scorecardresearch
 

Azaadi ka Amrit Mahotsav: बिना विज्ञान देश विकास नहीं करता... जानिए भारतीय साइंस के 75 साल की सफल यात्रा

जीरो, आयुर्वेद, योग, गणित, अंतरिक्ष विज्ञान, सर्जरी, पर्यावरण संरक्षण... ये दिया मेरे भारत ने. भारत का ज्ञान, विज्ञान और वैज्ञानिक सफलताओं की कोई सीमा नहीं है. सॉफ्टवेयर इंजीनियर से लेकर एटम बम के एक्सपर्ट तक. पाताल से लेकर अंतरिक्ष तक हर जगह तिरंगे का परचम लहराया है. आइए जानते हैं कि आज़ादी के बाद भारत ने कौन-कौन सी बड़ी वैज्ञानिक सफलताएं हासिल कीं.

X
आज़ादी के बाद सरकारों को पता था कि बिना विज्ञान, तकनीक के आगे बढ़ना संभव नहीं है. (फोटोः ISRO)
आज़ादी के बाद सरकारों को पता था कि बिना विज्ञान, तकनीक के आगे बढ़ना संभव नहीं है. (फोटोः ISRO)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कैसे साराभाई-कलाम ने स्पेस और डिफेंस को मजबूत किया
  • खेती-किसानी से लेकर कंप्यूटर की दुनिया में कमाया नाम
  • मेडिकल साइंस से लेकर डीएनए सिक्वेंसिंग तक दुनिया में है नाम

आज़ादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है. देश को स्वतंत्रता मिले 75 साल हो गए. इसके बाद ही देश में वैज्ञानिक शोधों को बढ़ावा मिला है. वैज्ञानिक संस्थाओं को खोलने से लेकर सफलता के झंडे गाड़ने तक. हरित क्रांति, सफेद क्रांति से लेकर विज्ञान की हर दिशा में क्रांति फैली. आज पूरी दुनिया के लगभग सभी बड़े संस्थानों में भारतीय वैज्ञानिकों का डंका बजता है. चाहे वह नासा हो या फिर हिग्स बोसोन की खोज करने वाली CERN लेबोरेटरी. वर्जिन गैलेक्टिक, स्पेसएक्स जैसी कंपनियों की प्राइवेट अंतरिक्ष यात्राओं को सफल बनाने वाली टीम में भारतीय हैं. आइए जानते हैं कि भारत में आज़ादी के बाद किस दशक में कब क्या प्रमुख कार्य हुए.

पहले दशक में सबसे बड़ी जरुरत थी खद्यान्न से संपन्न होना. हरित क्रांति की शुरुआत की गई. (फोटोः India Today)
पहले दशक में सबसे बड़ी जरुरत थी खद्यान्न से संपन्न होना. हरित क्रांति की शुरुआत की गई. (फोटोः India Today)

पंचवर्षीय योजना में शामिल किया गया साइंस और इंडस्ट्रियल रिसर्च

1947-57: आज़ादी के ठीक बाद शुरुआती दस साल. नई आज़ादी. नई सरकार. नई चुनौतियां. अंग्रेजों द्वारा लूटे गए देश को फिर से पटरी पर लाने की दिक्कत. इसे खत्म करने के लिए विज्ञान को आगे बढ़ाया गया. क्योंकि उस समय के सरकारों को पता था कि बिना विज्ञान, तकनीक और इनोवेशन के देश को आगे नहीं बढ़ाया जा सकता. इसलिए पंचवर्षीय योजना में साइंस और इंडस्ट्रियल रिसर्च को शामिल किया गया. नेशनल फिजिकल लेबोरेटरी बनाई गई. नेशनल केमिकल लेबोरेटरी, सेंट्रल इलेक्ट्रोकेमिकल रिसर्च इंस्टीट्यूट बनाया गया. इन प्रयोगशालाओं के रिसर्च और परामर्श ने देश में नई वैज्ञानिक लहर शुरू की. 

देश को स्वदेशी मिसाइल, हथियार और रक्षा संबंधी विकास के लिए DRDO की स्थापना की गई. डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने महत्वपूर्ण योगदान दिया.
देश को स्वदेशी मिसाइल, हथियार और रक्षा संबंधी विकास के लिए DRDO की स्थापना की गई. डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने महत्वपूर्ण योगदान दिया. 

हरित क्रांति, पहला रॉकेट छूटा और DRDO की स्थापना की गई

1957-67: हरित क्रांति यानी Green Revolution की शुरुआत की गई. ताकि देश फसल उगाकर पहले अपने लोगों का पेट भर सके. सिंचाई के नए सिस्टम विकसित किए गए. फर्टिलाइजर्स, पेस्टीसाइड्स, ऊर्जा और कृषि यंत्रों पर फोकस किया गया. भारतीय रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) की स्थापना 1958 में की गई. ताकि देश के रक्षा संबंधी रिसर्च को पूरा किया जा सके. ध्येय वाक्य ही यही है कि विज्ञान से ही ताकत आती है. पहला बड़ा प्रोजेक्ट था सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल. प्रोजेक्ट इंडिगो शुरू किया गया. सफलता मिली. फिर कई प्रोजेक्ट शुरू किए गए. 

डॉ. विक्रम साराभाई ने डॉ. होमी जहांगीर भाभा की मदद से थुंबा से देश का पहला रॉकेट छोड़ा.
डॉ. विक्रम साराभाई ने डॉ. होमी जहांगीर भाभा की मदद से थुंबा से देश का पहला रॉकेट छोड़ा. 

भारत का अपना मिसाइल सिस्टम खड़ा हो गया. इस काम में पूर्व राष्ट्रपति, वैज्ञानिक और भारत रत्न डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम को कौन भूल सकता है. 21 नवंबर 1963 तिरुवनंतपुरम के थुंबा से देश का पहला रॉकेट छोड़ा गया. साइकिल, बैलगाड़ियों पर रॉकेट को लॉन्च पैड तक लाया गया था. इस काम में महत्वपूर्ण योगदान दिया था डॉ. विक्रम साराभाई ने. उनकी मदद की थी डॉ. होमी जहांगीर भाभा, सीवी रमन और एपीजे अब्दुल कलाम ने. देश का पहला रॉकेट छूटते ही भारत की धमक पूरी दुनिया में फैल गई. 

पहले रॉकेट के बाद देश का पहला सैटेलाइट आर्यभट्ट छोड़ा गया.
पहले रॉकेट के बाद देश का पहला सैटेलाइट आर्यभट्ट छोड़ा गया. 

पहला सैटेलाइट छूटा, देश में लाई गई दूध की क्रांति

1967-77: जब साराभाई ने देश का पहला रॉकेट छोड़ा था तब इसरो का नाम था इंडियन नेशनल कमेटी फॉर स्पेस रिसर्च (INCOSPAR). जो 1972 में ISRO बन गया. रॉकेट छोड़ने की सफलता के बाद साराभाई और बाकी साथी वैज्ञानिकों का लक्ष्य था देश का पहला सैटेलाइट छोड़ना. 1975 में भारत का पहला सैटेलाइट आर्यभट्ट छोड़ा गया. मकसद था एक्स-रे एस्ट्रोनॉमी, एयरोनॉमी और सोलर फिजिक्स को समझना. 

डॉ. वर्गीज कुरियन के नेतृत्व में देश में सफेद क्रांति की शुरुआत हुई. डेयरी उत्पादों की प्रणाली को विकसित किया.
डॉ. वर्गीज कुरियन के नेतृत्व में देश में सफेद क्रांति की शुरुआत हुई. डेयरी उत्पादों की प्रणाली को विकसित किया. 

देश में फिर शुरू हुआ White Revolution. इसे ऑपरेशन फ्लड भी कहते हैं. देश में डेयरी उत्पादों को लेकर काम तेज हुआ. 13 जनवरी 1970 को शुरू हुई यह क्रांति दुनिया की सबसे बड़ा डेयरी डेवलपमेंट प्रोग्राम था. अमूल के संस्थापक और सफेद क्रांत के पिता कहे जाने वाले पद्म विभूषण डॉ. वर्गीज कुरियन ने इसे शुरू किया था. इसकी वजह से पूरे देश में डेयरी उत्पादन और निर्यात की लहर दौड़ गई. 

Agni Missile सिस्टम ने देश की सुरक्षा को बढ़ाया. दुश्मने देशों की इस मिसाइल से हालत खराब होती है. (फोटोः DRDO)
Agni Missile सिस्टम ने सुरक्षा को बढ़ाया. दुश्मने देशों की इस मिसाइल से हालत खराब होती है. (फोटोः DRDO)

अग्नि मिसाइल से मिलने लगी सुरक्षा, डेवलप हुआ PARAM सुपर कंप्यूटर 

1977-87: यही वो दशक था जब भारत में खुद के मिसाइल सिस्टम की शुरुआत हुई. 'मिसाइल मैन' डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने पहले स्ट्रैटेजिक मिसाइल सिस्टम की शुरुआत की. कलाम साहब के गाइडेंस में वैज्ञानिकों मिसाइल की री-एंट्री, मैन्यूवरिंग, रेंज, कंट्रोल, गाइडेंस, दो स्टेज के प्रोपल्शन और स्टेज सेपरेशन पर काम किया. 1989 में देश के पहले मिसाइल अग्नि (Agni Missile) का पहला सफल परीक्षण हुआ. यहीं से विकसित हुआ था देश का मिसाइल सिस्टम, जिससे दुश्मन की हालत खराब होती है. आज भारत के AGNI-V ICBM है, जिसकी रेंज में आधी दुनिया है. 

विदेश से सुपर कंप्यूटर न मंगाना पड़े, इसलिए देश के वैज्ञानिकों ने PARAM सुपर कंप्यूटर बना डाला.
विदेश से सुपर कंप्यूटर न मंगाना पड़े, इसलिए देश के वैज्ञानिकों ने PARAM सुपर कंप्यूटर बना डाला.

भारत के पहले सुपर कंप्यूटर PARAM को बनाया गया. पुणे स्थित C-DAC ने नवंबर 1987 में इसे बनाया था. यह इसलिए बनाया गया था ताकि भारत बाहरी देशों से सुपर कंप्यूटर न खरीदे. इसके बनते ही भारत सरकार ने इसके परीक्षण की ओर ध्यान दिया. सफलता मिली. देश में अपना स्वदेशी कंप्यूटिंग टेक्नोलॉजी विकसित हो गई. 

DNA फिंगर प्रिंटिंग की शुरुआत देश में पहली बार

1987-97: 1988 में डीएनए फिंगर प्रिंटिंग भारत में आया. इसे CSIR-CCMB यानी काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च के सेंटर फॉर सेलुलर एंड मॉलिक्यूलर बायोलॉजी ने विकसित किया. भारत दुनिया का तीसरा देश बना जिसके पास खुद का डीएनए फिंगर प्रिंटिंग प्रोब था. 

पोखरण में पांच परमाणु विस्फोट करके भारत की धाक बढ़ी. डॉ. कलाम ने एक बार फिर देश का नाम ऊंचा किया. (फोटोः रॉयटर्स)
पोखरण में पांच परमाणु विस्फोट करके भारत की धाक बढ़ी. डॉ. कलाम ने एक बार फिर देश का नाम ऊंचा किया. (फोटोः रॉयटर्स)

पोकरण-2 परमाणु बम विस्फोट, पूरी दुनिया को भारत की ताकत का पता चला

1997-2007: 11 मई 1998 को भारत ने पांच परमाणु बमों का पोकरण में सफल परीक्षण किया. तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी ने इसे नेशनल टेक्नोलॉजी डे नाम दिया गया. अब भारत दुनिया के ताकतवर परमाणु देशों की सूची में शामिल है. डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम और बाकी वैज्ञानिकों ने अमेरिकी सैटेलाइट्स से छिपते हुए इस परीक्षण को पूरा किया. अमेरिकी जासूसी के लिए यह एक काला दिन था. उन्होंने ऐसी विफलता कभी नहीं देखी थी. 

ISRO ने Chandrayaan और मंगलयान की सफलता से पूरी दुनिया में झंडे गाड़ दिए. (फोटोः PTI)
ISRO ने Chandrayaan और मंगलयान की सफलता से पूरी दुनिया में झंडे गाड़ दिए. (फोटोः PTI)

Chandrayaan मिशन, पोलियो मुक्त भारत और Mangalyaan 

2007-2017: साल 2008 में चंद्रयान मिशन की सफलता ने इसरो और देश को नाम ऊंचा किया. इसने चांद पर पानी की खोज की. इसी दशक में भारत पोलियो मुक्त कहलाया. ये बात 2014 की है. इसी दशक में Mars Orbiter Mission यानी मंगलयान ने पूरी दुनिया में झंडे गाड़े. पहली बार में मंगल पर पहुंचने वाला दुनिया का पहला देश बना. स्टार्ट-अप्स की शुरुआत की गई. देश में इस समय विभिन्न सेक्टर्स में 52 हजार से ज्यादा स्टार्ट अप्स मौजूद हैं.  104 सैटेलाइट्स छोड़ने वाला दुनिया का पहला देश बना. 

Gaganyaan के जरिए अब भारतीय को अंतरिक्ष में भेजने का प्रोजेक्ट जारी

2017 से अब तक:  Gaganyaan प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है. दो साल के अंदर भारतीय एस्ट्रोनॉट्स धरती के चारों तरफ अपनी निचली कक्षा में अंतरिक्ष की यात्रा करेंगे. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें