scorecardresearch
 

विनायक चतुर्थी पर इस शुभ मुहूर्त में करें पूजा, दूर होंगे सारे विघ्न

हमारे शास्त्रों में विनायक चतुर्थी की महिमा का बहुत बड़ा महत्व है. इस बार विनायक चतुर्थी 30 नवंबर को है.

विनायक चतुर्थी विनायक चतुर्थी

भगवान गणेश को सभी देवताओं में सर्वप्रथम पूजनीय माना गया है. कोई भी मन्त्र, जाप या अनुष्ठान गणेश जी की पूजा के बिना सफल नही होता है. विनायक चतुर्थी पर भगवान गणेश की पूजा करके बड़े से बड़े विघ्न को भी आसानी से टाला जा सकता है. इसीलिये हमारे शास्त्रों में विनायक चतुर्थी की महिमा का बहुत बड़ा महत्व है. इस बार विनायक चतुर्थी 30 नवंबर को है.

विनायक चतुर्थी का शुभ मुहूर्त

चुतर्थी तिथि प्रारंभ- शाम 5 बजकर 40 मिनट (29 नवंबर)

चतुर्थी तिथि समाप्त- शाम 6 बजकर 5 मिनट (30 नवंबर)

शुभ मुहूर्त- सुबह 11 बजकर 20 मिनट से दोपहर 1 बजकर 33 मिनट

विनायक चतुर्थी पर कैसे करें भगवान गणेश की पूजा?

- सुबह के समय जल्दी उठकर स्नान आदि करके लाल रंग के वस्त्र धारण करें और सूर्य भगवान को तांबे के लोटे से अर्घ्य दें.

- उसके बाद भगवान गणेश के मंदिर में एक जटा वाला नारियल और मोदक प्रसाद के रूप में चढ़ाएं.

- गणेश भगवान को गुलाब के फूल और दूर्वा अर्पण करें तथा ॐ गं गणपतये नमः मन्त्र का 27 बार जाप करें.

- दोपहर पूजन के समय अपने घर मे अपनी सामर्थ्य के अनुसार पीतल, तांबा, मिट्टी अथवा सोने या चांदी से निर्मित गणेश प्रतिमा स्थापित करें.

- संकल्प के बाद पूजन करके श्री गणेश की आरती करें और मोदक बच्चों में बांट दें. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें