scorecardresearch
 
साइंस न्यूज़

Future of Transport: ये हैं वो 11 वाहन, जो बदलने वाले हैं भविष्य की यात्राओं को

Future of Travelling
  • 1/12

यात्रा कभी थकाऊ होती है. कभी मस्ती वाली. भविष्य में यात्रा करने के लिए ऐसे यंत्र, उपकरण और वाहन आ जाएंगे जो इसे ज्यादा रोमांचक बना देंगे. यात्रा के साथ-साथ सेहत और पर्यावरण का भी ख्याल रखेंगे. भविष्य में आप ट्रेन, बस, कार, बाइक, प्लेन या पानी के जहाजों के बजाय नई तकनीक से यात्रा करेंगे. जैसे- हाइपरलूप, बिना सीट की साइकिल, ड्रोन, ड्राइवरलेस टैक्सी आदि. आइए जानते हैं ऐसे ही 11 वाहनों को जो भविष्य के ट्रैवल पार्टनर हैं. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 2/12

आर्का बोर्ड (Arca Board)

यह एक बिना टायर का स्केटिंग बोर्ड है. इसमें छोटे टायर की जगह पर ड्रोन के पंखे लगे हुए है. इसमें 36 इलेक्ट्रिक मोटर और बैटरी लगी हुई है. यह मात्र 10 किलो का है. कोई भी व्यक्ति इसके ऊपर खड़े हो कर कुछ इंच की ऊंचाई पर उड़ सकता है. इधर-उधर घूम भी सकता है. यह बोर्ड 110 किलोग्राम वजन उठा सकता है. यह सिंगल चार्ज में करीब 10 से 12 किलोमीटर की यात्रा कर सकता है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 3/12

हैंड क्रैंक्ड साइकिल (Hand cranked bicycle) 

हैंड क्रैंक्ड साइकिल में पैडल के साथ-साथ हाथ से भी चलती है. यानी पैडल के साथ आपको हैंडल में भी चेन लगाकर दी जाती है, ताकि आप पूरे हैंडल को घुमाकर अधिक गति हासिल कर सकें. इसमें पैरों के थक जाने पर हाथों का उपयोग करा जा सकता है. यात्रा को बिना रोके आगे बढ़ाया जा सकता है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 4/12

ड्रोन (Drone) 

इंसानों को ढोने वाले कई ड्रोन्स दुनिया भर में आ चुके हैं. यह आम ड्रोन की तुलना में काफी बड़े होते है. आपको कितनी दूर की यात्रा करनी है. उसके हिसाब से आपको ड्रोन्स का चयन करना होता है. ड्रोन की ताकत के हिसाब से आप दूरी तय कर सकते हैं. इसे नियंत्रित करना भी आसान है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 5/12

इंसान की ताकत से उड़ने वाला विमान (Human powered Aircraft) 

इस विमान को उड़ाने के लिए हवाई ईंधन की जरूरत नहीं होती. यह इंसान के पैडल मारने पर उड़ता है. जितनी देर इंसान पैर से पैडल मारता रहेगा, ये उतना दूर उड़ता रहेगा. इस प्लेन का वजन 30 से 42 किलोग्राम होता है. इसके विंग्स की लंबाई करीब 32 मीटर होती है. ये इतने हल्के होते हैं कि पैडल मारते ही उड़ने लगते हैं. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 6/12

वर्जिन हाइपरलूप (Virgin Hyperloop) 

वर्जिन कंपनी के हाइपरलूप में एक 'ट्यूब मॉड्यूलर ट्रांसपोर्ट सिस्टम' है. यह इलेक्ट्रो-मैग्नेटिक लेविटेशन पर चलने वाली एक कैप्सूल है, जिसमें तय मात्रा में लोग बैठेंगे. इस ट्यूब में वैक्यूम क्रिएक कर दिया जाता है. इसके बाद इसे तेजी से पुश कर दिया जाता है. ट्यूब के अंदर कैप्सूल 1000 किलोमीटर प्रतिघंटा से अधिक की गति से तय जगह तक पहुंचती है. यह हाई-स्पीड रेल की तुलना में 3 गुना तेज और सामान्य रेल की तुलना में 10 गुना ज्यादा तेज है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 7/12

ड्राइवर रहित टैक्सी (Driverless Taxi) 

यह बिना ड्राइवर की कार होती है. जिसमें ऐसे उपकरण लगे होते है जिससे यह कार अपनी जगह पर खुद पहुंच जाती है. बिना ड्राइवर की कार में चीन बहुत आगे है. चीन की लोकल स्टार्टअप कंपनी इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है. बीजिंग और शेन्ज़ेन जैसे बड़े शहरों में बिना ड्राइवर की कार चल रही है.  (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 8/12

इलेक्ट्रिक यूनीसाइकिल (V5F + Electric unicycle) 

यह एक टायर वाली इलेक्ट्रिक साइकिल है. जिसके ऊपर खड़े होकर कोई भी व्यक्ति सफर कर सकता है. यह इलेक्ट्रिक साइकिल फिलहाल यात्रा के लिए कम खेलने के लिए ज्यादा प्रयोग होता है. यह 25 किमी/घंटा की गति से चलता है. इसका वजन 11 किलो है. एक बार में 40 किलोमीटर दूर जा सकती है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 9/12

विजन एवीटीआर (Vision AVTR) 

Mercedes-Benz द्वारा बनाई गई फ्यूचरिस्टिक कार. कंपनी ने बताया कि इस कार में ऐसी तकनीक है जो आपके सोचने से चलेगी. ये विजुअल परसेप्शन पर आधारित है. इस कार में  BCI यानी ब्रेन-कंप्यूटर इंटरफेस डिवाइस दिया गया है. BCI हेडगियर में पहले थोड़े कैलिब्रेशन की जरूरत होती है. इसके बाद ये ब्रेन की गतिविधि मापकर रिकॉर्ड कर लेता है. इसके बाद ये कार आपके दिमाग के हिसाब से चलेगी. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 10/12

ऑर्बिट व्हील (Orbit wheel) 

Orbit wheels एक स्केटबोर्ड और स्केटिंग का क्रॉस है. सवारी करने के लिए, बस इनके पहियों में कदम रखना होता है. ये पंजों के चारों तरफ गोलाकार आकृति में घूमते हैं. अलग पैर में अलग व्हील. यह मनोरंजन और खेल के लिए ज्यादा प्रयोग होता है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 11/12

जेटविंग्स (Jetwings)

जेट विंग्स को बनाने वाले का नाम है यीव्स रोजी (Yves Rossy). ये स्विट्जरलैंड के मिलिट्री पायलट रहे हैं. साथ ही इंसानों को हवा में अकेले उड़ने का मौका देने के लिए जेटविंग्स बनाया है. उन्हें ही जेटमैन कहा जाता है. इनके कई शो दुबई, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया में हो चुके हैं. जेटविंग्स को पहन कर इंसान छह हजार फीट की ऊंचाई तक उड़ सकता है. यह 8 सेकंड में 100 मीटर की ऊंचाई, 12 सेकंड में 200 मीटर और 30 सेकंड में 1000 मीटर की ऊंचाई तक पहुंच जाता है. इसकी गति 120 किमी/घंटा है. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen)

Future of Travelling
  • 12/12

हैंड ग्लाइडर (Hand Glider) 

ये एक ग्लाइडर है, जिसे लेकर दौड़ते हुए हवा में तैरने का आनंद लिया जा सकता है. इसे हमने पुरानी फिल्मों में देखा होगा. शुरुआत में ये सुरक्षित नहीं माने जाते थे. लेकिन अब के हैंड ग्लाइडर्स ज्यादा सुरक्षित हैं. आधुनिक हैंड ग्लाइडर काफी सुरक्षित और दिखने में प्लेन जैसा है. एक आम व्यक्ति भी इसे आराम से कुछ दूर दौड़ कर हवा में उड़ सकता है. ये हल्का होता है, इसलिए सिर्फ हवा के दबाव और गति से यह उड़ता रहता है. इसे उड़ने के लिए किसी ईंधन या इंजन की जरूरत नहीं पड़ती. (फोटोः वीडियोग्रैब/ट्विटर/Tansu Yegen) (ये खबर इंटर्न आदर्श ने लिखी है.)