scorecardresearch
 

NASA ने कर लिया फाइनल, चांद पर किस जगह उतरेंगे इंसान

चंद्रमा पर इंसान किस जगह उतरेंगे उसकी लिस्ट NASA ने बना ली है. चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास 13 स्थानों की सूची को फाइनल किया गया है. आप देखिए कि नासा के अर्टेमिस मिशन के तहत जाने वाले एस्ट्रोनॉट्स चंद्रमा पर किस स्थान पर उतरेंगे. इन स्थानों में से ही कोई एक ऐसी जगह होगी...जहां नासा का यान लैंड करेगा.

X
ये हैं वो 13 स्थान जहां पर NASA इंसानों को उतार सकता है. (फोटोः NASA)
ये हैं वो 13 स्थान जहां पर NASA इंसानों को उतार सकता है. (फोटोः NASA)

तीन साल के अंदर चांद पर इंसानों को वापस भेजने की तैयारी है. अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा (NASA) ने चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर 13 स्थानों की लिस्ट बनाई है, जहां पर इंसानों के यान को उतारा जाएगा. यहीं पर एस्ट्रोनॉट फिर से अपनी पैरों के निशान बनाएंगे. नासा इन एस्ट्रोनॉट्स को अर्टेमिस-3 (Artemis III) मिशन से चांद पर भेजेगा. इसके लिए स्पेसएक्स (SpaceX) के स्टारशिप (Starship) यान का उपयोग किए जाने की संभावना है. 

इन इलाकों का चुनाव इसलिए किया गया है क्योंकि यहां पर बर्फीला पानी मौजूद होने की संभावना है. यहां पर लंबे समय के लिए इंसानी बस्ती भी बसाई जा सकती है. अर्टेमिस कैंपेन डेवलपमेंट डिविज़न के डिप्टी एसोसिएट एडमिनिस्ट्रेटर मार्क किरासिच ने बताया कि इन इलाकों का चयन कई बारीकियों को ध्यान में रखकर किया गया है. ये सभी लैंडिंग साइट्स चांद के अंधेरे वाले इलाके के पास हैं. इससे फायदा यह होगा कि एस्ट्रोनॉट्स वहां से उस इलाके का भी अध्ययन कर पाएंगे, जिसे आजतक नहीं देखा गया. न ही खोजा गया. 

चांद की सतह पर फिर उतरेगा इंसान, इस बार अंधेरे वाले स्थान के पास होगा ठिकाना. (फोटोः NASA)
चांद की सतह पर फिर उतरेगा इंसान, इस बार अंधेरे वाले स्थान के पास होगा ठिकाना. (फोटोः NASA)

ये हैं वो 13 जगहें जहां पर इंसान करेंगे लैंड

फॉस्टिनी रिम ए (Faustini Rim A), शैक्लेटॉन के पास की पहाड़ी (Peak Near Shackleton), कनेक्टिंग रिज (Connecting Ridge), कनेक्टिंग रिज एक्सटेंशन (Connecting Ridge Extension), डी जर्लेश रिम 1 (de Gerlache Rim 1), डी जर्लेश रिम 2 (de Gerlache Rim 2), डी जर्लेश-कोशर मैसिफ (de Gerlache-Kocher Massif), हैवोर्थ (Haworth), मालापर्ट मैसिफ (Malapert Massif), लिबनिट्ज बीटा प्लैट्यू (Leibnitz Beta Plateau), नोबिल रिम 1 (Nobile Rim 1), नोबिल रिम 2 (Nobile Rim 2) और एमंडसेन रिम (Amundsen Rim). ये सभी नाम किसी न किसी वैज्ञानिक, केमिस्ट, फिलॉस्फर के नाम पर हैं. 

ये 13 स्थान चांद के डार्क साइड के नजदीक है. अब वहां भी रिसर्च करना आसान हो पाएगा. (फोटोः NASA)
ये 13 स्थान चांद के डार्क साइड के नजदीक है. अब वहां भी रिसर्च करना आसान हो पाएगा. (फोटोः NASA)

इन जगहों की ये है खास बात

ये सभी 13 स्थान रहने के हिसाब से ज्यादा सुरक्षित और तापमान का स्तर भी ठीक रहता है. इनमें से कोई एक या दो स्थानों का चयन तब होगा जब मिशन लॉन्च किया जाएगा. मिशन की लॉन्चिंग के समय के हिसाब से इनमें से किसी को फाइनल किया जाएगा. इनमें से किसी एक जगह पर एस्ट्रोनॉट्स 6.5 दिन बिताएंगे. इस मिशन पर ले जाने के लिए तीन कंपनियां अपना-अपना दांव खेल रही हैं. 

यहां क्लिक करें और देखिए चांद पर चुने गए स्थानों को नजदीक से...

नासा ने SpaceX को चुना है अर्टेमिस मिशन के लिए

नासा (NASA) साल 2024 में चांद पर इंसानों की फिर से लैंडिंग कराना चाहता है. इसके लिए ही उसने प्राइवेट कंपनियों से HLS बनाने की मांग की थी. ये बात सच है कि नासा द्वारा चांद पर इंसान पहुंचाना आसान नहीं होगा. पिछले साल मई में अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी ने चंद्रमा की यात्रा के लिए तीन कंपनियों को चुना था.  इसमें स्पेसएक्स, ब्लू ओरिजिन और डायनेटिक्स शामिल हैं. 

ब्लू ओरिजिन इस डील की प्राथमिक कैंडिडेट हैं. इसकी टीम में लॉकहीड मार्टिन, नॉर्थोप ग्रुम्मेन और ड्रेपर हैं. चांद पर जाने वाला इनका लैंडर तीन स्टेज का होगा. इसमें बीई-7 क्रायोजेनिक इंजल लगा होगा. लॉकहीड क्रू केबिन बनाएगा. नॉर्थोप ग्रुमेन कार्गो और फ्यूल मॉडल और ड्रेपर नाम की कंपनी  गाइडेंस, नेविगेशन, कंट्रोल्स और एवियोनिक्स बनाएगा. हालांकि अभी इस मिशन में नासा ने सिर्फ SpaceX को चुना है. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें