पढ़ें बॉल बॉय से टॉप बैट्समैन बनने की कहानी

पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान बाबर आजम अपने देश के सबसे बड़े हीरो बनकर सामने आए हैं. वह पाकिस्तान टीम को टी20 वर्ल्ड कप 2022 के फाइनल तक पहुंचाने में सफल रहे, हालांकि उनकी अगुवाई में पाकिस्तानी टीम खिताब नहीं जीत पाई.

X
बाबर आजम
बाबर आजम

Pak vs Eng Final T20 World Cup 2022: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के कप्तान बाबर आजम ने अपने देश के अलावा दुनियाभर में भी अपनी एक अलग छाप छोड़ी है. उन्होंने इस बार जुनूनी तौर पर कप्तानी करते हुए पाकिस्तान टीम को टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल तक पहुंचाया. एक समय लोग मान रहे थे कि पाकिस्तान बड़ी आसानी से ग्रुप स्टेज से ही बाहर हो जाएगा.

मगर कुदरत का निजाम कहें या बाबर का जुनून, पाकिस्तान ने पहले सेमीफाइनल और फिर फाइनल में भी जगह बनाई. फाइनल में भले ही पाकिस्तान की इंग्लैंड के हाथों हार हुई हो और पाकिस्तान का टी-20 वर्ल्ड कप जीतने का सपना टूट गया हो, लेकिन बाबर आजम का नाम इतिहास में दर्ज हो गया.

क्लिक करें: पाकिस्तान की हार पर मोहम्मद शमी का शोएब अख्तर को जवाब, लिखा- सॉरी ब्रदर, It’s call karma 

विराट कोहली से होती है बाबर की तुलना

पाकिस्तान को तेज गेंदबाज पैदा करने वाले देश के तौर पर गिना जाता है. इमरान खान, वसीम अकरम, वकार युनूस जैसे खिलाड़ी पाकिस्तान से ही आए हैं, लेकिन बाबर आजम ने जब से इंटरनेशनल क्रिकेट में कदम रखा है वह लगातार रिकॉर्ड पर रिकॉर्ड बना रहे हैं. बाबर आजम की जबरदस्त बैटिंग की बदौलत ही उनकी तुलना भारतीय कप्तान विराट कोहली से की जाती है. 

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Babar Azam (@babarazam)

बाबर ने बॉल बॉय के रूप में की थी शुरुआत

बाबर आजम पाकिस्तान के हिस्से वाले पंजाब प्रांत से आते हैं और लाहौर के रहने वाले हैं. पाकिस्तान के क्रिकेट खेल चुके अदनान अकमल, कामरान अकमल और उमर अकमल मौजूदा कप्तान बाबर आजम के कज़िन हैं. ऐसे में बाबर आजम के खानदान में क्रिकेट पहले से ही है और उनके घर के लोग पाकिस्तान के लिए खेलते रहे हैं. 

15 अक्टूबर 1994 को एक पंजाबी परिवार में पैदा हुए बाबर आजम की शुरुआती पढ़ाई लाहौर में ही हुई थी. करीब 13 साल की उम्र में वो पाकिस्तान के मशहूर गद्दाफी स्टेडियम में जाने लगे, जहां शुरुआत में वो एक बॉल बॉय की तरह ही जुड़े रहे. उसके बाद बाबर आज़म ने क्रिकेट अकादमी ज्वाइन की और छोटे लेवल पर क्रिकेट खेलना शुरू किया.

21 साल की उम्र में इंटरनेशनल डेब्यू किया

बाबर आजम के शुरुआती कोच राणा सादिक थे, उनसे सीखने के कुछ वक्त बाद ही बाबर आजम पाकिस्तान के अंडर-19 कैंप से जुड़ गए और फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा. 16 साल की उम्र में बाबर आजम ने घरेलू क्रिकेट में खेलना शुरू कर दिया था, साल 2015 में 21 साल की उम्र में उन्होंने इंटरनेशनल डेब्यू किया था. 

पाकिस्तान के लिए रच दिया इतिहास, भावुक हुए पिता

पिछले टी20 वर्ल्ड कप में पाकिस्तान ने भारत को 10 विकेट से मात दे दी है. ऐसा पहली बार हुआ था जब पाकिस्तान ने किसी वर्ल्ड कप मैच में भारत को हराया हो. पाकिस्तान की इस जीत के हीरो बाबर आज़म रहे, जिनकी अगुवाई में पाकिस्तान ने ये इतिहास रचा. इससे पहले वनडे हो या टी20, किसी भी वर्ल्ड कप में भारतीय टीम पाकिस्तान से नहीं हारी थी.

मगर पिछले साल दुबई में पाकिस्तान टीम ने टी20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम को हराकर इतिहास रच दिया था. जब ये जीत हुई तब बाबर आजम के पिता भी वहां मौजूद थे और इस जीत से वो भावुक हो गए. उनके भी कई वीडियो और फोटोज वायरल हुए थे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें