scorecardresearch
 

Ukraine में दिखे 'एलियन यान', कहीं रूस की कोई साजिश तो नहीं... सरकारी रिपोर्ट में खुलासा

यूक्रेन की राजधानी कीव में कुछ समय पहले ढेर सारे UFO देखे गए. इसकी सरकारी रिपोर्ट भी है. ये रूस की कोई चाल है या एलियन यान. वैज्ञानिक हैरान इस बात से हैं कि वो इन चमकदार उड़ने वाली चीजों को पहचान नहीं पा रहे हैं. हालांकि वैज्ञानिक अब तक मिली तस्वीरों और वीडियो की जांच कर रहे हैं.

X
यूक्रेन की राजधानी कीव की रात की तस्वीर. फोटो 2020 की है. (फोटोः गेटी)
यूक्रेन की राजधानी कीव की रात की तस्वीर. फोटो 2020 की है. (फोटोः गेटी)

फरवरी से अब तक यूक्रेन (Ukraine) और रूस (Russia) में जंग चल रही है. इस बीच यूक्रेन की राजधानी कीव में ढेर सारे अनआइडेंटीफाइट फ्लाइंग ऑबजेक्टस (Unidentified Flying Objects - UFO) देखे गए. इसके बारे में यूक्रेन की सरकारी वैज्ञानिक संस्था ने रिपोर्ट भी दी है. इस संस्था का नाम है मेन एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्जरवेटरी (Main Astronomical Observatory). यह ऑब्जरवेटरी यूक्रेन की मुख्य वैज्ञानिक संस्था नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेस (National Academy of Sciences) के तहत काम करती है. 

जब दो देश युद्ध कर रहे होते हैं, तब उनके आसमान में फाइटर जेट्स, मिसाइल, रॉकेट्स और ड्रोन्स की चमकदार तस्वीरें आती रहती हैं. लेकिन यूक्रेन के वैज्ञानिक इन रोशनियों को पहचान नहीं पाए. क्योंकि ये रोशनियां ऐसी किसी वस्तु की नहीं थी, जो इंसानों द्वारा बनाए गए हों. अमेरिकी इंटेलिजेंस एजेंसी ने कहा है कि ये UFO किसी प्रकार के मिलिट्री यंत्र हैं या नहीं, इसकी जांच की जा रही हैं. इनके बारे में एक रिप्रोट प्री-प्रिंट डेटाबेस arXiv में प्रकाशित की गई है. जिसका पीयर रिव्यू अभी नहीं हुआ है. इस बात की भी जांच हो रही है कि कहीं रूस की इसमें कोई साजिश तो नहीं है.

रिपोर्ट के अनुसार यूक्रेन के खगोलविदों ने कुछ तेजी से उड़ने वाली, कम दृश्यता वाली वस्तुओं के कीव के आसमान में दिन में देखा. ये वस्तुएं कीव के आसपास मौजूद गावों में देखी गईं. वैज्ञानिकों ने कीव और वहां से 120 किलोमीटर दूर दक्षिण में स्थित गांव विनारिका (Vinarivka) में दो खास तरह के मौसम संबंधी कैमरे लगाए हैं. ये आसमान पर नजर रखते हैं. इन कैमरों में ये UFO कैद हुए हैं. कैमरे की तस्वीरों की स्टडी करने वाले वैज्ञानिकों ने बताया ये उड़ने वाली वस्तुएं किसी भी तरह से प्राकृतिक घटना नहीं थी. 

स्टडी करने वाली टीम ने कहा कि हमने कई ऐसी उड़ती हुई वस्तुओं को देखा जिनका व्यवहार समझ में नहीं आ रहा था. लेकिन हम उन्हें कीव और उसके आसपास हर जगह देख रहे थे. वैज्ञानिकों ने इन UFO's को दो कैटेगरी में बांटा है. पहला कॉस्मिक (Cosmic) और दूसरा फैंटम (Phantoms). कॉस्मिक वस्तुएं वो हैं जो आसमान के पीछे की तरफ चमक पैदा करती हैं. इन्हें अलग-अलग पक्षियों के नाम से जैसे स्विफ्ट, फॉल्कन और ईगल बुलाया जाता है. इन्हें अकेले उड़ते हुए या फिर समूह में उड़ते हुए देखा गया है. 

फैंटम (Phantom) वो UFO होते हैं जो गहरे रंग के होते हैं. यानी Dark. ये पूरी तरह से काले रंग के दिखते हैं. ये अपने ऊपर पड़ने वाली रोशनी को सोख लेते हैं. माना जाता है कि फैंटम 10 से 40 फीट चौड़े होते हैं. ये 53 हजार किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से उड़ते हैं. जबकि धरती पर बनाए जाने वाली बैलिस्टिक मिसाइलों की अधिकतम गति 24 हजार किलोमीटर प्रतिघंटा है. मेन एस्ट्रोनॉमिकल ऑब्जरवेटरी (Main Astronomical Observatory) यह नहीं पता कर पाई कि ये किस तरह के UFO हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें