scorecardresearch
 

Ethiopia: शेर के बराबर होते थे ऊदबिलाव, 30 लाख साल पहले के सबूत मिले

ऊदबिलाव... नेवले की प्रजाति का ही एक जीव जो पानी और जमीन दोनों पर रहता है. लेकिन किसी जमाने में यह शेर के आकार का होता था. इथियोपिया में इस बात के सबूत मिले हैं, जो करीब 30 लाख साल पुराने हैं. समय-समय की बात है. अब इसका आकार छोटा हो गया है. जानते हैं ये कहानी क्या है.

X
इथियोपिया में मिले जीवाश्म से हुआ यह खुलासा कि ऊदबिलाव शेर जितने बड़े होते थे. (फोटोः डेविड सेलबर्ट/पेक्सेल)
इथियोपिया में मिले जीवाश्म से हुआ यह खुलासा कि ऊदबिलाव शेर जितने बड़े होते थे. (फोटोः डेविड सेलबर्ट/पेक्सेल)

अभी अधिकतम 4 फीट लंबा ऊदबिलाव कभी शेर जितने बड़े होते थे. आज के ऊदबिलाव का वजन अधिकतम 14 किलोग्राम होता है. किसी समय इसका वजन 150 से 150 किलोग्राम होता था. झूठी कहानी नहीं पढ़ा रहे आपको. असली है. इथियोपिया (Ethiopia) में इस बात के सबूत मिले हैं. यानी शेर के आकार के ऊदबिलाव के जीवाश्म (Fossil). पहले तो पुरातत्वविदों को ही भरोसा नहीं हुआ. लेकिन जांच के बाद पता चला कि ये सही है. 

जिस ऊदबिलाव का जीवाश्म मिला है, उससे पता चला कि यह जमीन पर ज्यादा रहता था. (फोटोः कैथरीन लेकलर्ट/पेक्सेल)
जिस ऊदबिलाव का जीवाश्म मिला है, उससे पता चला कि यह जमीन पर ज्यादा रहता था. (फोटोः कैथरीन लेकलर्ट/पेक्सेल) 

शेर के आकार के इस ऊदबिलाव (Lion Size Otter) का जीवाश्म 30 लाख साल पुराना है. यानी उस समय इथियोपिया में इंसानों के पूर्वज रहते थे. इसकी प्रजाति का नाम है Enhydriodon omoensis. यह 35 से 25 लाख साल पहले तक रहा. इंसानों के उस समय के पूर्वज ऑस्ट्रैलोपिथेसीन्स यानी दो पैरों पर चलने वाले होमिनिड्स. ये इंसानों के वो पूर्वज हैं जो 42 लाख से लेकर 20 लाख साल पहले तक धरती पर मौजूद थे. 

आज के ऊदबिलाव तो देखने में नेवले से थोड़ा ही बड़े दिखते हैं. (फोटोः सिल्विया हीडर/पेक्सेल)
आज के ऊदबिलाव तो देखने में नेवले से थोड़ा ही बड़े दिखते हैं. (फोटोः सिल्विया हीडर/पेक्सेल)

जिस ऊदबिलाव का जीवाश्म मिला है उसका वजन करीब 200 किलोग्राम रहा होगा. यह जीव जमीन और पानी में पाए जाने वाले अपने से छोटे जीवों का शिकार करता रहा होगा. लेकिन पुरातत्वविदों का मानना है कि उस समय यह विशालकाय ऊदबिलाव जमीन पर ज्यादा समय बिताता रहा होगा. सिवाय पानी के. कोलंबिया यूनिवर्सिटी के जियोकेमिस्ट और इस ऊदबिलाव की स्टडी करने वाले केविन उनो ने कहा कि इसके हैरान करने वाले आकार के अलावा इसके दांत की जांच से पता चला कि ये पानी में नहीं रहता था. 

ऊदबिलावों का आकर भालुओं जितना भी हो सकता था. ऐसा मानना है वैज्ञानिकों का. (फोटोः सबीन रिफत)
ऊदबिलावों का आकर भालुओं जितना भी हो सकता था. ऐसा मानना है वैज्ञानिकों का. (फोटोः सबीन रिफत)

केविन उनो ने कहा कि इसका शिकार जमीनी जीव रहे होंगे. साथ ही यह आधुनिक ऊदबिलावों से थोड़ा अलग था. पहले वैज्ञानिकों को लगता था कि ऊदबिलाव की Enhydriodon omoensis प्रजाति आधा जमीन और आधा पानी में रहती रही होगी. कछुओं और सीप वगैरह खाते रहे होंगे. लेकिन जब इसके दांत के आइसोटोप्स की जांच की गई तो पता चला कि वो जमीन पर रहने वाली बिल्लियों और लकड़बग्घों के दांतों के आइसोटोप्स से मिलते हैं. 

ऊदबिलाव की यह प्रजाति यूरेशिया और अफ्रीका में 20 लाख साल पहले रहती थी. वैज्ञानिकों की स्टडी में यह बात सामने आई है कि इसका आकार एक भालू जैसा भी हो सकता है. क्योंकि यह आधुनिक ऊदबिलावों से अलग था. आज के दौर में जो ऊदबिलाव सबसे बड़े हैं. वो दक्षिण अमेरिका में पाए जाने वाले ऊदबिलाव होते हैं. या फिर दक्षिणी अलास्का के तटीय इलाकों में रहने वाले ऊदबिलाव. ये विशालकाय ऊदबिलाव 6 फीट लंबे और 32 किलोग्राम तक वजनी हो सकते हैं. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें